Monday, June 24, 2013

बहुत भद्द होती है जी देश की


                                       -शिवराम

कैसा चुगद लगता है वह
जब चरित्र की बातें करता है
देशभक्ति का उपदेश देते वक्त तो
एकदम हास्यास्पद हो जाता है
जब धर्म पर बोलता है
तो हँसने लगते हैं लोग

नेताओं को और कुछ आए न आए
अभिनय अवश्य आना चाहिए

पुराने नेता कितने अनुभवी होते थे
कुछ भी बोलते थे
ऐसा लगता था कि
बिलकुल सच बोल रहे हैं
एकदम सत्यमेव जयते

लेकिन आजकल
अनाड़ी और नौसिखिया लोग चले आ रहे हैं
तुरन्त पकड़े जाते हैं
मामला बोलने-चालने का हो
या लेन-देन का

मेरी इच्छा होती है कि
इन से नाटक कराऊँ
रिहर्सल में कुछ तो सीखेंगे

वैसे, सरकारों को चाहिए कि
गौशालाओं की तर्ज पर हर जिले में
रंगशालाएँ खोलें

प्रशिक्षण शिविर लगाएँ
राजनीति में प्रवेश के लिए
अनिवार्य कर दिया जाना चाहिए
कम से कम थ्री इयर्स डिप्लोमा
इन ऐक्टिंग एण्ड गिविंग एण्ड टेकिंग


बहुत भद्द होती है जी देश की
संसद की और हमारी-आप की।

7 comments:

bharadwajgwalior.blogspot.com said...

yatarth ke najdik. najadik isaliye kaha kyonki inake avaguno ko shabdo me vyakt kar pana asambhav hai. jabaki kai logo ke shabd kosh me ye shabd hota nahi hai.magar unase nivedan hai ab shamil karle.

प्रतिभा सक्सेना said...

'वैसे, सरकारों को चाहिए कि
गौशालाओं की तर्ज पर हर जिले में
रंगशालाएँ खोलें
प्रशिक्षण शिविर लगाएँ
राजनीति में प्रवेश के लिए '
- यह तो बहुत अच्छा सुझाव है,अमल होना चाहिये!

कालीपद प्रसाद said...

बहुत बढ़िया क्लासिकल व्यंग !
latest post जिज्ञासा ! जिज्ञासा !! जिज्ञासा !!!

प्रवीण पाण्डेय said...

सच कहा, अभिनय और मनोरंजन तो अनिवार्य विषय हो गये हैं इस राजनीति की इस विधा के।

ताऊ रामपुरिया said...

अत्यंत सटीक रचना.

रामराम.

anshumala said...


तीन नहीं चार साल का कोर्स दिल्ली विश्वविद्यालय जल्दी ही स्नातक का कोर्स चार साल का करने वाली है , सो यहाँ भी चार साल का सीधे डिग्री कोर्स, कुछ को तो सख्त जरुरत है इसकी ।

Madan Mohan Saxena said...

वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/