Friday, April 15, 2011

बाकी पूजा तू झेल

हुत दिनों से ये कहा जा रहा था कि डूंगरली और इंद्रगढ़ जाना है। पर मौका ही नहीं मिल रहा था। इस बार नवरात्र के अंत में यह मौका आ गया। बेटे को बंगलूरू से भोपाल तक किसी आवश्यक काम से आना पड़ा और वह वहाँ से कोटा चला आया। उस के आने का समाचार मिलते ही बेटी भी अवकाश ले कर शनिवार की रात्रि को घर आ पहुँची।  रविवार की सुबह हम अपनी आठवें वर्ष में चल रही मारूती-800 से डूंगरली के लिए रवाना हुए। डूंगरली कोटा जिले की पीपल्दा तहसील का एक छोटा सा गाँव है, और पंचायत मुख्यालय भी। इस गाँव का कोई बड़ा महत्व नहीं। इस के पास ही कोई दो किलोमीटर दूर एक अन्य छोटा गाँव है 'खेड़ली बैरीसाल' इस गाँव  में मुझ से पाँचवीं पीढ़ी और उस के पहले कोई दो-तीन पीढ़ी तक के पूर्वज रहा करते थे।  डूंगरली में गाँव के बाहर एक ऊंचे गोल चबूतरे पर एक चौकोर चबूतरा इस पर एक आदमकद हनुमान मूर्ति स्थापित है। इस के बारे में यह किवदन्ती प्रचलित है कि हनुमान मूर्ति पहले लकड़ी की थी, गाँव वाले उन्हें बहुत मानते थे और हनुमान जी गाँव के रक्षा करते थे। कभी चोरी चकारी तक न होती थी। फिर एक रात कोई चोर गाँव में घुस आया तो हनुमान जी ने उसे ठोक-पीट कर अपने दाहिने पैर के नीचे दबा लिया। गाँव वालों की नींद खुली तो चोर मूर्ति के नीचे दबा मिला। पर इस ठोक-पीट में लकड़ी की मूर्ति क्षतिग्रस्त हो गई। गाँव वालों ने वहाँ प्रस्तर मूर्ति बनवा कर लगा दी। इस किवदंती के कारण इस मूर्ति की मान्यता हो गई। हमारे पूर्वजों ने भी इसी मूर्ति में अपने इष्ट को देखा और हर काम में उन का दखल स्थापित हो गया। शादी हो, संतान जन्म हो तो हनुमान जी को ढो़कना जरूरी। पहली पुरुष संतानों के केशों का प्रथम मुंडन यहीं होने लगा। मेरा भी प्रथम मुंडन पाँच वर्ष की उम्र में यहीं हुआ था। 

हाड़ौती में हाड़ा राजपूतों का राज्य स्थापित होने के पहले लंबे समय तक ब्राह्मण राज्य करते रहे। बाद में यह ब्राह्मण राज्य नष्ट होने पर राजवंश के लोगों को चित्तौड़ राज्य में शरण लेनी पड़ी। कुछ सौ वर्षों तक वहाँ रहने के बाद उन के वंशज पुनः हाड़ौती में लौट आए। यहाँ के निवासियों से उन्हें सम्मान मिला, राजा तो वे हो नहीं सकते थे। लेकिन वे वापस लौट कर जहाँ भी बसे वहाँ तुंरत ही ग्राम-गुरु हो गए और हाड़ा सामंतों से भी उन्हें सम्मान मिला। पूर्वजों के राजा होने का स्वाभिमान शायद उन में अब भी शेष था। इस लिए यदि कभी किसी सामंत से टकराहट हो जाती तो वे गाँव छोड़ दिया करते थे। यही कारण हमारे पूर्वजों का खेड़ली ग्राम को छोड़ने का रहा। उन्हों ने सामंत से अपने रिश्ते न तोड़े लेकिन गाँव छोड़ दिया। मेरे दादा जी कहा करते थे कि उन के पिताजी खेड़ली छोड़ कर गैंता आ गए थे और कहते थे कि खेड़ली जाना तो सही पर कभी रात वहाँ न रुकना। गैंता कोटा राज्य का भाग होते हुए भी काफी स्वतंत्र था। वहाँ किसी तरह के व्यापार पर कोई टैक्स न था। चंबल के किनारे होने के कारण नदी में चलने वाली नावों से माल गैंता आता और इलाके के लोग वहीं से माल खरीदते। इस तरह गैंता व्यापारिक केंद्र होने से बहुत संपन्न था। आज उसे भले ही गाँव की संज्ञा दी जाती हो, पर सत्तर-अस्सी वर्ष पहले तक वह एक नगर की भाँति ही रहा होगा। 

पारिवारिक कामों से मैं बचपन से ही डूंगरली जाता रहा। वहाँ जो मूर्ति अब स्थापित है वह मुझे आकर्षित करती रही। इस मूर्ति में हनुमान जी के बाएँ पैर के नीचे एक शत्रु दबा हुआ है, दायाँ पैर नीचे भूमि पर है, दायाँ हाथ मुड़ कर कमर पर टिका हुआ है और बायाँ हाथ सिर के ऊपर है। यह एक नृत्य मुद्रा है। जैसे हनुमान जी शत्रु को परास्त कर उस की छाती पर पैर रख कर नृ्त्य कर रहे हों। किवदन्ती को बचपन में मैं सही मानता था। लेकिन धीरे-धीरे उस पर से विश्वास समाप्त हो गया और मैं उस मूर्तिकार का प्रशंसक होता चला गया जिस ने उस मूर्ति को गढ़ा था। उस ने शत्रु को परास्त करने के बाद के उल्लास को उस मूर्ति में व्यक्त करने का प्रयत्न किया था। बाद में मुझे यह भी पता लगा कि इस रूप की यह मूर्ति अकेली नहीं है। भीलवाड़ा जिले में एक प्राचीन स्थान मैनाल में और जयपुर के जौहरी बाजार के प्रसिद्ध हनुमान जी की मूर्तियाँ भी इसी मूर्ति की प्रतिकृति हैं, जैसे एक ही मूर्तिकार ने इन तीनों मूर्तियों को गढ़ा हो।  

कोटा से कोई बीस किलोमीटर चले होंगे कि आगे एक कार और दिखाई दी। उसे देख पत्नी जी कहने लगी ये भी कहीं पूजा करने जा रहे हैं, कार में पीछे माला दिखाई दे रही है। मैं ने कार की ओर ध्यान दिया तो पता लगा वह चाचा जी के लड़के राकेश की कार है। कोई पाँच किलोमीटर तक मैं उस कार के पीछे-पीछे चलाता रहा। पर वह अत्यन्त धीमी चाल से चल रही थी। आखिर मैं ने अपनी कार आगे निकाल ली। रास्ते में इटावा में रुक कर हमने पान लिए। यह पान की दुकान मेरे एक मित्र की होती थी, लेकिन वह या उस के परिवार का कोई दुकान पर दिखाई न दिया। पूछने पर पता लगा कि मित्र इटावा छोड़ कर श्योपुर रहने लगा है, दुकान किराए पर दे दी है। इटावा से ही एक सड़क गैंता तक जाती है। गैंता में हमारे पूर्वजों चार पीढ़ियों ने निवास किया है। अभी भी वहाँ परिवार की कुछ कृषि भूमि, मकान और दो दुकानें मौजूद हैं। मैं ने पत्नी और बच्चों को उकसाया। गैंता देखना हो तो वापसी में चल चलेंगे। उन में से किसी ने कभी इस गाँव में कदम भी न रखा था। वे कहने लगे चले चलेंगे। 

म डूंगरली मंदिर पर पहुँचे तो जैसी मुझे आशा थी हनुमान मूर्ति पर श्रृंगार किया हुआ था। लेकिन इस से मूर्ति के दोनों हाथ दब गए थे और दिखाई ही नहीं पड़ रहे थे। इस श्रृंगार ने मूर्ति के उस स्वाभाविक सौन्दर्य और भाव को नष्ट कर दिया था जिस के लिए मूर्तिकार ने उसे गढ़ा था। मेरा मन श्रृंगारिकों के प्रति निराशा से भर गया। पहले जब हम आते थे तो कई दिनों से मूर्ति का श्रंगार नहीं हुआ होता था। हम मूर्ति को स्नान करवा कर उस पर चमेली के तेल और सिंदूर चढ़ाते थे। फिर सफेद और रंगीन पन्नियों से इस तरह सजाते थे कि मूर्तिकार का भाव सौन्दर्य द्विगुणित हो जाए। लेकिन जिस तरह का श्रंगार किया हुआ था उस पर ऐसी गुंजाइश न थी। हम ने दर्शन किए। पत्नी जी ने पूजा की सामग्री दी जिस से पूजा कर दी गई। तेल की पूरी शीशी मूर्ति में हनुमान के पैरों तले दबे शत्रु पर उड़ेल दी गई, फिर वहीं कुछ सिंदूर पोत कर चांदी वर्क चढ़ा दिया गया। शेष पूजा भी वहीं शत्रु पर समर्पित हो गई। कुछ ही देर में चाचा जी, राकेश, राकेश की पत्नी और पुत्र व राकेश के छोटे भाई का पुत्र भी वहाँ पहुँच गए। उन की पूजा आरंभ हो गई। यह पूजा भी पूरी तरह शत्रु को ही झेलनी पड़ी।   मैं हनुमान की शत्रु पर हुई कृपा पर मुस्कुरा उठा। लगता था हनुमान जी भी अपने सैंकड़ों भक्तों द्वारा बार-बार की जा रही पूजा से तंग आ गए हों और पैर के नीचे दबे शत्रु से कह रहे हों भाई तेरी वजह से मुझे इतना महत्व मिला है, मुझे तो इसी श्रंगार में रहने दो, मैं सदियों से नृत्य मुद्रा में खड़े-खड़े थक भी गया हूँ, अब अधिक पूजा मुझ से झेली नहीं जाती, बाकी की पूजा तू ही झेल! चाचा जी भोजन तैयार कर लाए थे। हम से बहुत आग्रह किया कि हम भी भोजन करें। लेकिन हम चल दिए, हमें गैंता भी जाना था। 
Post a Comment