Friday, May 6, 2011

अग्रवाल जी की भाव विह्वलता और साढू़ भाई का प्रेम

भाव विह्वल
डॉ.गिरिजाशरण अग्रवाल 
पॉवर पाइंट प्रस्तुति के बाद जैसे ही सब अतिथि मंचासीन हुए, सब से पहले हिन्दी साहित्य निकेतन के सचिव डॉ. गिरिराज शरण अग्रवाल बोलने खड़े हुए। आयोजन के मुख्य यजमान होने के कारण यह उन का अधिकार था कि वे अतिथियों का स्वागत कर उन का आभार प्रकट करें। लेकिन बेटी द्वारा प्रस्तुत पॉवर पाइंट प्रस्तुति ने उन्हें अत्यन्त भावविह्वल कर दिया था। वे उसी से आरंभ हुए, उन के स्वर से लग रहा था कि आत्मजा ने उन्हें जो  सम्मान दिया था उस के स्नेह से उत्पन्न आह्लाद उन्हें रुला देगा, जिसे वे जबरन रोके हुए थे। उन्हों ने बताया कि इस प्रस्तुति के विनिर्माण को दोनों बेटियों ने उन से छुपाया और उन के सो जाने के बाद रात-रात भर जाग कर उसे तैयार किया। निस्संदेह यह प्रस्तुति उन के जीवन की अद्भुत घटना थी जिसे वे शायद जीवन भर विस्मृत न कर सकेंगे। अपनी भावविह्वलता को नियंत्रित कर लेने के उपरांत उन्हों ने सभी अतिथियों का स्वागत किया और हिंदी साहित्य निकेतन की स्थापना से ले कर आज तक किए गए स्वयं के अथक प्रयत्नों के साथ मित्रों के सहयोग का स्मरण भी किया। उन्होंने कार्यक्रम के अध्यक्ष अशोक चक्रधर को अपना छोटा भाई बताते हुए उन के योगदान की चर्चा की। उन्हों ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री 'निशंक' की उपस्थिति में यह भी कहा कि निकेतन का विकास बिना किसी सरकारी सहायता के वे कर पाए हैं। उन के स्वर में सहायता न मिल पाने का दर्द अधिक था।

गिरिराज शरण जी के इस वक्तव्य के उपरांत धड़ाधड़ एक के बाद एक पुस्तकों और पत्रिकाओं के विमोचन हुए। बंडलों का खोला जाना, फिर सभी अतिथियों के पास एक-एक प्रति का पहुँचना और फिर सभी के द्वारा एक-एक प्रति को दर्शकाभिमुख कर प्रदर्शित कर चित्र खिंचवाना, आज कल विमोचन की सामान्य प्रक्रिया हो चली है, जो निभाई गई। मौके की नोईयत को देखते हुए यह काम इतनी त्वरित गति से हुआ कि कभी-कभी कोई अतिथि विमोचित पुस्तक/पत्रिका का अंतिम कवर पृष्ठ भी दर्शकाभिमुख कर देता और पड़ौसी अतिथि उसे ठोसा देकर उस का ध्यान आकर्षित करता और उस की आमुख दर्शकाभिमुख करवाता। इस समूह विमोचन में मुख्यमंत्री निशंक ने एक अपनी ही पुस्तक का विमोचन भी किया। जिस के बारे में गिरिराज जी ने बताया कि मंच से उस के विमोचन की घोषणा होने तक भी उन्हें यह पता नहीं लगने दिया गया था कि वे अपनी ही पुस्तक का विमोचन करने जा रहे हैं।
ब्लागिरी पर पुस्तक का विमोचन
स के उपरांत 64 ब्लागरों का सम्मान आरंभ हो गया। अब मंच संचालन का दायित्व एक बार पुनः रविन्द्र प्रभात ने अपने हाथों में ले लिया था। ऐसा दृष्य था जैसे किसी स्कूली प्रतियोगिता का समापन समारोह हो और प्रतियोगी बालक-बालिकाओं को पुरस्कार वितरित किए जा रहे हों। ब्लागरों में भी पुरस्कार प्राप्त करने का उत्साह बालकों जैसा ही था, वे भी पूरी तरह आह्लादित थे। रविन्द्र जी एक नाम पुकारते, फिर वह दर्शकों में से निकल कर मंच तक पहुँचता, अपना पुरस्कार लेता, तब तक अगले ब्लागर का नाम लिया जा रहा होता। कुछ ही देर बाद दर्शक यह पता करने में असमर्थ हो गए कि जो ब्लागर सम्मान ग्रहण कर रहा है, वह कौन है। दर्शकों की चौथाई संख्या तो पुरस्कृत व्यक्तियों की ही थी। इस बीच दर्शकों के बीच हलचल बढ़ गई और शोर भी। हर पुरस्कार पर कम या अधिक करतल ध्वनि गूंज उठती। समय सात से ऊपर हो चुका था। पुरस्कार वितरण, ग्रहण, दर्शन और व्यवस्था में सब इतने मशगूल थे कि आमंत्रण पत्र में वर्णित दूसरा सत्र और उस के अतिथि सभी से विस्मृत हो गए।

मुझे मंच पर एक लंबा सा दाढ़ी वाला नौजवान दिखा जो एक कैमरा स्टेंड पर अपना कैमरा टिकाए चित्र ले रहा था। । मैं पहली बार उसे देख रहा था, फिर भी तुरंत ही पहचान गया।  मैं ने पास बैठे शाहनवाज को उसे दिखा कर पूछा -इसे पहचान रहे हो? वे कुछ देर विस्मय से उस नौजवान को देखते रहे, फिर कहा -कहीं यह सिरफिरा तो नहीं? मैं ने बताया वही है, यह भी कहा कि इस से समारोह के बाद मिलेंगे। हम फिर पुरस्कार समारोह के दर्शन में व्यस्त हो गए। कुछ ही देर में मैं ने देखा कि शाहनवाज पास की सीट से गायब हैं। तभी मैं ने रतनसिंह शेखावत को हॉल से बाहर जाते देखा। वे फरीदाबाद में रहते हैं और मेरी सोच थी कि समारोह की समाप्ति के बाद मैं उन के वाहन पर लिफ्ट ले कर निकल लूंगा। शोभा वहीं बेटी के घर टिकी हुई थी। हमें अगले दिन वापस भी आना था। मैं भी तुरंत उन के पीछे बाहर की ओर लपका। बाहर निकल कर देखा तो बहुत लोग लॉबी में आपस में मिलने और विमोचित पुस्तकें खरीदने की जुगाड़ में थे। रतनसिंह जी उसी भीड़ में खो गए थे। कुछ ही देर में मैं ने उन्हें तलाश लिया। मैं उन से पहली बार प्रत्यक्ष हो रहा था।
रतनसिंह शेखावत
हले भी दो बार अवसर था जब हम मिल सकते थे। लेकिन जब मैं फरीदाबाद में होता तो वे व्यस्त होते। हम नहीं मिल सके। वे मेरे लिए एक महत्वपूर्ण ब्लागर हैं, इस मायने में कि वे अपने ब्लाग के माध्यम से राजस्थान के इतिहास की अनेक अलिखित कथाओं को सामने ले कर आए हैं। मेरी भी इस काम में रुचि रही है। हम मिले तो कुछ औपचारिक बातों के बाद वे एक कहानी बताने लगे कि कैसे शेखावतों का एक हिस्सा राजस्थान से गायब हो गया था और कैसे उन के वंशज अब उत्तर प्रदेश में मिल गए। मेरे पूछने पर उन्हों ने बताया कि वे बाइक से आए हैं। मैं ने उन्हें बताया कि मैं तो उन से लिफ्ट ले कर फरीदाबाद लौटने की सोचता रहा। उन्हों ने ही मुझे सुझाया कि मोहिन्द्र कुमार जी जाएँगे मैं उन के साथ निकल लूँ। उन से परिचय भी कराया। मैं ने मोहिन्द्र जी से कहा तो वे मुझे वापसी में फरीदाबाद सेक्टर 28 तक लिफ्ट देने को तैयार हो गए। मेरा रात्रि को ही फरीदाबाद लौटना तय हो गया था। यह अच्छा ही हुआ कि यह रमेश कुमार जैन सिरफिरा से मिलने के पहले ही तय हो गया। पहले उन से मिल लिया होता तो शायद वे मुझे अपने घर ले जा चुके होते। मैंने वहाँ आस पास निगाह दौड़ाई तो शाहनवाज दिखाई न दिए। पुस्तक काउंटर पर पुस्तकों को घेर कर लोग खड़े थे। मुझे वहाँ तक खुद के पहुँचने की संभावना क्षीण नजर आई तो मैं वापस हॉल में चला गया। पुरस्कार वितरण अंतिम  दौर में था। इस बीच मेरी मुलाकात निर्मला कपिला जी से हो गई। जैसा चित्र में वे दिखाई देती हैं उस से अधिक सुंदर और ममताशील थीं। मैं सोचता रहा कि यदि मेरी कोई बड़ी बहिन होती तो ऐसी ही होतीं। मैं उन की कहानियों का मुरीद हूँ। ऐसी सच्ची कहानियाँ मुझे कहीं नहीं मिलीं। वे पात्रों के चरित्र चित्रण में जरा कंजूस हैं और बीच की बहुत सी घटनाओं का अनुमान पाठकों पर छोड़ देती हैं। वे अपनी कहानी को सीधे मुख्य पात्रों के माध्यम से ही कहती हैं, यदि वे कंजूसी और पाठकों के अनुमान का सहारा न लें और कुछ सहायक पात्रों का उपयोग करने लगें तो उन की बहुत सी कहानियाँ हैं जो उपन्यास बनने को तैयार बैठी हैं। यह उन की किस्सागोई की विलक्षणता है कि वे एक उपन्यास की विषय वस्तु आप को एक कहानी में दे देती हैं। हो सकता है कि वे भविष्य का साहित्य रच रही हों। जब उपन्यास के लिए पाठक के पास वक्त ही नहीं होगा और वे एक छोटी सी कहानी में सारी विषय वस्तु को जानना चाहेंगे।
निर्मला कपिला जी, सम्मान ग्रहण करते हुए
पिला जी के साथ उन के पति भी थे। उन का स्वभाव लगा बहुत ही सरल प्रतीत हुआ। कहते हैं कि किसी पुरुष की सफलता में किसी स्त्री का हाथ अवश्य होता है। उन से मिल कर मुझे लगा कि कपिला जी के इतनी अच्छी कथाकार होने और एक नौजवान विद्यार्थी की तरह इस आयु में ग़ज़लों पर अभ्यास कर के उस में सफलता हासिल कर प्रसन्नता प्राप्त करने में निर्मला जी का बखूबी साथ दिया है। उन की सफलता के एक स्तंभ वे ही हैं। वे दोनों हॉल में मेरे समीप ही बैठ गए। हम बतियाने लगे। इस बीच सम्मान समारोह पूरा हो कर मंचासीन लोगों के वक्तव्य आरंभ हो चुके थे। किस ने क्या कहा इस का ब्यौरा उस दिन जारी की गई प्रेस विज्ञप्ति, उस के आधार पर बने समाचारों और ब्लागरों व कुछ पत्रकारों द्वारा समाचार पत्रों और वेबसाइटों पर प्रस्तुत विवरणों में आप लोग पढ़ चुके होंगे। अतिरिक्त रूप से मैं इतना ही कहना चाहूंगा कि मुख्यमंत्री ने अपने भाषण का सारा जोर इस बात में लगा दिया कि उन्हों ने उत्तराखंड को विकास दिया है, गंगा को साफ किया है और पर्यटकों को सुविधाएँ प्रदान की हैं। वे हर किसी को उत्तराखंड यात्रा पर बुलाने का न्यौता दे रहे थे। उन्हों ने अग्रवाल जी की बहुत प्रशंसा की कि उन्हों ने असुविधाओं के बीच प्रकाशन संस्थान स्थापित कर उत्तराखंड के लेखकों को एक मंच प्रदान कर हिन्दी के प्रसार में महत्वपूर्ण योगदान किया। उन्हों ने अग्रवाल जी को किसी तरह की सुविधा उपलब्ध कराने या सहायता प्रदान करने का कोई आश्वासन तक नहीं दिया। अभी अभी विवादों के घेरे में आये निशंक फिर से किसी नए विवाद को जन्म नहीं देना चाहते थे।  उधर चक्रधर जी ने अपनी लच्छेदार शैली में बोलते हुए कहा कि वे अग्रवाल जी के भाई नहीं हो कर साढू़ भाई हैं। शायद भाई से अधिक प्रेम साढ़ू भाई में होता है, वहाँ आपसी प्रेम के साथ-साथ पत्नियों का प्रेम भी तो जुड़ जाता है। 
Post a Comment