@import url('https://fonts.googleapis.com/css2?family=Yatra+Oney=swap'); अनवरत: 'सामाजिक दूरी' नहीं, सामाजिक सामंजस्य के साथ 'भौतिक दूरी'

रविवार, 29 मार्च 2020

'सामाजिक दूरी' नहीं, सामाजिक सामंजस्य के साथ 'भौतिक दूरी'

कोविद-19 वायरस से उत्पन्न महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने यह जरूरी पाया है कि लोग आपस में कम से कम 6 फुट की दूरी बनाए रखें। यह वायरस मनुष्य और मनुष्य की भौतिक निकटता से फैलता है। यदि इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति छींकता है या खाँसता है तो छींक या खाँसी के साथ बाहर निकले कणों में वायरस होते हैं और वे विशेष रूप से आँख, नाक, कान या मुख के ज़रीए निकट व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर उसे भी संक्रमित कर सकते हैं। सरकार, मीडिया संगठनों आदि ने इस पर चर्चा करते हुए मनुष्यों के बीच इस दूरी को बनाए रखने को आम तौर पर “सोशल डिस्टेंसिंग” हिन्दी में “सामाजिक दूरी” शब्द का प्रयोग किया है।

भौतिक दूरी (Physical Distancing)
“सोशल डिस्टेंसिंग” या “सामाजिक दूरी” शब्द इस संदर्भ में बिलकुल गलत शब्द है और बहुत भ्रामक है। इस वैश्विक आपदा के समय में जब इस से निपटने के लिए “सामाजिक निकटता” की अत्यन्त आवश्यकता है हम ठीक उसका विलोम शब्द “सामाजिक दूरी” का प्रयोग कर रहे हैं। “सामाजिक दूरी” का सही अर्थ यह है कि हम एक दूसरे का सहयोग करना बन्द कर दें। यदि ऐसा हुआ तो यह महामारी दुनिया के लाखों लोगों को लील लेगी। यदि कुछ ही समय में इस महामारी और उस से उत्पन्न प्रभावों से मरने वाले लोगों की संख्या करोड़ से ऊपर चली जाए तो कोई आश्चर्य नहीं होगा।

कल शाम जब मैंने इस मुहावरे पर बहुत विचार किया और उसके बाद मैंने इंटरनेट पर तनिक रिसर्च की तो पाया कि इस शब्द पर अमरीका की नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान और सार्वजनिक नीति के प्रोफेसर डैनियल एल्ड्रिच का कहा ​​है कि यह शब्द भ्रामक है और इसका व्यापक उपयोग का प्रभाव उल्टा पड़ सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन भी उसी निष्कर्ष पर पहुंचा है। पिछले हफ्ते एल्ड्रिच ने इसके स्थान पर "शारीरिक दूरी" शब्द का उपयोग करना शुरू कर दिया है।

एल्डरिच ने कहा है कि कोरोनोवायरस के प्रसार को धीमा करने के लिए किए गए प्रयासों में “शारीरिक दूरी” (Physical Distance) बनाए रखते हुए सामाजिक संबंधों को मजबूत करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना चाहिए। एक ट्वीट में, उन्होंने शारीरिक दूरी” के साथ “सामाजिक जुड़ाव" (Social Connectedness) के लिए बुजुर्ग पड़ोसियों के लिए काम करने वाले नौजवानों की तारीफ की है। उन्होंने कहा है कि यह लोगों के बीच सामाजिक संबंध आपदाओं से निपटने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व है। एल्ड्रिच ने अपने सहयोगियों और निर्णय लेने वाले अधिकारियों और संस्थाओँ से “सामाजिक दूरी” शब्द के उपयोग के बारे में अपनी चिंता प्रकट की है और कहा है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी और गैर सरकारी संगठन “सामाजिक दूरी” शब्द का उपयोग करने के स्थान पर “शारीरिक दूरी” शब्द का प्रयोग करना चाहिए। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने पिछले सप्ताह "शारीरिक दूरी" शब्द का उपयोग शुरू कर दिया है। डब्लूएचओ द्नवारा 20 मार्च को की गयी दैनिक प्रेस ब्रीफिंग में डब्ल्यूएचओ के महामारी-वैज्ञानिक मारिया वान केरखोव ने कहा है कि अब हम “शारीरिक दूरी” शब्द को “भौतिक दूरी” शब्द से बदल देना चाहते हैं, क्योंकि हम चाहते हैं कि लोग अभी भी आपस में जुड़े रहें, उन के सामाजिक सम्बन्ध पहले से अधिक मजबूत बनें।

एल्ड्रिच के शोधकार्य से पता चलता है कि मजबूत सामाजिक निकटता वाले समुदाय जिनमें लोग एक दूसरे के साथ जीवन भर की जानकारी साझा कर सकते हैं वे ही किसी भी बड़ी आपदा के बाद सबसे प्रभावी ढंग से जीवित रह कर बेहतर ढंग से पुनर्निर्माण करने में सफल हो सके हैं।  जिन लोगों और समुदायों को आपदाओं में सब से अधिक हानि हुई है और जो ठीक से पुनर्निर्माण नहीं कर सके वे कमजोर सामाजिक संबंध वाले थे जिनमें आपसी विश्वास और सामंजस्य की कमी थी। 1995 की शिकागो हीट वेव के, कैलिफोर्निया की 2018 कैंप फायर और 2011 में जापान में आए भूकंप और सूनामी की आपदाओं के समय  यह प्रमाणित हो चुका है कि ऐसे कमजोर सामाजिक संबंध वाले समुदाय आपदा में सब से पहले नष्ट होने वाले होते हैं।

 पैराडाइज, कैलिफ़ोर्निया में 2018 कैंप फायर में, एल्डरिच ने पाया कि वे लोग जीवित नहीं बचे थे जिनके बीच आपसी सामाजिक संबंध मजबूत नहीं थे । इसके विपरीत जिन समुदायों में मजबूत सामाजिक सामंजस्य था वे सभी को अपने घरों से बाहर निकालने और मदद करने में सक्षम रहे। उन समुदायों में अविश्वसनीय रूप से किसी की मृत्यु नहीं हुई। 

इस कारण पश्चिम के अनेक विशेषज्ञों का मत है कि वर्तमान भाषा को बदलना चाहिए। अर्बाना विश्वविद्यालय में नगरीय और क्षेत्रीय नियोजन के प्रोफ़ेसर रॉबर्ट ओलशनस्की ने कहा है कि “सामाजिक दूरी” मुहावरे में एक विरोधाभास है।  वास्तव में हम परस्पर एक दूसरे से छह फीट दूर रहने के लिए सहमत होते हुए अधिक सहयोगी और सामाजिक हो रहे हैं। इस से हमारी सामाजिक निकटता में वृद्धि हुई है। जब कि “सामाजिक दूरी” 'शब्द का अर्थ है कि हमें एक ऐसा समाज चाहिए जिसमें लोग अलग-अलग रहें।  लोगों के बीच मजबूत सामाजिक संबंध न केवल महामारी का मुकाबला करने के लिए आवश्यक हैं, बल्कि पुनर्निर्माण के लिए बहूत जरूरी हैं।

इतिहास ने हमें बार-बार सिखाया है कि सहयोगी, पारस्परिक रूप से सहायक समुदाय ही हैं बड़ी आपदाओं से लगातार उबरने में सबसे सफल रहते हैं। इस कारण मेरा बहुत दृढ़ता के साथ समाचार माध्यमों के संपादकों, संवाददाताओं, एकंरों और सोशल मीडिया के एक्टिविस्टों से आग्रह है कि हमें भारत में अपनी भाषा को बदल देना चाहिए और तुरन्त “सामाजिक दूरी” (Social Distancing) शब्द के स्थान पर “भौतिक दूरी” (Physical Distancing) शब्द का उपयोग आरंभ कर देना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: