Saturday, May 31, 2008

प्रजातंत्र की जय हो!


Republic Nepal

राजा तब तक ही राजा रह सकता है जब तक जनता को प्रिय होता है। जनता के लिए अप्रिय होने पर पहला अवसर प्राप्त होते ही जनता राजा को उखाड़ फेंकती है। यही सब कुछ हुआ नेपाल में भी। नेपाल की राजशाही समाप्त हुई। अब नेपाल गणतंत्र है। नेपाली गण की इस विजय और गणतंत्र की स्थापना के भावों को संजोया है महेन्द्र "नेह" ने इस ग़जल में.........

प्रजातंत्र की जय हो!

* महेन्द्र 'नेह' *



उछली सौ-सौ हाथ मछलियाँ ताल की।

चौड़े में उड़ गईं धज्जियाँ जाल की।


गूँज उठी समवेत दहाड़ कहारों की।

नहीं ढोइंगे राजा 'जू' की पालकी।


आजादी के परचम फहरे शिखरों तक।

खुशबू फैली गहरे लाल गुलाल की।


उमड़ पड़े खलिहान, खेत, बस्तियाँ गाँव।

कुर्बानी दे पावन धरा निहाल की।


टूट गया आतंक फौज बन्दूकों का।

शेष कथा है विक्रम औ बैताल की।


सामराज के चाकर समझ नहीं पाए।

बदली जब रफ्तार समय की चाल की।


प्रजातंत्र की जय हो, जय हो जनता की।

जय हो जन गण उन्नायक नेपाल की।

nepal Republic 1

*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*#*

Post a Comment