Friday, May 27, 2011

दवाइयों की जन्मपत्री .................... डाक्टर देवता-4


स कहानी के वाचक को दाहिने हाथ में तंत्रिका संबंधी शिकायत हुई थी, उस ने अपने मित्रों से सहज उल्लेख किया तो एक मित्र ने न्यूरोफिजिशियन से समय ले लिया। वाचक ने डॉक्टर के पास अकेले जाने के स्थान पर अपने एक दवा प्रतिनिधि मुवक्किल को साथ ले लिया। वहाँ उसे एक और दवा प्रतिनिधि मुवक्किल मिल गया। उन्हों ने वाचक को क्रम तोड़ कर डाक्टर के कक्ष में घुसा दिया जिस पर डाक्टर ने नाराज हो कर उन्हें बाहर निकाल दिया। वाचक डाक्टर को दिखाए बिना ही वापस जाना चाहता था। लेकिन दोनों दवा प्रतिनिधियों ने उसे डाक्टर को दिखाने के लिए मना लिया। डाक्टर ने वाचक को ठीक से देखा और दवाइयाँ लिख दीं। अगले दिन सुबह से उस ने दवाइयाँ लेना आरंभ कर दिया। उस ने दिन में तीन बार दवाइयाँ लीं, लेकिन उसे हर बार दवा लेने के कुछ घंटे बाद नींद सताने लगती और वह सो जाता।  उस से अगले दिन उसे कब्ज हो गई। दिन भर उबासियाँ आती रहीं। एक तरह का नशा सा उस पर छाया रहता। देखने में दृश्यों की शार्पनेस गायब हो गई। सफेद रोशनी में रंग नजर आने लगे। रात को अपने दफ्तर में बुक रैक से टकरा कर पैर घायल हो गया। अब आगे पढ़िए .....
भाग-4 
वाइयाँ लेते दो दिन हो चुके थे, तीसरे दिन नींद जल्दी ही खुल गई। शायद यह पिछले दिन जल्दी सोने का परिणाम था। उठते ही चार-पाँच गिलास पानी पिया और अपने कार्यालय में आप बैठा। रात को आज की फाइलें पूरी नहीं देख पाया था, उन्हें देखने लगा। पत्नी अपने समय से उठी और रसोई में जा कर चाय बनाने लगी। फिर दिन बाकायदे आरंभ हो गया। यह दिन भी पिछले दिन की तरह ही था। फर्क था तो सिर्फ इतना की आज तमाम कोशिशों के बावजूद भी परिणाम कुछ नहीं रहा था। कब्ज ने पूरी तरह कब्जा कर लिया था। हालांकि उस से किसी तरह का प्रत्यक्ष दुष्परिणाम दिन भर नजर नहीं आया था। अदालत में दो मुकदमे ऐसे थे जिन में नौकरी से छंटनी किए गए दो कर्मचारी हर पेशी पर आते थे। उन की गवाही होनी थी। लेकिन हर बार यह कह कर गवाही को टाल दिया जाता था कि समझौते के प्रयत्न चल रहे हैं। नियोजक कंपनी के वकील से अदालत में पूछा गया कि क्या कोई संभावना बनी, तो उस ने जवाब दिया कि कंपनी के प्रबंधक से बात नहीं हो पा रही है। यह बहुत चिढ़ाने वाली बात थी। एक और तो मुकदमे में प्रगति रुकी हुई थी और दूसरी ओर प्रबंधक समझौते में कोई रुचि नहीं दिखा रहा था। कर्मचारियों ने जज को कहा कि वे कुछ अधिक नहीं मांग रहे हैं। जो राशि उन्हें छंटनी के समय देने का प्रस्ताव नियोजक ने किया था, उस पर बैंक ब्याज ही और मांग रहे हैं। तभी प्रबंधक के वकील ने चिढ़ कर कहा कि उस वक्त क्यों नहीं ले लिया, अब ब्याज भी क्यों दिया जाए? मुझे लगा कि कर्मचारियों को दबाने का प्रयत्न किया जा रहा है। मुझे इस पर ताव आ गया और मैं प्रबंधक के वकील से अदालत में ही उलझ पड़ा, और उलझता चला गया। मामले को गर्म होते देख जज ने शांति बनाने का उपक्रम किया और वहाँ उपस्थित सभी वकीलों को अपने चैंबर में आ कर कॉफी पीने का न्यौता दे दिया।

चैंबर में जज मुझे समझाता रहा कि मुझे इस तरह गुस्सा नहीं करना चाहिए था। बात मुझे समझ आ रही थी। मैं गुस्सा किये बिना भी उस बात का उत्तर दे सकता था। लेकिन यह गुस्सा मुझे अचानक आया था, और उस पर मेरा कोई काबू नहीं था। मैं अपने ही मित्र वकील से उलझ पड़ने पर शर्मिंदा भी था। लेकिन क्या कहता? मैं ने जज को कहा कि हम यदि गुस्सा न करें तो हमें जजों की कॉफी पीने को कहाँ मिले। लेकिन मुझे समझ आ रहा था कि यह भी उन दवाओं का असर हो सकता था जो मैं इन दिनों ले रहा था। मैं ने निश्चय  किया कि शाम को मैं उन दवाओं के बारे में जानकारी अवश्य करूंगा, जिन्हें मैं ले रहा था।

शाम को आ कर मैं ने अंतर्जाल पर दवाओं की जन्मपत्री की खोज खबर ली। पहली दवा थी ऑम्नाकोर्टिल, इसे मुझे प्रतिदिन एक लेना था। पहले और दूसरे दिन 40 मिग्रा, तीसरे और चौथे दिन 30 मिग्रा, फिर दो दिन 20 मिग्रा और अंतिम दो दिन 10 मिग्रा। अंतर्जाल पर तलाशने पर इस के साइड इफेक्ट्स इस तरह मिले -  

Steroids like Omnacortil are life saving drugs but can cause number of side effects on prolonged use like change your skin (rough skin, stretch marks), hair loss (baldness), mood changes (aggressive behavior), headaches, sexual changes (in males : breast enlargement and lack of erection), kidney and liver problems.
 
इस दवा के साइड इफेक्ट्स लंबे समय तक उपयोग से आने थे। इसलिए इस पर मैं ने अधिक ध्यान नहीं दिया। अब इस उम्र में त्वचा वैसे ही रुखी हो चली थी, सिर के बाल पहले ही जा चुके थे, यौन परिवर्तनों से भी अब क्या फर्क पड़ना था? हाँ किडनी और लीवर दोनों जरूर चिंता का विषय थे। मैं ने सोच लिया कि आठ दिन के बाद इस दवा को तो कभी नहीं लेना है।

दूसरी दवा टोल्पा-डी थी। तलाश करने पर यह एक एंटीइन्फ्लेमेटिक दवा निकली। इस के साइड इफेक्ट्स क्या थे? ये भी सर्च से पता नहीं लगे। तीसरी दवा ज़ेन-100 थी इस का जेनेरिक नाम कार्बामेजेपाइन था। जब इस के बारे में पढ़ा, तो पता लगा कि इसे उपयोग करने के विशेष निर्देश भी हैं, जैसे-

Special Instruction :

1. Keep all appointments with your doctor and the laboratory so that your doctor can monitor your response to this drug.
2. Your dose may need to be adjusted frequently, especially when you first take carbamazepine.
3. You probably will have blood and urine tests and eye examinations periodically to check how this medication is affecting you.
4. Carbamazepine can cause dizziness, blurred vision, drowsiness, and incoordination.
5. Do not drive a car, operate any dangerous machinery or do anything that requires alertness until you know how this drug affects you.
6. Do not stop taking this medication until your doctor specifically tells you to do so.
7. Stopping the drug abruptly can cause seizures.
8. Your doctor probably will want to decrease your dose gradually.
9. Take carbamazepine exactly as your doctor has directed.
10. Do not take more or less of it than as instructed.
11. If you continue to have seizures, contact your doctor.
12. Be sure that you have enough medication on hand at all times.
13. If you give this drug to a child, observe and keep a record of the child's moods, behavior, sleep patterns, ability to perform tasks requiring thought, and seizures. 

और इस के साइड इफेक्ट्स इस तरह बताए गए थे-
1. Dizziness; blurred vision; hallucinations; insomnia, agitation, and irritability (in children); drowsiness; tiredness; confusion; headache; incoordination; speech problems; dry mouth; mouth or toungue irritation; If these effects last for more than few days, contact your doctor.
2. Nausea, vomiting, abdominal pain, loss of appetite, diarrhoea or constipation. Take the medication with meals. If these problems persist, contact your doctor.
3. Fever; sore throat; mouth sores; easy bruising; thiny purple-colored skin spots; yellowing of skin or eyes; irregular heartbeat; faintness; swelling of feet and lower legs; bloody nose; unusual bleeding; red, itchy skin rash
. Contact your doctor immediately.

न्हें पढ़ कर मैं एक-दम सन्न रह गया। मुझे अब पता लग रहा था कि मुझे दुनिया इतनी रंगीन क्यों दिखाई दे रही थी? दृश्यों की शार्पनेस क्यों गायब हो गई थी? मैं ने बुक रैक से ठोकर खा कर अपना ही पैर कैसे घायल कर डाला था? मैं अपने मित्र वकील से क्यों उलझ पड़ा था? मुझे इतनी भारी कब्ज क्यों हो गई थी? आदि...आदि। इतनी सारी बातें थीं और मुझे बताई तक न गईं। न डाक्टर ने, न केमिस्ट ने और न ही मेरे साथ गए दवा प्रतिनिधि नवानी ने। मुझे सब से ज्यादा गुस्सा तो इस बात पर आ रहा था कि उन्हों ने मुझे ड्राइविंग के लिए मना क्यों नहीं किया था। मैं एक्सीडेंट ही कर बैठता तो?  मैं ने तुरंत नवानी को फोन किया। उसे इस दवा के बारे में बताया। वह कहने लगा।
-मैं ने उस दिन ही कहा था कि यह दवा ठीक नहीं है। पर आप खुद ही कहते रहे कि जो डाक्टर ने लिखा है वे सब दवाएँ लेनी हैं और उसी मात्रा में लेनी हैं। इसलिए मैं कुछ भी न बोला, और मुझे भी कहाँ इतना सब पता था इस दवा के बारे में। मैं ने तो कभी यह दवा बेची नहीं। 

वानी के इतना कह देने के बाद मैं उस से क्या कहता? मैं ने उसे जल्दी से जल्दी मिलने को कहा। लेकिन वह शहर से बाहर था, वह भी पूरे सात दिनों के लिए। अब जो भी निर्णय लेना था, मुझे ही लेना था। मैं ने दवा का सारा साहित्य एक बार फिर पढ़ा। मुझे लगा कि इस दवा को एक दम बंद करना भी ठीक नहीं है। हो सकता है सीजर्स हों। वै कैसे होंगे? इस का पता मुझे नहीं था नवानी भी बाहर था। मैं ने तय किया कि इस की मात्रा कम कर दी जाए। अब मैं ने निश्चय किया कि मैं यह दवा सिर्फ सुबह नाश्ते और शाम को भोजन के साथ ही लूंगा। रात को सोने के पहले मैं ने एक काम और किया कि आयुर्वेदिक चूर्ण पंचसकार की एक खुराक गर्म पानी के साथ ले ली। जिस से कम से कम कब्ज को तो बेकब्जा कर सकूँ। 

... क्रमशः
Post a Comment