Wednesday, September 1, 2010

जन्माष्टमी आज या कल ? //// कितनी तरह के चांद्रमास ?

कुछ लोग आज कृष्ण जन्माष्टमी मना रहे हैं। कुछ लोग कल मनाएंगे। इस विविधता को ले कर कई लोगों के मन में हिन्दू परंपराओं को ले कर प्रश्न खड़े होते हैं, कि आखिर हम एक बड़े पर्व को मनाने के लिए भी क्यों नहीं एकमत हो सकते? पर यह प्रश्न इतना आसान नहीं है। वैसे तो इस्लाम के अनेक फिरके हैं। वहाँ भी ईद मनाने को ले कर विवाद खड़े होते रहे हैं। दाऊदी समुदाय कलेंडर के हिसाब से ईद मनाता है लेकिन अन्य फिरके चांद देख कर ही ईद का निश्चय करते हैं। चांद यदि माह के 29वें दिन दिखाई दे गया तो माह 29 दिन का हुआ अन्यथा वह 30 दिन का तो होगा ही। यदि रमजान के 29वें दिन चांद दिखाई दे गया तो अगले दिन ईद हो जाती है। वरना उस से अगले दिन तो होगी ही। यही कारण है कि अगले दिन चांद देखने की उत्सुकता भी वहीं समाप्त हो जाती है। कुछ पक्के ईमान वाले लोगों की गवाही पर काजी जी या इमाम ईद की घोषणा कर देते हैं। ............
भारतीय परंपरा के त्योहारों का मामला कुछ अलग है। जहाँ तक भारतीय तिथियोंका प्रश्न है वे चंद्रमा की कलाओं से निर्धारित होती हैं। प्रथम पक्ष की 15 तिथियाँ और द्वितीय पक्ष की 15 तिथियाँ। लेकिन चंद्रमा का एक माह अर्थात एक चांद्रमास कितने ही प्रकार के हो सकते हैं। 
1. नोडल-मास या ड्रेकोनियन-मास -हम जानते हैं कि पृथ्वी सूर्य की और चंद्रमा पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं। इस तरह दोनों की अपनी कक्षाएँ हैं लेकिन इन कक्षाओं की स्थिति में लगभग 15 डिग्री का अंतर है और चंद्रमा की कक्षा दो स्थानों पर पृथ्वी की कक्षा को काटती है इन्हें अंग्रेजी में नोड कहते हैं। एक नोड से यात्रा आरंभ कर उसी नोड पर पुनः पहुँचने में लगने वाले समंय को हम एक चांद्र मास कह सकते हैं। यह चांद्रमास नोडल-मास या ड्रेकोनियन-मास कहलाता है।  यह 27.21222 दिनों का होता है। 
2. ट्रॉपिकल या उष्णकटिबंधीय मास - हम जानते हैं कि पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है। उस के घूमने की एक दिशा है। साथ ही वह सूर्य के भी वर्ष में एक चक्कर लगाती है। हमें आकाशीय पृष्ठभूमि में सूर्य वर्ष में पृथ्वी का एक चक्कर लगाता हुआ जान पड़ता है। इस तरह वर्ष भर में जिस वृत्त में सूर्य पृथ्वी से भ्रमण करता हुआ दिखाई देता है उसे हम क्रांतिवृत्त कहते हैं। पूरे वर्ष में दो बार ऐसा होता है कि जब पृथ्वी की विषुवत रेखा से हो कर यह क्रांतिवत्त गुजरता है। इन्हीं बिन्दुओं को हम विषुव कहते हैं। तथा मार्च माह में पड़ने वाले विषुव बिन्दु को ही पाश्चात्य ज्योतिष में मेष राशि का प्रस्थान बिंदु माना है। इस तरह क्रांतिवृत्त के किसी भी बिंदु से वापस उसी बिंदु तक चंद्रमा की एक यात्रा में लगा समय ट्रॉपिकल या उष्णकटिबंधीय मास कहलाता है। यह 27.3215 दिनों का होता है।  
3. साइडरियल या नाक्षत्र मास - खगोल में हम ग्रहों और उपग्रहों की गतियों की गणना के लिए नक्षत्रों को स्थिर मानते हैं। वस्तुतः ये तारे होते हैं। किसी एक तारे से उसी तारे तक की चंद्रमा की एक यात्रा में लगने वाले समय को हम साइडरियल या नाक्षत्र मास कहते हैं। यह 27.32166 दिनों का होता है।
4. एनोमेलिस्टिक या सामीप्य मास - हम जानते हैं की चंद्रमा की पृथ्वी के गिर्द चक्कर लगाने की कक्षा लगभग वृत्तीय है लेकिन पूरी तरह से नहीं। वह भी दीर्घवृत्तीय ही है। इस का नतीजा यह होता है कि चंद्रमा कभी पृथ्वी के निकटतम होता है और कभी अधिकतम दूरी पर होता है। इस कक्षा के उस बिंदु से जिस पर चंद्रमा पृथ्वी के सब से निकट होता है वापस उसी बिंदु तक लौटने की चंद्रमा की एक यात्रा में व्यतीत समय को हम एनोमेलिस्टिक मास कहते हैं। हम इसे सामीप्य मास भी कह सकते हैं। यह 27.55455 दिनों का होता है। 
5. साइनोडिक या संयुति मास - हम ने अब तक जितने भी चांद्रमास देखे हैं उन की अवधि लगभग 27.2 से 27.5 दिन के बीच की है। लेकिन हम यहाँ जिस महिने को व्यवहार में लाते हैं वह चांद्रमास तो इस से दो दिन अधिक का और लगभग 30 दिनों का होता है। जब भी हम महीना शब्द का उपयोग करते हैं तो उसे 30 दिनों का ही समझते हैं। इस का कारण है कि हम चंद्रमा को उस के पूर्ण होने और गायब हो जाने से जानते हैं। चंद्रमा जिस बिंदु पर पूर्ण दिखाई पड़ता है वह बिंदु वह है जब पृथ्वी चंद्रमा और सूर्य एक रेखा पर आ जाते हैं और पृथ्वी दोनों के बीच होती है। इसे ही हम पूर्णिमा कहते हैं। लेकिन एक रेखा पर तो वे अमावस्या को भी आते हैं, लेकिन तब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के मध्य होता है। इसी बिंदु को हम नवचंद्र  बिंदु भी कहते हैं। नवचंद्र बिन्दु से नवचंद्र बिन्दु तक की चंद्रमा की यात्रा में लगने वाला समय साइनोडिक या संयुति मास कहलाता है। यह 29.53059 दिनों का होता है। 
न पाँच तरह के चांद्रमासों के अलावा और भी कितने ही तरह के महिने हैं। जैसे सौर मास और कलेंडर मास आदि आदि। यह लम्बी कहानी है। अब आप ही देखिए न मैं बात करने चला था जन्माष्टमी की कि वह दो दिन क्यों मनाई जा रही है। लेकिन बीच में ही यह चांद्रमास गाथा आरंभ हो गई। चलो आज अब इतना ही समय है। जन्माष्टमी की बात कल करें आखिर कल भी जन्माष्टमी है और फिर परसों हम कृष्ण जन्मोत्सव भी तो मनाएँगे। अभी तो हम जय बोल देते हैं। जय बोलो नन्द लाला, नन्द किशोर की। (एक बात बता दूँ, इन दो नामों में बाद वाला  नाम मेरी वल्दियत भी है)

Post a Comment