Tuesday, June 10, 2008

पितृशोक,..... हिन्दी चिट्ठाकार श्री राज भाटिया वापस जर्मनी पहुँचे

दो हिन्दी चिट्ठों पराया देश और मुझे शिकायत है के चिट्ठाकार श्री राज भाटिया 29 मई की सुबह भारत से पुनः बेयर्न, जर्मनी अपने वर्तमान आवास पर पहुँच गए हैं। उन की दिली तमन्ना थी कि वे जब भी भारत आएँ जितना संभव हो सके अधिक से अधिक हिन्दी चिट्ठाकारों से मिलें। लेकिन यह नहीं हो सका।

Raj Bhatiya's profile दिनांक 15 मई को राज जी के पिता का स्वर्गवास हो जाने के कारण अनायास और तुरंत ही भारत आना पड़ा। वे 16 मई को सुबह ही भारत पहुँच गए थे। 

राज जी  कुल तेरह दिनों तक भारत में अपनी माँ और अन्य परिजनों के साथ रहे। इस बीच वे नैट की दुनियाँ से दूर रहे। कल ही चैट सूची में उन की बत्ती हरी दिखाई देने पर उन से सम्पर्क हुआ। वे अपने पिता के निधन पर बहुत दुखी थे।  वे उन से जीवित अवस्था में ही मिलना चाहते थे, लेकिन उन की यह इच्छा पूर्ण नहीं हो सकी।

मैं ने उन्हें अपने ब्लाग पर कुछ लिखने को कहा लेकिन वे अभी मन  नहीं बना सके हैं। कहने लगे। 14 जून को उन के पिता का पहला मासिक श्राद्ध है। उस दिन घर में पूजा है। उसी दिन जर्मनी में उन के परिचित आदि, सब लोग पूजा पर उन के घर आएँगे। उसी के बाद वे अपने ब्लॉग पर आने का मन बना सकेंगे।

अपने पिता से उन की जीवित अवस्था में भेंट न कर पाने का दुखः क्या होता है? यह मैं समझ सकता हूँ।

मैं उन के पिता श्री को अपनी ओर से तथा समस्त हिन्दी चिट्ठाकार परिवार की और से श्रद्धाँजली अर्पित करता हूँ और कामना करता हूँ कि उन्हें और उन के परिजनों विशेष रूप से उन की माताजी को इस दुखः से बाहर आने की शक्ति प्राप्त हो। सभी हिन्दी चिट्ठाकार इस दुखः की घड़ी में राज जी के साथ हैं।

राज जी को उन के ई-मेल पते rajbhatia007@googlemail.com  

पर संदेश प्रेषित किए जा सकते हैं।

14 comments:

Gyandutt Pandey said...

माता-पिता कभी न कभी जायेंगे ही। पर मैं यह समझ नहीं पाता कि उनका वैक्यूम कैसे भरा जायेगा।
राज जी न जाने कैसे वह रिक्तता सह रहे होंगे। ईश्वर उन्हें सम्बल दें।

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे एवं भाटिया साहब तथा उनके परिवार को जल्द से जल्द इस शोक से उबरने की शक्ति प्रदान करे..

Lavanyam - Antarman said...

Raj bhai sahab & Family,

In this hour of your greatest grief,

me & my family join you in prayers

for your Respected Father.

May dear Lord take him into HIS eternal light

& grant his soul an ever lasting peace.

Amen.

with sincere condolences,

Lavanya & Deepak Shah & family

from : USA

DR.ANURAG said...

राज जी से मेरा e मेल पर संवाद हुआ था ...अभी उनकी मनोस्थिति समझी जा सकती है...

उन्मुक्त said...

ईश्वर उनकी आत्मा को शान्ति दे।

Udan Tashtari said...

जी पत्राचार हो चुका है.

ईश्वर उनके पिता जी आत्मा को शांति दे.

अविनाश वाचस्पति said...

ओम शांति.

Dr.Parveen Chopra said...

उस परम पिता परमात्मा से यही प्रार्थना है कि वह राज जी के पिता की आत्मा को सद्गति प्रदान करे और राज जी के समस्त परिवार को यह सदमा सहने का धैर्य प्रदान करे। आमीन !!

राज भाटिय़ा said...

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद ओर दिनेश राय जी का भी बहुत बहुत धन्यवाद, सच मे आप सब मेरे दुख ओर सुख के साथी हे,अगले साल आप सब के दर्शन जरुर करुगां

बोधिसत्व said...

इस दुख की मनोदशा में मैं राज जी के साथ हूँ...और उनके पिता जी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूँ...

mahashakti said...

दिवंगत आत्मा को ईश्‍वर श‍ान्ति प्रदान करें, तथा इस दु:ख के क्षण में भाटिया को अतुल्‍य छति को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

नैनं छिदंति शस्त्राणी, नैनं दहति पावक।
न चैनं क्लेदयां तापो, नैनं शोशयति मारूत।।

mamta said...

ईश्वर पिताजी की आत्मा को शान्ति प्रदान करे।
और भगवान से प्रार्थना करते है की राज जी और उनके परिवार को इस दुःख को सहने की शक्ति दे।

anitakumar said...

राज जी के पिता जी की आत्मा को भगवान शांती दे और राज जी को शक्ति कि इस दु:ख की घड़ी को सह सकें।

Our heartfelt condolescences to Raj ji

Anita & Vinod

mahendra mishra said...

श्रद्धाँजली अर्पित करता हूँ और उनके पिता जी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूँ,