Sunday, December 27, 2015

सोए रहो निरन्तर

सोए रहो निरन्तर 




अब ये बात कोई छिपी तो नहीं
न छिप सकती थी और न हम ने छिपाया
हमें किसी ने नहीं, उद्योगपतियों ने बनाया
उन्हों ने पूंजी निवेश किया, जैसा अक्सर वे करते हैं
मुनाफा बटोरने के लिए, अपनी पूंजी को बढ़ाने के लिए
उन्हों ने भरपूर पूंजी लगायी और हम बन गए
कहाँ से कहाँ पहुँच गए। 


अब हम दुनिया घूम रहे हैं
लोगों को लगता है, हम मौज कर रहे हैं
पर हम कहाँ मौज कर रहे हैं?
हम ड्यूटी कर रहे हैं
जो पूंजी लगाई थी उन्होंने वह लौटनी चाहिए उन के पास
इस उद्योग में पूंजी लगाना
कतई नहीं होना चाहिए घाटे का सौदा।


अपनी पूंजी को बहुगुणित करने को
वे ही दौड़ाते है मुझे और मैं दौड़ता हूँ
सुदूर पूरब के उस छोर से सुदूर पश्चिम के उस छोर तक
वे साधन जुटाते हैं, जहाँ जाता हूँ
मेरी जय-जयकार के लिए लोग जुटाते हैं
जब लोग मेंरी जय-जयकार कर रहे होते हैं
तब पूंजी के सवार कर रहे होते हैं सौदेबाजी।


ऐसा नहीं है सिर्फ पूंजी का खयाल है मुझे
तुम्हारा भी रखता हूँ
जब जब मैं होता हूँ देश में जाता हूँ गंगाघाट
उतारता हूँ आरतियाँ, यही नहीं
दूर देश के प्रधानों से भी उतरवा देता हूँ
क्या ये कम है तुम्हारे लिए
तुम्हारी संस्कृति का झण्डा
फहराता है गंगा किनारे
सारी दुनिया देखती है उसे।


अब की बार वे ले गए मुझे सूदूर उत्तर तक
मैं ने देखा वहाँ, आप ने भी देखा ही होगा टीवी पर
एक भूरी रूसी बाला बजाती थी तानपूरा
दूसरी गाती थी वैदिकगान, औउम् गं गणपतये नमः
क्या यह कम है तुम्हारे लिए?
तुम्हारी संस्कृति को ओढ़ रही है,
बिछा रही है सारी दुनिया।


वापस लौटते हुए रुका कैकय में कुछ देर
मुझे पता है वहीँ से आए थे मंथरा और शकुनि
देख कर आया हूँ वहाँ के आज के हाल
फिर रुका कुछ देर इरावती के किनारे
गले मिला बिछड़े हुए भाई से, माँ के पैर छू लिए
माँ, भाई और सभी बन्धु हो लिए गद-गद
इतना समय बहुत था, लोहे वाला अपना सौदा पटा ले
लगता है न देखो सपने सा!

तुम तो सपने में भी नहीं सोच सकते थे।

मैं न कहता था सब सपने पूरे करूंगा
तो दिखा रहा हूँ सपनों पर सपने
सपने कभी पूरे नहीं होते जागते में
अच्छा सपना देखते हुए बीच में टूट जाए निद्रा
तो जबरन सोना पड़ता है फिर से
ये जो जगाने वाले हैं सब शत्रु हैं तुम्हारे
इन्हें दूर करो खुद से, ये तोड़ देते हें तुम्हारे सपने।


देखो उधर, वहाँ माधव कुछ कह रहा है
सपना चलेगा अखंड भारत होने तक
यह सुखद सपना लंबा है,
यह पूरा हो, इस के लिए जरूरी है
एक लंबे समय की गहरी निद्रा
इस के लिए सोए रहो निरन्तर
कसम उठाओ गंगा की कि नहीं जागोगे बीच में
दरवाजे पर कुण्डी घालो और सो जाओ
प्रवेश न कर सके कोई घर के भीतर जगाने वाला।


-दिनेशराय द्विवेदी
Post a Comment