Wednesday, October 16, 2013

खुली कलई, निकला पीतल

सुमल सिरुमलानी एक साधारण आदमी। काम-धंधे की तलाश, अपराधिक गतिविधियों और अध्यात्म के अभ्यास के बीच उसे जीवन का रास्ता मिल गया। सीधे-सादे, भोले-लोग अपने जीवन के कष्टों के बीच सहज ही साधु-संत टाइप के लोगों पर विश्वास करने लगते हैं कि शायद वे उन के जीवन में कुछ सुख और आनन्द की सृष्टि कर दें, और नहीं तो कम से कम परलोक ही सुधार दें। इसके लिए वे अपना थोड़ा बहुत से ले कर सब कुछ तक समर्पित सकते हैं। उसने अध्यात्म, औषध, योग, संगीत, नृत्य, पुराण आदि आदि... सब को मिला कर घोल बनाया। भक्ति का उद्योग चल निकला, उसके उत्पादन की बाजार में मांग हो गई।

सुमल के आसाराम में रूपान्तरण से उत्पन्न उस का यह उद्योग-व्यापार अच्छा चला तो साधारण आदमी की इच्छाएं जोर मारने लगीं। सबको पूरा करने का साधन जो जुट गया था। अब वह कुछ भी कर सकता था। कोई व्यापारी, उद्योगपति, राजनेता उस के समकक्ष नहीं रहा, वह उन सबसे ऊपर उठ गया। खुद को भगवान के समझने लगा। शायद यह भी समझने लगा हो कि जिन्हें लोगों ने अब तक भगवान समझा है वे भी ऐसे ही बने हों। वह साधारण से विशिष्ट होते-होते खुद को समष्टि समझने लगा। ऊपर उठा तो खुद को विष्णु समझा तो पत्नी लक्ष्मी हो गई, बेटा नारायण साईं और बेटी भारती। सब के सब... सब से ऊपर। लोग, समाज, कानून, राज्य, पुलिस, अदालत, जेल... सब से ऊपर।




र जो ऊपर होते हैं वे ऊपरवालों जैसा व्यवहार भी करते हैं। वह जब भी फंसता तब ऊपराई से काम चलाता लोग झांसे में आ जाते। लेकिन इस बार फंसा तो यह हथियार न चला, पुलिस ने बुलाया तो अपनी ऊपराई से काम चलाने की कोशिश की वह काम न आई तो डर गया। बचने की कोशिश की तो लोगो को फांसने को बनाए गए खुद के जाल में फंसता चला गया। पीछे बचे परिवार ने बचाने की कोशिश की तो वे भी अपनी ऊपराई छोड़ कर साधारण हो गए। कलई खुली तो पीतल नजर आने लगी। उबलती चाशनी में दूध पड़ गया, शक्कर का मैल अपने आप ऊपर आने लगा।

खुद को ऊपर समझने और ऊपराई दिखाने वाले जब साधारण होते हैं तो साधारण व्यक्ति की तरह व्यवहार करते हैं। जब बाकी तीनों के खिलाफ पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है और उनसे पूछताछ का सिलसिला शुरू हुआ है तो वे तीनों भी गायब हैं। मूर्ख, ये भी नहीं जानते कि वे कहीं नहीं बचेंगे। आखिर हाथ पड़ ही जाएंगे। वे चाहते तो सीधे पुलिस के पास जा कर कह सकते थे कि जो पूछना है पूछ लो, जो करना है कर लो। हम सच्चे हैं। ईसा ने बादशाह के फैसले से भागने की कोशिश नहीं की थी, फांसी पर चढ़ गया। तब ईसा के अनुयाइयों की संख्या आसाराम के अनुयाइयों के लाखवें हिस्से से भी कम रही होगी। लेकिन आज इक्कीस शताब्दियों के बाद भी वह दुनिया में करोड़ों लोगों का आदर्श है। पर जो सच्चे नहीं हैं, वे कैसे फांसी या जेल की राह का सामना कर सकते हैं? उनमें तो दूसरे विश्वयुद्ध के अपराधी हिटलर जैसा भी साहस नहीं कि जब अपराधों की सजा मिलने की स्थिति बने तो खुद का जीवन समाप्त कर लें।
Post a Comment