Saturday, September 19, 2009

अपना मुख जन-गण की ओर -शिवराम


 आज  शिवराम के नाटकों की दो पुस्तकों 'गटक चूरमा' (मूल्य 35 रुपए) और 'पुनर्नव' (मूल्य 50 रुपए) का लोकार्पण है। इन में सम्मिलित सभी नाटक खेले जा चुके हैं और उन का नाटकीय आवश्यकताओं के अनुसार पुनर्लेखन भी हुआ है।  सभी नाटक किसी भी नाटक रूप में खेलने के लिए आदर्श हैं। मैं चाहता था कि इस अवसर पर इन नाटकों के बारे में कुछ लिखूँ। जब मैं उन्हें इस हेतु फिर से पढ़ने बैठा तो लगा कि उन पर कुछ लिखने से बेहतर होगा कि 'गटक चूरमा' की भूमिका में लिखा गया शिवराम का आलेख यहाँ प्रस्तुत करना अधिक प्रासंगिक होगा।  उसे ही बिना किसी टिप्पणी के यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ......

हिन्दी जगत की सक्रिय नाट्य संस्थाओं की सब से बड़ी समस्या कोई है तो वर्तमान  संदर्भों में प्रासंगिक नाटकों की।  नाटक कम लिखे जा रहे हैं। पुराने नाटकों की प्रासंगिकता कम दिखाई देती है। दूसरी भाषाओं से अनुवाद अपनी जगह पर है, पर अपनी भाषा में रचे गए नाटकों का दर्शकों के साथ जो सांस्कृतिक तादात्म्य बनता है वह अनुदित नाटकों का नहीं बनता इसलिए यह भी हो रहा है कि नाट्य दल इम्प्रोवाइजेशन पद्धति से किसी एक थीम या आईडिया पर सामूहिक रूप से आलेख तैयार करते हैं और इस तरह नाटकों के अभाव की पूर्ति करते हैं। लेकिन समर्थ लेखक द्वारा नाट्य रचना का सृजन भिन्न प्रकार की रचना प्रक्रिया है, जीवनानुभव, जीवन दर्शन और मानवीय संवेदनाओं के क्रिया व्यापार के बेहतर समुच्चय की संभावना वहाँ अधिक बनती है। प्रस्तुति के लिए तैयारियों के दौरान निर्देशक और कलाकारों का व्यवहार मंच की आवश्यकतानुसार  उस समृद्ध करता ही है, लेकिन यदि उन के पास 'थीम' या 'आईडिया' के बजाय नाटक-रचना उपलब्ध हो और वे उस पर काम शुरू करें तो यह उन के लिए भी अधिक सुविधाप्रद रहता है और बेहतर नाट्य प्रस्तुति के लिए भी अधिक उपयुक्त रहता है। जाहिर है हिन्दी में वर्तमान सामाजिक यथार्थ पर आधारित नाटकों की जरूरत है।

जो लोग सामाजिक दायित्वबोध से संचालित हैं और जनता के बीच सास्कृतिक-सामाजिक आंदोलन निर्मित किए जाने के पक्षधर हैं, उन्हें कलाओं और साहित्य की जनोन्मुखी विधाओं और प्रवृत्तियों पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए।  अभिजनोन्मुखी साहित्यिक सांस्कृतिक मठाधीशों की दुनिया जनोन्मुखी कला कर्म का उपहास और तिरस्कार करेगी ही, उन्हें अपने काम में लगे रहने दें। भविष्य उसी कला कर्म का है, सार्थकता उसी कलाकर्म की है जो अपने समय में सार्थक हस्तक्षेप करता है। अपना मुख जनगण की ओर रखता है।

नाटक एक ऐसी विधा है जो काव्य भी है और कहानी भी।  मंच पर प्रस्तुति के समय तो सभी कला विधाएँ उस के साथ समुच्चित होने लगती हैं। अतः यह कविता या कहानी से कम महत्वपूर्ण विधा नहीं है। बल्कि अधिक महत्वपूर्ण है। नाट्य रचना कठिन काम है, कविता या कहानी से अधिक कठिन है। वर्तमान हिन्दी साहित्य जगत में उस का कम मान है तो यह अभिजनोन्मुखता की प्रवृत्तियों के वर्चस्व के कारण है। जिन्हें अभिजन समाज की सेवा चाकरी में अपने कला कर्म को परोसना है और उन से प्राप्त इनामों-इकरामों से जीवन यापन करना है वे अपने इस चारण-विदूषक-चाटुकार कर्म में लगे रहें और कुंठित हो हो कर भूलुंठित होते रहे, उन के दिए ताजों-भूषणों से अलंकृत हो हो कर दुमें ऊँची कर-कर के ऐंठते-गुर्राते रहें। ऐसे लोगों को ठेंगा दिखाओ और हो सके तो इन बेचारों पर दया करो, लेकिन जो साहित्य और कलाओं को मनुष्य के सांस्कृतिक उन्नयन की साधना मानता है और इस हेतु जन-गण को समर्पित है उन की दुनिया अलग है, उन का मार्ग अलग है। कठिनाई तब होती है जब दोनों दुनियाओं में स्थान बनाने की आकांक्षा उछल-कूद करती है। इस दुविधा से मुक्त होना चाहिए। या तो इस और या उस ओर। तिकड़मों, हुक्मरानों की कृपाओं, संसाधनों के बल पर पाए प्रचारों से कुछ समय के लिए अपनी श्रेष्ठता का भ्रम पैदा किया जा सकता है। साहित्य और कलाओं की दुनिया अंततः वही बचता है, जिसे लोक सहेजता है।

नाटक, गीत, पोस्टर, चित्रकला, आदि जन सांस्कृतिक अभियान के प्रमुख अंग हैं।  हमें इन्हें पुष्ट और समृद्ध करना चाहिए।

ये नाटक ऐसी ही जरूरतों के अंतर्गत लिखे गए हैं। इस संग्रह में चार नाटक हैं; 'गटक चूरमा', 'हम लड़कियाँ', 'बोलो-हल्ला बोलो' और 'ढम ढमा ढम ढम'। 'दुलारी की माँ', एक गाँव की कहानी' और 'रधिया की कहानी' नाटकों को भी मैं इस में शामिल करना चाहता था लेकिन ये तीनों नाटक अलग अलग पुस्तकों के रूप में प्रकाशित हो चुके हैं और अभी उपलब्ध भी हैं, इस लिए फिर इन्हें इस संग्रह में शामिल करने का इरादा छोड़ दिया।

ये नाटक मेहनतकश अवाम की जिंदगी, उन की समस्याओं और साम्राज्यवादी भू-मंडलीकरण के यथार्थ से रूबरू होते हैं और दर्शकों को रूबरू कराते हैं। इन्हें नुक्कड़ों, चौपालों, खुले मंचों और रंगमंच पर सभी रूपों में खेला जा सकता है।

'अभिव्यक्ति' नाट्य एवं कला मंच कोटा ने इस पुस्तक के प्रकाशन में दायित्वपूर्ण सहयोग किया है।  सच तो यह है कि मेरे नाटकों को इस संस्था से सम्बद्ध रंगकर्मियों ने मुझ से अधिक जिया है। मैं उन के प्रति अपना आभार व्यक्त करता हूँ।  मैं उन सभी मित्रों और निर्देशकों का आभारी हूँ, जिन्हों ने  इस हेतु प्रेरणा दी और सहयोग किया। उनि सभी रंग संस्थाओं और रंग कर्मियों का भी मैं आभारी हूँ। जिन्हो ने इन नाटकों की प्रस्तुतियाँ दी और इन्हें जन-नाटक बनाया।

मुझे विश्वास है कि जनता के बीच सक्रिय जनोन्मुखी रंगकर्मी इन नाटकों को उपयोगी पाएँगे।

इन नाटकों के गैर व्यावसायिक मंचन के लिए पूर्व स्वीकृति की आवश्यक नहीं है। मंचन की सूचना् देंगे तो अच्छा लगेगा।
-शिवराम



दोनों नाटक पुस्तकों की प्रतियाँ स्वयं शिवराम से या प्रकाशक से मंगाई जा सकती हैं। उन के पते सुविधा के लिए यहाँ दिए जा रहे हैं।

  • शिवराम, 4-पी-46, तलवंडी, कोटा (राजस्थान) 
  • बोधि प्रकाशन, ऐंचारा बिल्डिंग, सांगासेतु रोड़, सांगानेर, जयपुर (राजस्थान)
Post a Comment