Wednesday, December 31, 2008

महेन्द्र 'नेह' की कविता के 'कल' के साथ, नए वर्ष की शुभ-कामनाएँ !

2008 के आखिरी दिन से ही नया साल आरंभ हो गया है। सुबह से ही शुभकामनाओं का सिलसिला शुरू हो चुका है! दिन भर जब जब भी समय मिला उन्हें पढ़ा और प्रत्युत्तर भी किया!।

कल महेन्द्र 'नेह' आए थे। मैं ने उन से पूछा कुछ है नए साल के लिए तो उन्हों ने एक बहुत ही सुंदर कविता भेज दी है। इस कविता के रसास्वादन के साथ नए वर्ष का स्वागत कीजिए.....

कल
  • महेन्द्र 'नेह'

कल,
भिनसारे में उठ कर
चिड़ियाओं की चहचहाहट सुनूंगा
उदास कलियों के खिलने की
संभावनाएँ तलाशूंगा
लम्बी छलांग लगाऊंगा और
जी भर कर तैरूंगा नदी में
तपती दोपहर में
रेत के धोरों पर चढ़ कर
बादल राग गाऊंगा।

कल,
चांदनी के अप्रतिम सौन्दर्य
 के अन्दर छुपी उदासी और
बेबसी का सबब
जानने की कोशिश करूंगा
और उस की खिलखिलाहट के
जादू में डूब कर
जिन्दगी के नए नग्मे लिखूंगा।

कल,
सितार पर नई धुन बजाऊंगा।
अपने भूले बिसरे दोस्तों को
नींद से जगाऊंगा
और उन के साथ चुहल करते हुए
कहकहे लगाऊंगा।

कल,
मोहल्ले के सारे बच्चों को
सीटियाँ बजा कर
इकट्ठा करूंगा
उन के साथ शहर की गलियों में
खूब दौड़ लगाऊंगा
और आसमान को
सर पर उठाऊंगा।

कल,
अपनी तमाम पीड़ाओं के साथ
महारास रचाऊंगा
और अपने दुखड़ों की
बाहों में बाहें डाल कर
दीपक नृत्य करूंगा।

कल पत्नी के जूड़े में
फूल सजाऊंगा
और बच्चों के साथ
सच्चे दोस्तों की तरह
एक नए उल्लास के साथ
बतियाऊंगा।

कल अपनी बहन के सारे आँसू
पी जाऊंगा
उस के होठों से रूठी हुई
मुस्कान वापस लाऊंगा
पिता जी के
एनक की धूल
साफ कर के
अपनी आंखों पर लगाऊंगा
और माँ की गोद में
अपना सिर रख कर
गहरी
बहुत गहरी
नींद में सो जाऊंगा।

* * *  *  * * * 
सभी को नव वर्ष की बहुत बहुत शुभ कामनाएँ !
Post a Comment