Friday, July 23, 2010

बरसात की संभावना हर दिन आगे खिसक जाती है

यूँ तो इधर कोटा में एकाध बरसात मई में भी हो लेती है, फिर एकाध जून को उत्तरार्ध में भी हो ही जाती है। 15 से 20 जून के बीच तो बरसात बाकायदे आ धमकती है और जुलाई के महिने में तो अपना अड्डा जमा चुकी होती है। मुझे पता है कि मेरे एक चचेरे भाई का ब्याह 29 जून का था भोपाल बारात जानी थी। एक दिन पहले ही बरसात हुई थी। बारात के रास्ते में सारी नदियाँ या तो पुल पर चढ़ चुकी थीं या चढ़ने को तैयार थीं। शादी के दिन दिन भर बरसात होती रही। बारात के दुल्हन के घर तक जाने वाला जलूस भी बरसते पानी में ही निकाला जा सका था। वापसी में भी हम बरसात का सुहाना नजारा देखते हुए ही लौटे थे। उस बात को अठारह-बीस बरस हो चुके हैं। उस के बाद तो मैं बाकायदा जून में मध्यप्रदेश की ओर भागने की फिराक में रहता। जिस से बरसात का आनंद कुछ जल्दी लिया जा  सके। ऐसा शायद ही किसी साल हुआ हो कि जुलाई का महिना पूरा निकलने वाला हो और नदियों में नया पानी न आया हो और पूरी तरह सूख चुकी नदियाँ बहने न लगी हों। खेत सूखे पड़े हों और उन के आसपास के गड्ढे अभी प्यासे हों। आधे से अधिक खेतों में बुआई न हुई हो। आधे खेतों में बुआई हुई भी है तो उन की आवश्यक सिंचाई के चलते भू-गर्भिक जल का स्तर तेजी से गिर रहा हो। जिन दिनों में सब मर्सिबल मोटरों को ऊपर उठाया जाता हो उन दिनों उन्हें नीचे उतारना पड़ रहा हो।
स साल ऐसा ही है। कोटा नगर में अभी तक ऐसी कोई घटना नहीं हुई है जिसे हम बरसात की संज्ञा दे सकें। न गड्ढे भरे, न नालों में मटमैला बरसाती पानी बहता दिखाई दिया। अभी तक वही बदबूदार काले रंग का नगर का मैला ले जाने वाला पानी ही उन में बह रहा है। अभी तक ठेकेदार प्रसन्न हैं कि उन की बनाई सड़कों की पोल खुलने लायक कुछ भी नहीं हुआ है। कोटा नगर ही नहीं कोटा से पचास-पचास किलोमीटर तक ऐसा ही है। मेरे एक सहायक वकील नन्दलाल जी पुश्तैनी किसान भी हैं। अपनी जमीन के दस बीघे में इस साल वे धान करना चाह रहे थे। उस के लिए नर्सरी में पौध भी तैयार कर चुके थे। लेकिन धान केवल भूगर्भिक जल के भरोसे तो नहीं की जा सकती है। उन्हों ने धान का रकबा कम कर के आधा कर दिया। आधी जमीन में तिल्ली फैंक दी। तिल्ली सूखे की फसल है। पानी के बिना भी उग आती है। खर्चा भी कुछ नहीं है। कम से कम नुकसान से तो बचेंगे। आधा रकबा जो धान के लिए छोड़ दिया गया है। सप्ताह भर यही हाल रहा तो वे इस में भी धान नहीं कर पाएँगे। आधी जमीनें बिना बोई छूट गई हैं। आधी में जो फसलें हैं उन से किसी तरह की कोई आशा नहीं है।
गाँव-गाँव में घास भैरूजी घसीटे जा रहे हैं। समस्या ये आ रही है कि वे लकड़ी की बनी तिपाई पर घसीटे जाते हैं। जहाँ अटक गए वहीं उन्हें खींचने के लिए नए बैलों की जोड़ियाँ जोड़ी जाती थीं। लेकिन गाँव तो बैलों की जोड़ियों से हीन हो चुके हैं। ट्रेक्टर हैं जिन की शक्ति के सामने भैरूजी क्या चीज हैं। फट्ट से घसीट कर पहुँचा दिए जा रहे हैं थान तक। अब समस्या ये भी है कि न तो माताजी पर भाव आ रहा है और न भैरूजी पर जो बताते थे कि पानी का क्या होगा और किसानी का साल कैसा रहेगा? भोली जनता के हाथों से मैंढ़की के ब्याह जैसे अंधविश्वास और टोटके छिन गए हैं।  बरसात के अभाव में मैंढ़की टर्रा भी नहीं रही है। उसे कैसे हासिल करें? किस का करें ब्याह। जनता नए टोटके ईजाद कर रही है। गाँव की औरतों ने खेत जोतने जा रहे ट्रेक्टर चालक से ट्रेक्टर छीन लिया, चालक को हटा कर उस के हाथ पैर बांध कर एक ओर पटक दिया और खुद ट्रेक्टर चला कर खेत में ले गई और खेत जा हाँका। इस से यह अहसास तो उन्हों ने जरूर करा दिया कि कभी खेती का आरंभ करने वाली वे ही थीं। लेकिन इस से बरसात कराने वाले सिस्टम पर जरा भी असर नहीं हुआ। पानी नहीं बरस रहा है तो नहीं ही बरस रहा है। 
क दिन जोरों की घटा छाई अंधेरा होने लगा। लेकिन तभी हवा चली और बादल उड़ चले। पता लगा कि बरसात कोई बीस किलोमीटर दूर हुई। नालों में पानी बहा जरूर पर रात भर में ही नाले फिर से सूख गए। तीस किलोमीटर दूर स्थित एक कस्बे में दो घंटों में दो इंच बरसात हो गई। लेकिन बाकी इलाका सूखा पड़ा है। कुल मिला कर जुलाई के महिना भी बरसात के लिए तरसते बीत रहा है। लोग कहते हैं यह पाप  बहुत बढ़ जाने का नतीजा है। लेकिन पापी हैं कि फिर भी पाप छोड़ने को तैयार नहीं हैं। अकाल की छाया चक्कर काटने लगी है। जन-जन उस की आशंका से भयभीत है। व्यापारी और जमाखोर अपने कर्तव्य निष्पादन में प्राण-प्रण से जुटे हैं। किसी भी तरह माल भर लें जिस से वक्त पर मनमाने दाम वसूल किए जा सकें। कमोबेश पूरे राजस्थान के ऐसे ही हालात हैं। लेकिन अभी तक राजस्थान की सरकार इस आशा में है कि पानी बेवक्त ही सही बरस ही जाएगा। अकाल से निपटने की कोई तैयारी नजर नहीं आती। अभी तक तो मुख्य मंत्री तो क्या किसी प्यादे ने भी यह नहीं कहा है कि अकाल पड़ा तो जनता को घबराने की जरूरत नहीं है।  
नता में यह चर्चा बड़े जोरों पर है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही अपशकुनी हैं। जब-जब भी मुख्य मंत्री बनते हैं, बरसात रूठ जाती है। यह चर्चा किसी राजनीति से प्रेरित नहीं है लेकिन संयोग ऐसा है कि चर्चित हो रही है। अब तो कांग्रेस के पास इस जन चर्चा से बचने का एक ही रास्ता है कि मुख्यमंत्री बदल दे। अब अल्पमत विपक्षी भाजपा तो इस चर्चा से तत्काल लाभ का सपना देख नहीं सकती। लेकिन अशोक गहलोत के प्रतिद्वंदी कांग्रेसियों के चेहरे पर यही जनचर्चा सुर्खी ला देती है। कहीं सोनिया तक यह चर्चा पहुँचे तो उन का ही भला हो। गहलोत हटें तो उन का चाँस लगे। ज्योतिषियों के बरासात के सारे पूर्वानुमान गलत सिद्ध हो चुके हैं, इतने कि इन दिनों नगर का कोई भी ज्योतिषी भविष्यवाणी करने का खतरा मोल लेने को तैयार नहीं है।  मैं हूँ कि दिन में तीन चार बार वेदर अंडरग्राउंड की साइट पर जा कर मौसम का पूर्वानुमान देख लेता हूँ। वहाँ पानी से भरपूर गुलाबी बादल दिखाई तो पड़ते हैं, लेकिन कहाँ जाते हैं यह पता नहीं लगता। पूर्वानुमान हर रोज बदल जाता है। बरसात होने की संभावना हर दिन आगे खिसक जाती है।
Post a Comment