Thursday, May 5, 2011

परिकल्पना सम्मान : लोकसंघर्ष के जनसंघर्ष से साहित्य निकेतन की उत्तर आधुनिकता तक

मुख्यमंत्री 'निशंक' की प्रतीक्षा में समारोह पौने दो घंटे देरी से चल रहा है। जैसे ही यह बात मैं ने नजदीक बैठे शाहनवाज को कही, उन्हों ने चिंता से कहा। आगे के कार्यक्रमों का पता नहीं क्या होगा। अभी अभी हिन्दी साहित्य निकेतन की 50 वर्ष की विकास यात्रा का पावर पाइंट देखा था। मेरी आँखों के सामने परिकल्पना  सम्मान की विकास यात्रा गुजरने लगी ... इस सम्मान 2010 की घोषणा 9 जुलाई 2010 को परिकल्पना ब्लाग पर तथा 10 जुलाई 2010 को लोकसंघर्ष ब्लाग पर आई पोस्टों पर हुई थी। तब यह लोकसंघर्ष परिकल्पना सम्मान था और श्रेष्ठ सृजनकारों से रूबरू कराने हेतु ब्लाग पोस्टों की एक श्रंखला मात्र थी। लोकसंघर्ष जनसंघर्ष को समर्पित एक वामपंथी पत्रिका और ब्लाग है। इस से लगा था कि इस सम्मान की आधारशिला सामाजिक यथार्थ और संघर्षशील जनता की संस्कृति के इर्द-गिर्द रहेगी। फिर 12 जुलाई 2010 से परिकल्पना और ब्लोगोत्सव-२०१० ब्लागों पर प्रतिदिन एक ब्लागर को पुरस्कार घोषित होने लगा और इन ब्लागों पर एक सम्मान पत्र प्रकाशित किया जाता। यह ब्लागजगत की आभासी दुनिया में ब्लागरों का आभासी सम्मान था। ब्लागर इस सम्मान से रोमांचित और प्रसन्न भी थे। यह सिलसिला करीब दो माह वर्ष के श्रेष्ठ ब्लागर का सम्मान घोषित होने तक चलता रहा।  इस के कुछ दिन बाद ब्लाग विश्लेषण की श्रंखला आरंभ हो गई जो काफी लोकप्रिय हुई। फिर अचानक 9 मार्च 2011 को परिकल्पना पर ही घोषणा हुई कि "हिन्‍दी ब्‍लॉगरों, प्रेमियों, साहित्‍यकारों : 30 अप्रैल 2011 को दिल्‍ली के हिन्‍दी भवन में मिल रहे हैं। इस घोषणा में यह स्पष्ट कर दिया गया था कि हिन्दी साहित्य निकेतन 50 वर्षों की अपनी विकास-यात्रा और गतिविधियों को आपके समक्ष प्रस्तुत करने के लिए 30 अप्रैल २०११ दिन शनिवार को दिल्ली के हिंदी भवन में एक दिवसीय भव्य आयोजन कर रहा है।"


हाँ यह भी कहा गया था कि "इस अवसर पर देश और विदेश में रहने वाले लगभग 400 ब्लॉगरों का सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है, जिसमें परिकल्‍पना समूह के तत्‍वावधान में इतिहास में पहली बार आयोजित ब्लॉगोत्‍सव 2010 के अंतर्गत चयनित 51 ब्लॉगरों का ‘सारस्‍वत सम्मान’ भी किया जाएगा। इस अवसर पर लगभग 400 पृष्ठों की पुस्तक ( हिंदी ब्लॉगिंग : अभिव्यक्ति की नई क्रान्ति), हिंदी साहित्य निकेतन की द्विमासिक पत्रिका ‘शोध दिशा’ का विशेष अंक ( इसमें ब्लॉगोत्सव -२०१० में प्रकाशित सभी प्रमुख रचनाओं को शामिल किया गया है) मेरा (रविन्द्र प्रभात का) उपन्यास (ताकि बचा रहे गणतंत्र ), रश्मि प्रभा के संपादन में प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका (वटवृक्ष ) के प्रवेशांक के साथ-साथ और कई महत्वपूर्ण किताबों का लोकार्पण होना है ! इस कार्यक्रम में विमर्श,परिचर्चाएँ एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आकर्षण का केंद्र होंगे। पूरे कार्यक्रम का जीवंत प्रसारण इंटरनेट के माध्यम से पूरे विश्व में किया जाएगा।" कार्यक्रम का समय शनिवार 30 अप्रैल 2011, दोपहर 3 बजे से रात्रि‍ 8.30 बजे तक घोषित किया गया था उस के उपरान्त रात्रि‍ 8 .30 बजे भोजन होना था।

जितनी बड़ी घोषणाएँ की गई थीं उस के हिसाब से समस्त कार्यक्रम के लिए डेढ़ दिनों में चार सत्र वांछित थे। इन कार्यक्रमों को इस से कम समय देना उन के साथ अन्याय होता। लेकिन जैसी हमारी आदत है हम दो सवारी के लिए बनी बाइक पर पत्नी और तीन और कभी कभी चार बच्चों को सवारी करा सकते हैं, लाइन की बस का कंडक्टर सवारियों को बस में उसी तरह ठूँस सकता है जैसे आटा चक्की वाला आटे को लकड़ी के डंडे से ठोक-ठोक कर ठूँसता है, यह महसूस हो गया था कि कार्यक्रम साढ़े पाँच घंटे के समय में जबरन ठूँसा जाएगा। तब किस के साथ न्याय होगा और किस के साथ अन्याय? यह अनुमान करना दुष्कर था। तब यह भी पता नहीं था कि कार्यक्रम के मुख्य, विशिष्ठ अतिथि, अध्यक्ष आदि कौन हो सकते हैं। लेकिन इतना जरूर अनुमान हो चला था कि उस दिन चार सौ नहीं तो कम से कम सौ-डेढ़ सौ ब्लागर देश के विभिन्न हिस्सों से दिल्ली में अवश्य एकत्र होंगे। मैं ने डायरी मैनेज की और एक दिन पहले शुक्रवार 29 अप्रेल को कोई काम नहीं रखा। मुझे पूरे तीन दिन मिल रहे थे। मेरा दिल्ली आने का मन बन चुका था, लेकिन मैं इसे पूरी तरह व्यक्तिगत यात्रा बनाना चाहता था और मैं ने किसी को भी सूचित नहीं किया कि मैं दिल्ली पहुँच रहा हूँ। बाद में लोकसंघर्ष पत्रिका/ब्लाग के रणधीर सिंह की एक पोस्ट हमारीवाणी ई-पत्रिका प्रकाशित हुई जिस में इसी कार्यक्रम की घोषणा की और उसी के साथ एक निमंत्रण पत्र भी प्रकाशित किया गया जो ब्लागरों को ई-मेल से भी प्रेषित किया गया। इस निमंत्रण पत्र में सूचित किया गया था कि कार्यक्रम 30 अप्रेल को 4.00 बजे आरंभ होगा तथा 6.00 बजे समाप्त होगा। चाय के बाद दूसरा सत्र 6.30 पर आरंभ होगा जिस में  हिन्दी साहित्य निकेतन की विकास यात्रा, पुस्तकों का लोकार्पण तथा हिन्दी ब्लागरों का सारस्वत सम्मान किया जाएगा इस कार्यक्रम का उद्घाटन उत्तराखंड के मुख्य मंत्री निशंक व अध्यक्षता अशोक चक्रधर करेंगे, रामदरश मिश्र व अशोक बजाज मुख्य और विशिष्ठ अतिथि होंगे तथा प्रेम जनमेजय और विश्वबंधु गुप्ता का सानिध्य रहेगा।  दूसरे सत्र में "न्यू मीडिया की भूमिका" विषय पर संगोष्ठी होनी थी जिस की अध्यक्षता प्रभाकर श्रोत्रीय को करनी थी, मुख्य अतिथि पुण्य प्रसून वाजपेयी व विशिष्ठ अतिथि उदयप्रकाश घोषित किए गए थे तथा मनीषा कुलश्रेष्ठ, अजीत अंजुम व देवेंद्र देवेश का सानिध्य रहना  था। इस घोषणा के साथ ही सम्मान समारोह की आगे की रूपरेखा में सुमन जी की भूमिका समाप्त प्रायः हो गई थी। एक तरह से यह परिकल्पना सम्मान को उत्तर-आधुनिकता प्रदान करने के लिए सुमन जी का नाइस प्रमाणपत्र था।  इस के साथ ही लोकसंघर्ष का नाम भी समारोह के हर दृश्य से गायब हो चुका था। सम्मान प्रकल्प जनसंघर्ष से आरंभ हो कर उत्तर-आधुनिक युग में प्रवेश कर चुका था।  

दीपिका गोयल
चित्र सौजन्य: पद्म सिंह
मारोह के आरंभ के पूर्व जो अघोषित कार्यक्रम चल रहा था उस का संयोजन रविन्द्र प्रभात के कुशल हाथों में था। लेकिन जैसे ही निशंक जी के द्वार तक पहुँचने की सूचना आयोजकों को प्राप्त हुई कार्यक्रम का संचालन रविन्द्र प्रभात जी के हाथों से हिन्दी साहित्य निकेतन के सचिव की पुत्री दीपिका गोयल के सिद्ध हाथों में चला गया।  मंच के नीचे हॉल में ही उद्घाटन कर्ता व अन्य अतिथियों का स्वागत किया गया और उन्हें मंच के स्थान पर दर्शकों की पहली पंक्ति में बैठने को कहा गया। इस का कारण हिन्दी साहित्य निकेतन की 50 वर्षों की विकास यात्रा पर दीपिका गोयल की पॉवर पाइंट प्रेजेण्टेशन की प्रस्तुति रही जिसे उन की मधुर आवाज में रिकार्ड किया गया था। हॉल की बत्तियाँ बुझा दी गई और प्रेजेण्टेशन आरंभ हुआ। यह चित्रमय और काव्यमय प्रस्तुति अद्भुत थी। निस्सन्देह इस पर कड़ा श्रम किया गया था जिस का काव्य संयोजन स्पष्टतः अशोक चक्रधर का था, हालाँकि इस का श्रेय गीतिका गोयल ने प्राप्त किया।  पावर पाइंट प्रस्तुति ने सभी को प्रभावित किया। इस के बाद जब बत्तियाँ पुनः रोशन हुई तो छह बज कर कुछ मिनट हो रहे थे। पहले कार्यक्रम का समय समाप्त हो कर चाय का समय था लेकिन कार्यक्रम तो अब आरंभ हो रहा था। उद्घाटनकर्ता व अन्य अतिथिगण मंच पर जा कर अपना स्थान ग्रहण कर रहे थे। 
Post a Comment