Sunday, June 14, 2009

ज़िन्दगी यूँ ही गुज़र जाए ज़रूरी है क्या : पुरुषोत्तम 'यक़ीन' की ग़ज़ल

रविवार के अवकाश में आनंद लीजिए पुरुषोत्तम 'यक़ीन' की  एक ग़ज़ल का 
 

ज़िन्दगी यूँ ही गुज़र जाए ज़रूरी है क्या
  • पुरुषोत्तम 'यक़ीन'
बात होठों पे चली आए ज़रूरी है क्या
दिल में तूफान ठहर जाए ज़रूरी है क्या

कितने अंदाज़ से जज़्बात बयाँ होते हैं
वो इशारों मे समझ जाए ज़रूरी है क्या

क्या वो करते हैं? कहाँ जाते? कहाँ से आते
तुम से हर बात कही जाए ज़रूरी है क्या

नाव टूटी है तो क्या खेना नहीं छोड़ूंगा
नाव लहरों में ही खो जाए ज़रूरी है क्या

मुश्किलें देख के तू परेशाँ क्यूँ है
ज़िन्दगी यूँ ही गुज़र जाए ज़रूरी है क्या

कह दिया उस को जो कहना था समझ जाओ 'य़कीन'
बार-बार आप को समझाएँ ज़रूरी है क्या


********************************
Post a Comment