Monday, September 6, 2010

छप्पन के बचपने का पहला दिन .....

ल का दिन अहम तो था ही। आखिर हम सुबह सवेरे जब पाँच बज कर उनचास मिनट में छह सैकंड शेष थे तब जिन्दगी के पचपन साल पूरे कर छप्पनवें में प्रवेश कर लिया था। हम ने घोषणा भी कर दी थी कि अब फिर से बचपन आरंभ हो रहा है। लेकिन बचपन को बचपन जैसे साथी भी तो मिलते। उन का अभी सर्वथा अभाव है। घर में तो हम दो प्राणी हैं। एक हम खुद और दूसरी हमारी अर्धांगिनी शोभा। हमारा जन्मदिन भले ही सुबह आरंभ छह बजे के करीब आरंभ हुआ हो, पर बधाइयाँ रात बारह के बारह के पहले ही आरंभ हो चुकी थीं। पाबला जी की जय हो। सब से पहले उन का फोन था। बात उन के सुपुत्र गुरुप्रीत से भी हुई। बहुत दूर था पार्टी चाह रहा था। हम ने कहा आ जाओ। उस ने जल्दी ही आने का वायदा किया। वह होता तो बचपन का आनंद मिलता। फिर सुबह बिस्तर से नीचे उतरता उस से पहले ही मोबाइल की घंटी बज उठी। दीपक मशाल थे। पूछ रहे थे कैसे मनाएंगे? मंदिर जाएंगे। हम ने कहा -सोचा नहीं है। पर हमारा घर मंदिर से कम थोड़े ही ना है।
कॉफी पी और आदत के मुताबिक कंप्यूटर संभाला। संदेशों का उत्तर दिया। तभी ताऊ जी का ब्लाग खुल गया। पहेली थी। हम जिद पर आ गए कि आज तो पहेली हमें ही जीतनी है। जन्मदिन का आरंभ इसी से क्यों न हो। हम पहेली का उत्तर तलाशने लगे। उत्तर मिला लेकिन जैसे ही जवाब लिखने लगे बिजली ने कंप्यूटर का बैंड बजा दिया। ठीक साढ़े आठ पर गई थी। नौ बजे तक नहीं लौटी। बिजली वालों से फोन कर के पूछते उस से पहले अखबार देख लेना उचित समझा। अखबार के पाँचवे पृष्ठ पर हमारी बस्ती का नाम उस सूची में शामिल था जिस की बिजली एक बजे तक बंद रहनी थी। अब देखिए, बिजली वालों को भी मेरी बस्ती की बिजली मरम्मत के लिए आज ही का दिन मिला था। तभी फोन आ गया। बेटा वैभव बधाई दे रहा था। अब बिजली नहीं थी। लेकिन मोबाइल और बेसिक दोनों फोन चालू थे। श्रीमती जी ने स्नान कर के स्नानघर हमारे लिए छोड़ दिया था। हम उसी की शरण मे  चले गए।
चपन याद आने लगा। तब तिथि पकड़ कर जन्मदिन मनाया जाता था। रक्षाबंधन के अगले दिन। उस दिन के कुछ मेहमान स्थायी होते थे। सुबह ही स्नान करा दिया जाता था। अम्माँ उस दिन जरूर हल्दी-आटे-चंदन का उबटन लगाती थीं। हमें हल्दी का रंग निकालने के लिए दो बार साबुन लगा कर नहाना होता था, जो हमेशा तकलीफदेह होता था। शायद ही कभी साबुन आँखों में न जाता हो। कल कई सालों के बाद सिर के बचे हुए 20 फीसदी बालों को शैम्पू किया। चांदी से बाल मुलायम हो गए। नहाने के लिए सिर को बचाते हुए इस्तेमाल किया। पर साबुन को भी हमारा बचपन याद आ गया और उस ने आँखों  से छेड़-छाड़ कर दी। बचपन का आरंभ हो चुका था। स्नान कर के बाहर निकला तब तक शोभा जी अपने शंकर जी की पूजा कर चुकी थीं। हम ने भी अपना श्रृंगार किया। शोभा जानती है कि हमारी भूख का स्नान से तगड़ा रिश्ता है। कहने लगी -आप को तो पार्टी में जाना है? पर वहाँ तो देर से भोजन होगा। अभी क्या बनाया जाए। पूर्व संध्या पर उस का भोजन बनाने का मन नहीं था। भूख भी कम ही थी। हम कहीं मिल कर लौटे थे तो घर में घुसने के बाद उस ने कहा था। रास्ते में याद नहीं रहा, वर्ना कचौड़ियाँ लेते आते। मैं ने कहा कचौड़ियाँ ले आता हूँ। उस ने सहमति मे सिर हिला दिया।
मैं
ने बेटे की बाइक निकाली। अभी मैं उस पर असहज होता हूँ। लेकिन एक किलोमीटर ही तो जाना था। कचौड़ियों की दुकान से कचौड़ियाँ लेते लेते बूंदाबांदी आरंभ हो गई। मैं रुका नहीं चलता रहा, भीगने का आनंद लेता हुआ। घर के नजदीक पहुँचा तो शोभा बाहर ही खड़ी थी। उस ने जल्दी से गेट खोल दिया। मैं ने भी भीगने से बचने के लिए बाइक को सीधे ही रैंप पर चढ़ा दिया। मुझे ख्याल नहीं रहा था कि बाइक चौथे गियर में है और रेंप की चढ़ाई नहीं चढ़ सकेगी। आधे रेंप पर चढ़ते ही बोल गई। हाथ क्लच पर चला गया। इंजन का पहिए से रहा सहा रिश्ता भी समाप्त होते ही वह दौड़ पड़ा। बाइक कटी पतंग की तरह पीछे लौटने लगी। ब्रेक लगाया तो फिसल पड़ी। तब तक एक पैर जमीन पर टिक चुका था। पर बाइक को पीछे लौटने से रोकना था। उस कोशिश में हेंडल घूम गया। बाएँ हाथ की कलाई और दायाँ कंधा दोनों मोच खा गए। एक बारगी लगा कि दायें बाजू की हड्डी कंधे में से निकल पड़ेगी। पर तब तक संभल चुका था। वह अपने स्थान पर जमी रह गई। इस में दोनों स्थानों की पेशियों ने अपनी महान भूमिका अदा की। लेकिन बेचारी घायल हो कर गान करने लगीं। बाइक को बंद हालत में ही धकिया कर घर में चढ़ाया गया। 
श्रीमती जी हमारी संगत में हम से भी पक्की होमियोपैथ हो गई हैं। उन्हों ने तुरंत आर्निका-200 की एक खुराक दे डाली। मैं निश्चिंत हो गया कि अब सूजन तो नहीं आएगी। वह आई भी नहीं। थैली में पाँच कचौड़ियाँ थीं। मुझे तो जीमने जाना ही था, दो ही खाईं, तीन शोभा को दीं। उस के खाने का किस्सा शाम तक का तमाम हो चुका था। बिजली एक के बजाए बारह बजे ही चालू हो गई। हमने तुरंत ताऊ पहेली का जवाब दिया। तभी वापस चली गई। हम समझ गए कि बिजली वाले अपनी कारगुजारियों की जाँच कर रहे हैं। एक बजे पड़ौसी जैन साहब ने आवाज लगा दी। चलना नहीं है क्या? एक पड़ौसी इकत्तीस को नौकरी से मुक्त हुए थे, उन की पार्टी में भीतरिया कुंड जाना था। हमने कार निकाली, चार और पडौसियों को ले कर भीतरिया कुंड पहुंच गए। तब तक वहाँ मेहमान कम थे। भोजन तैयार था। भीतरिया कुंड चम्बल के किनारे बना एक पुराना बगीचा है। जहाँ एक प्राचीन शिवमंदिर भी है मंदिर के सामने बारह मासी एक कुंड। पास ही चंबल, यहाँ से नदी पार का थर्मल पावर स्टेशन और बैराज एक साथ दिखाई देते हैं। मुझे दीपक मशाल की बात याद आई। मैं मंदिर की और चल दिया। मेजबान कहने लगे कहाँ चल दिए। मैं ने कहा शंकर जी से मिल आता हूँ। वरना शोभा से शिकायत करेंगे कि बहुत दिनों में बगीचे में आया और उन से मिला भी नहीं। अब सु्प्रीम कोर्ट की शिकायत से कौन न बचना चाहेगा? 
मंदिर के बाहर ही मालिनें बैठी थीं। अब इन का कारोबार मंदिरो पर ही रह गया है। शेष फ्लावर हाउस छीन ले गए। एक जमाने में ये मालिनें बहुत से कवियों के लिए प्रेरणा का स्रोत हुआ करती थीं। पर अब फैशन बदल गया है। एक मालिन ने आवाज लगाई -बाबूजी आज ग्यारस है। आँकड़े की माला ले जाओ, पाँच रुपये में। मैं ने एक ले ली और मंदिर में पहुँच गया। शंकर जी को किसी ने नहलाया ही था। पूरी तरह श्रृंगारविहीन थे। मैं ने आँकड़े की माला उन्हें पहना दी। फिर उन के परिजनों की सुध लेने लगा। सब दिखाई दिए। माँ गौरी थीं, गणेश थे, नंदी था, साँप और चंद्र भी थे। पर कार्तिकेय नहीं दिखाई दिए। बहुत तलाशा पर नहीं मिले। जब से वे दक्षिण जा कर सुब्रह्मण्यम हुए हैं, उत्तर वाले उन्हें विस्मृत करने लगे हैं। हरिहर अयप्पा को तो शायद जानते भी नहीं यदि उत्तर में आ कर बस गए मलयालियों ने उन के मंदिर न बनवा दिए होते। वापस लौटा तो कलाई और कांधे की जुगलबंदी आरंभ हो चुकी थी। शोभा ने एक गोली किसी दर्दनिवारक की दी। मैं फिर बिस्तरशरण हो गया। थोड़ी देर बाद ही शोभा ने जगा दिया। दूध लेने चलना है। वहाँ गये तो  महिलाएँ कतार से बैठी थीं, भैस का खालिस दूध लेने के लिए। बराबर बाँट में दूध बस एक किलो मिला। अगले दिन बछारस जो थी। उस दिन गाय का दूध और गेहूँ का उपयोग महिलाओं के लिए वर्जित है। यह संभवतः उन दिनों की स्मृति है जब खेती के लिए गौवत्स निहायत आवश्यक हो उठे थे और उन का वंश बनाए रखने के लिए यह अनुष्ठान आरंभ हुआ होगा। इस की कथा कोई महिला ही कहे तो अच्छा लगेगा। 
खैर! छप्पनवें साल के बचपने ने पहले दिन ही रंगत दिखा दी। इस लिए आज सिर्फ आराम किया गया। हाथों और उंगलियों को भी करने दिया। शोभा सो गई है इसलिए इन्हें तकलीफ देने की हिमाकत की है। डर भी लग रहा है कि उठ गई तो डाँटेगी नहीं तो ताना तो कस ही देगी।
चंबल पार थर्मल प्लांट और दाएं बैराज

उद्यान में मंदिर और चंबल की ओर उतरती सीढ़ियाँ


चतुर्मुखी शिव और बीच में लिंग
शंकर अर्धांगिनी पार्वती

नंदी


सीढ़ियों से दिखाई देती चंबल

गणेश

अनवरत ताजा जल से भरा कुंड
Post a Comment