Thursday, September 2, 2010

जन्माष्टमी दो दिन क्यों? जानें, चंद्रकलाएँ , तिथि, दिनमान और रात्रिमान .........

ल यह तलाशते हुए कि जन्माष्टमी आखिर दो क्यों? हम चांद्रमासों को जानने लगे थे। हम ने जितने भी चांद्र मासों को जाना उन सब का कोई न कोई वैज्ञानिक आधार था। लेकिन आम लोगों के लिए तो इन सब तरह के चांद्रमासों को जानना आसान नहीं है। वे तो चंद्रमा को पूर्ण होता हुआ, फिर उसे घटता और गायब होता हुआ और फिर नये चंद्रमा को देखते हैं। सदियों से चंद्र-कलाओं से  ही वे अपने रोजमर्रा के कामों और आध्यात्मिक जीवन को जोड़ते आए हैं। चंद्र और उस की कलाएँ आम जनजीवन से अभिन्न रूप से जुड़ी हैं। यही कारण है कि साइनोडिक या संयुति मास ही दुनिया भर में सर्वाधिक लोकप्रिय है। इस मास की अवधि 29.53059 दिनों की है। इसी कारण से इसे पूर्ण संख्या में तीस दिनों का मान लिया गया है। लेकिन एक मास तीस दिनों का होने पर अगला मास ही उन्तीस दिनों का हो जाता है। भारतीय पद्धति में इसी कारण चंद्रमा की तीस कलाओं की कल्पना की गई है। ये तीस कलाएँ चंद्रमा के दृष्य आकार को प्रकट करती हैं। चंद्रमा की कक्षा दीर्घवृत्ताकार होने से एक एक कला की अवधि में भिन्नता होती है। इस का कारण कभी चंद्रमा पृथ्वी से दूर होना और कभी पास होना है। प्रत्येक कला के आरंभ और समाप्त होने की अवधि को एक तिथि माना है। नीचे के चित्र में चंद्रमा की 29 कलाएँ देखी जा सकती हैं। इस में से तीसवीं कला गायब है यह वह कला है जिसे हम अमावस्या कहते हैं और इस दिन चंद्रमा दिखाई नहीं देता है।5
ये कलाएँ अमावस्या के बाद की प्रतिपदा से आरंभ हो कर अमावस तक की हैं। यदि हम देखें तो शुक्ल प्रतिपदा और कृष्ण चतुर्दशी की कलाएँ एक समान हैं। इस तरह चौदह कलाएँ एक जैसी हैं और दो कलाएँ पूर्णिमा और अमावस की मिला कर कुल सोलह कलाएँ हैं। यहीं से सोलह कलाएँ जानने वाले को संपूर्ण व्यक्ति माना जाने लगा है। खैर, एक कला में चंद्रमा जितनी देर रहता है वह एक तिथि हुई। अब यह कला दिवस के किसी भी भाग से आरंभ हो सकती है। इस कारण से किस दिन कौन सी तिथि कही जाए यह समस्या है। लेकिन इस समस्या का समाधान किया गया। दिवस का अर्थ है एक सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक का समय। इस तरह दिवस सूर्योदय से आरंभ होता है। इसे हमने 60 घटी या 24 घंटों में बांटा है। फिर घटी को पल और विपलों में तथा घंटों को मिनट और सैकंडों में बांटा है। सूर्योदय से सूर्यास्त तक के समय को दिनमान कहा गया है और सूर्यास्त से सूर्योदय तक के समय को रात्रिमान। इसी तरह एक कला के आरंभ से अगली कला के आरंभ तक के समय को तिथिमान कहा गया है। तिथि के संबंध में समाधान यह किया गया है कि सूर्योदय के समय जो भी तिथि होगी वही पूरे दिवस की अर्थात अगले सूर्योदय तक की तिथि मानी जाएगी। इस तरह हो सकता है कोई तिथि सूर्योदय के ठीक दो मिनट बाद समाप्त हो जाए और अगली तिथि आरंभ हो जाए लेकिन अगले सू्योदय तक वही तिथि मानी जाएगी। इस तरह जिस दिन का सूर्योदय जिस तिथि में होगा उस दिन वही तिथि मानी जाएगी। जैसे कल का सूर्योदय सप्तमी तिथि में हुआ था तो आज के सूर्योदय के पूर्व तक सप्तमी तिथि मानी गई, आज का सूर्योदय अष्टमी तिथि में उदय हुआ है तो कल सुबह के सूर्योदय के पहले तक अष्टमी तिथि ही मानी जाएगी।
तिथियों के मामले में एक बात और देखने को मिलती है। साइनोडिक या संयुति चांद्रमास 29.53059 दिनों का ही होता है। जब कि कलाएँ और तिथियाँ तीस हो जाती हैं। इस तरह हम देखते हैं कि किसी माह में तीस तिथियों में सूर्योदय हो सकते हैं और बारह चांद्रमासों में कुल 354.36708 दिन होंगे। जब कि तिथियां 360 हो जाएंगी। इस तरह वर्ष में कम से कम पाँच तिथियाँ तो ऐसी होंगी ही जिन में सूर्योदय नहीं होंगे। यह संख्या बढ़ भी सकती है। क्यों कि कभी तिथिमान 24 घंटों से अधिक का भी हो जाता है और दो सूर्योदय एक ही तिथि में हो सकते हैं। तब एक वर्ष में जितनी बार एक तिथि में दो सूर्योदय होंगे। उतनी ही तिथियों में और सूर्योदय नहीं हो सकेंगे। लेकिन यह माना गया है कि जिस तिथि में सूर्योदय होगा अगले सूर्योदय तक वही तिथि मानी जाएगी। इस कारण से जिन लगातार दो दिनों के सूर्योदय एक ही तिथि में हो रहे हैं उन दो दिनों को एक ही तिथि मानी जाएगी। इस तरह किसी मास में दो दिनों तक एक ही तिथि रहेगी। हम इसी कारण से दो दो दिनों तक एक ही तिथि मानते हैं। दो एकादशी और दो चतुर्दशी हो जाती हैं। जिन तिथियों में कोई सूर्योदय नहीं होता है उसे क्षय तिथि माना जाता है। अर्थात वह तिथि उस माह किसी भी दिन को आवंटित नहीं होगी।
तिथियों, कलाओं आदि का यह प्रकरण तो हम आगे भी चला सकते हैं। आज हम जन्माष्टमी की बात करें। कृष्ण के लिए प्राचीन पुस्तकों में उल्लेख हुआ है कि उन का जन्म भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को अर्धरात्रि को हुआ था। अब हमारी मान्यता के अनुसार यह हो सकता है कि उस दिन अष्टमी सुबह सूर्योदय के उपरांत केवल 30 पल अर्थात आधी घटी ही रही हो। फिर भी उस दिन को अष्टमी ही कहा गया होगा और जब कृष्ण का जन्म हुआ तब नवमी तिथि चल रही होगी। इस मामले में कुछ स्पष्ट उल्लेख नहीं मिलता कि कृष्ण जन्म के समय कौन सी तिथि चल रही थी। इस कारण से हम कृष्ण जन्माष्टमी मनाते समय उस दिन ही मनाएंगे जिस दिन का सूर्योदय अष्टमी तिथि में हुआ हो न कि सप्तमी तिथि में जब कि अर्धरात्रि को अष्टमी आ गई हो। लेकिन यह विवरण भी मिलता है कि कृष्ण जन्म के समय रोहिणी नक्षत्र चल रहा था। इस कारण से कुछ संप्रदाय यह मानते हैं कि जिस दिन अर्ध रात्रि को रोहिणी नक्षत्र पड़ रहा हो और अष्टमी तिथि भी आरंभ हो चुकी हो उस दिन कृष्ण जन्माष्टमी मनाना चाहिए। इस तरह नक्षत्र और तिथिमान में जन्म समय आ जाने पर जन्माष्टमी मनाने की बात करने वाले संप्रदायों को मानने वालों की संख्या अत्यल्प है। यही कारण है कि कल जन्माष्टमी मनाने वालों की संख्या कम रही और सारा देश आज ही कृष्ण जन्माष्टमी मना रहा है।
ल की पोस्ट पर अभिषेक ओझा की टिप्पणी में कहा गया कि हम कब जन्माष्टमी मनाएँ? तो मुझे भी सोचना पड़ गया, वे आजकल संयुक्त राज्य में है। तब मैं ने उन्हें उत्तर दिया कि आप के यहाँ जब 1 सितंबर का सूर्योदय हुआ तो अष्टमी तिथि आरंभ हो चुकी थी इस कारण से आप को तो जन्माष्टमी 1 सितंबर में ही मनानी चाहिए। सौभाग्य यह कि 1 सितंबर की अर्धरात्रि तक यूएस में अष्टमी बनी रही। तो वहाँ एक सितंबर में ही जन्माष्टमी मनाना उचित था। कनाडा से समीर भाई ने भी यही समाचार दिया है कि उन्हों ने एक सितंबर में ही जन्माष्टमी मना ली है। इस से एक निष्कर्ष और यह भी निकला कि किस दिन कौन सी तिथि होनी चाहिए यह पृथ्वी पर हर देशांतर पर अलग अलग तय होगा।

जय कन्हैया लाल की!          जय नंद किशोर की!!            जय जसोदा नंदन की!!!
Post a Comment