Monday, April 25, 2011

बाबा ईश्वरीप्रसाद की कॉफी और क्वाँळजी के लिए प्रस्थान

श्वरी प्रसाद केशवराय पाटन में सहकारी शुगर मिल में काम करता था। लाल झंडा यूनियन का ईमानदार नेता था। कभी उस ने भी क्रांति और समाजवाद के सपने देखे थे और उन के लिए काम भी किया था। उसे आज भी दृढ़ विश्वास है कि समाज जरूर बदलेगा। फिर अचानक इलाके में गन्ना उत्पादन घाटे का सौदा हो गया। चीनी मिल बंद होने के कगार पर पहुँच गई। एक दिन वह काम से लौटा तो थका हुआ था। कुछ पी खा कर बिस्तर पर सोया ही था कि मिल से फोन आ गया। कोई विवाद हो गया था और प्रबंधक बुला रहे थे। उस ने मना किया कि जो भी होगा सुबह देखेंगे। लेकिन ज्यादा जोर दिया तो वह चला गया। एक तो थकान, दूसरे नींद और तीसरे नशा। विवाद में प्रबंधकों के साथ खुल कर गाली-गलौच किया। प्रबंधक तो ताक में थे ही उसे आरोप लगा कर नौकरी से चलता किया। मिल बंद करना आसान हो गया। कुछ दिन मिल कॉलोनी में रहता रहा फिर गाँव लाखेरी चला गया। वहाँ एक हनुमान मंदिर पर कुछ असामाजिक लोग कब्जा करने को थे। उस ने वहाँ धूनी रमा दी और बाबा जी हो गया। मंदिर पर रामायण पाठ शुरु हो गया। लोग आने लगे तो मंदिर का जीर्णोद्धार करवा दिया। कुछ बरस पहले जब मेगा हाईवे बन रहा था तो इंद्रगढ़ से तीन किलोमीटर आगे एक हनुमान मूर्ति स्थापित थी, कोई उस की पूजा भी न करता था और वह सड़क में बाधा थी। ठेकेदार ने उसे उठा कर आगे नाले में फिंकवा दिया। गाँव वालों को पता लगा तो उन का गुस्सा भड़क उठा। पुरानी मूर्ति तो खंडित हो गई थी। वे नई ले आए और सड़क के ठीक किनारे उसे स्थापित कर दिया। मूर्ति तो स्थापित हो गई लेकिन अब उस की सुरक्षा कैसे हो? गाँव वालों को ईश्वरी बाबा की याद आ गई। उन्हें वहाँ ले गए। ईश्वरी बाबा ने 108 अखंड रामायण पाठ की घोषणा कर दी। धीरे-धीरे भक्तगण जुड़ने लगे। कोई पत्थर लाया कोई सीमेंट। मूर्ति के चारों और एक कमरा बन गया और लोहे के जंगले का दरवाजा लग गया। मंदिर तो हो ही गया। अखंड पाठ अभी चल रहा है।
टोल प्लाजा से लौटते हुए
श्वरी बाबा हमारी कार को टोल प्लाजा से मुफ्त निकाल मंदिर तक ले गए। मंदिर के पास ही एक चाय की थड़ी लगी थी। उस के अलावा कुछ नहीं था। ईश्वरी कहने लगे -आप को कॉफी पिलाने लाया हूँ। इस के पहले कॉफी तभी पी थी जब आप के पास कोटा आया था। फिर वह अपनी और मंदिर की कथा सुनाने लगे। उन्हें विश्वास था कि दो-चार बरस में मंदिर भव्य रूप ले लेगा। मैं ने कहा तुमने तो चोला ही बदल डाला -कहाँ यूनियन बाजी और कहाँ ये जटाजूट बाबा। ईश्वरी कहने लगे -कुछ भी हो मैंने लाल झंडा तो नहीं छोड़ा। जिस दिन लोग गरम होंगे  ऐसे ही लोगों को ले कर मैदान में कूद पड़ूंगा। यहाँ भी लोगों को संगठित तो कर ही रहा हूँ। मुझे लगा कि अभी भी क्रांति और समाजवाद का सपना उस की आँखों में जीवित है। कॉफी पी कर हम वहाँ से उठ लिए। हमें क्वाँळजी भी जाना था। ईश्वरी ने क्वाँळजी जाने का मार्ग बताया। 

क्वाँळजी मंदिर के बाहर एक मूर्ति
क्वाँळजी' बोले तो कमलेश्वर महादेव। यह इंद्रगढ़ से कोई पन्द्रह किलोमीटर दूर जंगल के बीच सातवीं से नवीं शताब्दी के बीच निर्मित शिव मंदिर है। बाद में 1345 में राजा जैतसिंह ने इस की मरम्मत और नवीनीकरण करवाया। (यहाँ इस के बारे में कुछ जानकारी उपलब्ध है) मैं पहले भी यहाँ दो बार जा चुका हूँ। एक बार पिताजी और माँ साथ थे। तब मेरी उम्र कोई आठ नौ वर्ष की रही होगी। तब यहाँ का दृश्य मनोरम था। एक बड़े चबूतरे पर स्थापित विशाल, भव्य और कलात्मक शिव मंदिर। पास ही तीन कुंड। जिन में एक छोटा और एक बड़ा कहलाता था। आकार में बड़े कुंड को छोटा और छोटे को बड़ा कहते थे। बड़े कुंड में लोग मृतकों की अस्थियाँ और राख डालते थे और उस का जल राख के कारण हमेशा काला रहता था। लेकिन उस कुंड में स्नान अवश्य करते थे। उस के बाद छोटे कुंड के निर्मल जल में स्नान करते। लोगों को विश्वास था कि बड़े कुंड में स्नान करने से चर्मरोग मिट जाते हैं। पास ही एक छोटी सी बारह मासी नदी बहती थी। तीन पहाड़ी सोतों का पानी उस में आता था और त्रिवेणी  कहलाती थी।  रात ठहरने को मंदिर परिसर के सिवा कुछ न था। एक पक्की धर्मशाला जातीय समुदाय द्वारा निर्मित की जा रही थी। उस बार पिताजी ने वहीं त्रिवेणी के किनारे जगरा लगा कर लड्डू-बाटी बनाए थे। उस समय की बहुत धुंधली यादें अब रह गई हैं। फिर दूसरी बार अचानक आना हुआ।

म्मा के हाथों में एक्जीमा था। दवाओं से मिट जाता था। लेकिन साल दो साल बाद फिर से निकल आता था। उस की इच्छा थी कि वह कमलेश्वर महादेव के कुंड में स्नान कर आए। शायद एक्जीमा से छुटकारा मिले। पिता जी के एक शिष्य ने जाने की योजना बनाई तो माँ ने भी उन के साथ जाना तय कर लिया। माँ तैयार हो गई। सुबह की ट्रेन से जाना था। लेकिन एक घंटे पूर्व ही पिताजी के शिष्य ने खबर भिजवाई कि उन्हें कोई जरूरी काम पड़ गया है तो नहीं जा पाएंगे। माँ का मूड खराब हो गया। मैं ने कहा मैं साथ चलता हूँ। उस बार वहाँ गया तो वहाँ अनेक धर्मशालाएँ बन चुकी थीं। कुंडों और त्रिवेणी में पानी अब भी था, पर उस की निर्मलता कम हो चली थी। माँ ने वहाँ स्नान किया दर्शन किए और हम चले आए। उस यात्रा में आगे डिग्गी के कल्याण जी और जयपुर भी गए। जयपुर में माँ ने गलता कुंड में भी स्नान किया और उसी रात दोनों हाथों का एक्जीमा भड़क उठा. तुरंत घर लौटे और डाक्टर का इलाज आरंभ करवाया। डाक्टर इलाज कर के थक चुका था। उस ने स्वयं-रक्त चिकित्सा (Autologous blood treatment) की प्राचीन पद्धति अपनाई और माँ का एक्जीमा मिट गया। अम्मा कहती है कि यह सब कमलेश्वर महादेव की कृपा है। डाक्टर को यह स्वयं-रक्त चिकित्सा पहले क्यों याद न आई। यह तीसरा मौका था जब मैं वहाँ जा रहा था। इस बार पत्नी और दोनों बच्चे साथ थे। 
Post a Comment