Sunday, August 10, 2014

बधाइयाँ... बधाइयाँ...!

बधाइयाँ आ रही हैं, बधाइयाँ जा रही हैं, बधाइयाँ पोस्टरों पर हैं, नगरों में सड़कों के किनारे टंगे बड़े बड़े होर्डिंग्स पर हैं। बधाइयाँ तमाम तरह की सोशल साइट्स पर अटकी हैं, लटकी हैं और अटकाई, लटकाई जा रही हैं। यूँ तो हर दिन बधाइयों का दिन है, पर आज रक्षाबंधन है और हर कोई बधाइयाँ देने को आतुर है। बाजार ने हर त्यौहार की तरह रक्षाबंधन को भी अपने शिकार का दिन बनाया है। बाजार जैसा कोई मौकापरस्त नहीं, वह हमेशा ताक में रहता है कि कोई मौका मिले और लोगों की जेबें हलाल की जाएँ। त्यौहार है तो बाजार से मिठाइयाँ आ गई हैं। बहनों ने राखियाँ भेज दी हैं, साथ में वही स्कूल के जमाने में शिक्षकों द्वारा सिखाया गया 'रक्षाबंधन के पर्व पर भाई को बहन का पत्र' टाइप की भाव के अभाव से जूझती चिट्ठियाँ हैं। 
मैं सोच रहा हूँ  ...  क्यों? ... आखिर क्यों मनाया जा रहा है रक्षाबंधन का यह त्यौहार? क्या, कैसा और किसे संदेश दिए जा रहा है यह?
बहनें भाइयों को रक्षा सूत्र बांधने को दौड़ रही हैं।  वाहन ओवरलोड हो चल रहे हैं। शासन स्त्रियों के प्रति इतना उदार हो गया है। त्यौहार को मनाने में स्त्रियों का सहयोग कर रहा है। सरकारी वाहन बहनों की यात्राओं के लिए मुफ्त कर दिए हैं जिस से भाई को राखी बान्धने में बहनों को कोई बाधा न रहे। संघ के स्वयं सेवक एक दूसरे को रक्षासूत्र बांध रहे हैं। पुरोहित यजमानों की कलाइयों पर और उन के व्यवसाय के साधनों पर रक्षासूत्र बांधे जा रहे हैं। रक्षा बंधन का यह रक्षासूत्र संदेश पहुँचा रहा है ... भाई मैं ने तुम्हें राखी बान्ध दी है। अब मुझ अरक्षित की रक्षा की जिम्मेदारी तुम पर है।   यह संदेश जिसे रक्षासूत्र बांधा गया है उस तक पहुँचता है या नहीं यह तो पता नहीं पर रक्षासूत्र बांधने वाले को खुद अपनी असुरक्षा का अहसास जरूर कराता है।
स्त्री अरक्षित है, वह सुरक्षित नहीं है। उसे यह अहसास हमेशा रहना चाहिए। दुनिया के तमाम पुरुषों से उसे खतरा है, लेकिन उस की सुरक्षा भी पुरुष ही कर सकता है। कोई भी दूसरी स्त्री या कई स्त्रियाँ भी मिल कर उसे सुरक्षा नहीं दे सकतीं। पति उसे सुरक्षा नहीं दे सकता, पति के परिवार का कोई पुरुष उसे सुरक्षा नहीं दे सकता, कोई पुरुष मित्र उसे सुरक्षा नहीं दे सकता। उसे सुरक्षा सिर्फ उस के मायके के पुरुष से मिल सकती है। पिता तो वृद्ध हो चुका है, इस कारण केवल भाई ही है जो उसे सुरक्षा दे सकता है। वह भाई को रक्षासूत्र बांधने के लिए दौड़ी जा रही है। 
संघ के स्वयंसेवक संगठित हो कर भी अरक्षित महसूस कर रहे हैं और एक दूसरे को रक्षा सूत्र बांध कर अपने मन समझा रहे हैं। जब कभी वे संकट में होंगे और उन्हें सुरक्षा की आवश्यकता होगी तो दूसरा स्वयंसेवक जरूर उस की रक्षा करेगा। रक्षासूत्र बांधने के बाद स्वयंसेवक को साँस में साँस आई है। अब कुछ तसल्ली हुई है कि उस की रक्षा करने वाला कोई है। कम से कम वे तो हैं ही जिन की कलाइयों पर उस ने रक्षासूत्र बांधा है।
पुरोहित अरक्षित है। उस की रोजी रोटी यजमान के हाथों में है। यजमान उस से यज्ञ न करवाए, यजमान से दक्षिणा प्राप्त न हो तो उस का तो जीते जी कल्याण ही हो जाए। वह हर यज्ञ के आरंभ में यजमान को रक्षासूत्र बांधता है। फिर भी आज रक्षाबंधन के दिन फिर से यजमानों को रक्षासूत्र बांधने निकल पड़ा है। उस ने अपना कोई यजमान नहीं छोड़ा है। इतने यजमानों को रक्षासूत्र बांधने के बाद भी पुरोहित की सुरक्षा कम नहीं हुई है। आजकल यजमान तब तक ही यजमान रहते हैं जब तक पुरोहित कोई अनुष्ठान कर रहा है। बाद में ...
 मुझे लगता है हर कोई अरक्षित है। नहीं है, तो भी उसे यह अहसास कराया जाना जरूरी है कि वह अरक्षित है। समाज में स्त्रियाँ पुरुषों से अरक्षित हैं, वे कमजोर हैं, अबलाएँ हैं, उन्हें सुरक्षा चाहिए जो केवल पुरुष ही दे सकते हैं। सारे शूद्र अरक्षित हैं, उन्हें उन के यजमान ही सुरक्षा दे सकते हैं। ब्राह्मण पुरोहित अरक्षित हैं उन्हें उन के महाजन यजमान सुरक्षा दे सकते हैं। प्रजातंत्र में क्षत्रीय तो अब रहे नहीं। अब राज्य की सेनाएँ हैं, पुलिस है। छोटे महाजन को बड़ा महाजन सुरक्षा दे सकता है। सारे समाज को देश को केवल वही सुरक्षा दे सकते हैं जिन्हों ने देश भर के साधनों को हथिया रखा है और धीरे धीरे सब कुछ हथियाये जा रहे हैं।
 रक्षाबंधन का यह पर्व सुन्दर अहसास करवा रहा है। देश की जनता का अधिकांश हिस्सा खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है और उपाय के रूप में रक्षा के लिए जो भी नजदीक दिखाई दे रहा है उसी को रक्षासूत्र बांध रहा है। यह त्यौहार देश और समाज की संपूर्ण संयोजित असुरक्षा को महसूस करने का त्यौहार बन गया है। स्थापित किया जा रहा है कि समाज में स्त्रिया सदैव से असुरक्षित थीं, अब असुरक्षित हैं और सदैव असुरक्षित रहेंगी (पुरुषों के कारण) और पुरुष सुरक्षा देंगे। समाज में कमजोर शूद्र और श्रमजीवी सदैव सुरक्षित रहेंगे (सक्षमों के कारण) और सक्षम उन्हें सुरक्षा देंगे। यह त्यौहार पुंसवादी समाज में पुरुषों की और सक्षमों के आधिपत्य वाले समाज में सक्षमों की पूजा का त्यौहार है, उन की अधीनता स्वीकार कराने का त्यौहार है। असुरक्षा और अधीनता के भाव को और अधिक प्रबल बनाने का त्यौहार है। नहीं?


 
Post a Comment