Saturday, April 23, 2011

जहाँ मैं ने पैदल चलना शुरू किया

पिछली चार पोस्टें (बाकी पूजा तू झेलपूर्वजों के गाँव में ...गैता का नगर राज्य और महाराज की बगीची और अपने पूर्वजों के गाँव की बगीची और उस के मंदिर हमारी 10 अप्रेल 2011 की  ग्राम यात्रा से संबंधित थीं। अगले दिन अवकाश नहीं था, अदालत जाना था। उस से अगले दिन रामनवमी का अवकाश था। बहुत दिनों से एक कर्ज था जिसे उतारना था। बचपन में कभी बेटी अस्वस्थ हुई थी तो अम्मा ने कहा था कि मैं ने संकल्प लिया है कि इसे एक बार अवश्य इंद्रगढ़ माताजी के यहाँ ढुकाउंगी। कमजोर और भावुक क्षणों  में ऐसे संकल्प कर लेना भारतीय जन की आम आदत है। अम्मा का घूमने का चाव भी इसी तरह पूरा होता है। यदि वे साल में ऐसे एक-दो संकल्प न करती रहती तो शायद उन्हें घर परिवार से बाहर जाने का अवसर ही नहीं मिलता। इस बार पत्नीजी ने कहा कि बच्चे घर पर हैं, अवकाश भी है, इस ऋण से भी मुक्त हुआ जाए। मुझे भी उस क्षेत्र में जाने का अवसर वर्षों से न मिला था। वहाँ एक वकील मित्र और दो पुराने मुवक्किलों से मिलने की इच्छा थी। मैं ने पत्नी जी का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। 
यात्रा के मार्ग के खेत, गेहूँ काटा जा चुका है
 ब हम गैंता से लौट रहे थे तो बीच में एक और पुराना कस्बा सुल्तानपुर पड़ता था। डूंगरली जाते समय पत्नी जी ने यहाँ की एक दुकान पर माताजी को चढ़ाने के कपड़े सजे देख लिए थे। वे कह रही थीं कि वहाँ से हमें माताजी के कपड़े लेने हैं। जैसे ही सुल्तानपुर आया मैं ने दुकान देखना आरंभ किया। जैसे ही वह दुकान दिखी मैं ने पास ही कार पार्क कर दी। पत्नी जी दुकान में प्रवेश कर गईं। मैं कॉफी के लिए दुकान तलाशने लगा। आखिर एक दिखी तो मैं ने वहाँ कॉफी बनाने को कहा और पास की दुकान पर पान बनवाने लगा। अचानक मुझे स्मरण हो आया कि इसी कस्बे में दाहजी (दादाजी) का विद्यार्थी जीवन गुजरा था। दाहजी के पिताजी खेड़ली छोड़ गैंता आ गए थे। नए कस्बे में आजीविका आसान न थी। किसी तरह गुजारा होता था। बच्चों की शिक्षा वहाँ हो सकना संभव न था। दाहजी के मामा संपन्न थे, इसी कस्बे सुल्तानपुर में रहते थे। उन्हों ने एक गुरुकुल स्थापित किया था। जहाँ संस्कृत, गणित, ज्योतिष, धर्मशास्त्र, कर्मकांड आदि की शिक्षा प्रदान की जाती थी। दाहजी को उन के पिता ने यहीं भेज दिया। दाहजी ने इसी कस्बे में मामा के गुरुकुल में रह कर शिक्षा ग्रहण की। उन की उस शिक्षा का लाभ मुझे भी मिला। सही मायने में मेरे पहले शिक्षक मेरे दाहजी ही थे। जिन्हों ने मुझे आरंभिक गणित और ज्योतिष सिखाई। मेरी माँ बताती है कि वह किसी समारोह में यहाँ कुछ दिन के लिए आई थीं। मैं ने यहीं पहली बार पैदल चलना आरंभ किया था। 

मुझे गुरुकुल के बारे में जानने की इच्छा हुई। मैं ने पान वाले से पूछा -यहाँ एक पुराना संस्कृत महाविद्यालय होता था, क्या अब भी है? उस ने बताया कि कोई एक फर्लांग आगे इसी सड़क पर बायीँ और एक मंदिर दिखाई देगा, वहीं वह विद्यालय था। लेकिन विद्यालय तो बरसों पहले बंद हो चुका है। दाहजी के मामा जी के संतान न थी। उन्हों ने अपने ही कुल के एक बालक को गोद लिया था। वह उन की संपत्ति का स्वामी हुआ। उस ने अपने जीवन काल में उस संस्कृत विद्यालय को चलाने का प्रयत्न भी किया, शायद इस भय से कि लोग उसे विरासत मिली संपत्ति पर प्रश्नचिन्ह खड़ा न करने लगें। लेकिन उस के जीवनकाल में ही वह विद्यालय दुर्व्यवस्था का शिकार हो कर बंद हो गया। अब केवल इमारत और मंदिर बचा है। मंदिर में पूजा होती है लेकिन इमारत का कोई अन्य उपयोग होने लगा है। दाहजी के मामा जी ने यह सोच कर विद्यालय आरंभ किया होगा कि यह उन के वंश को जीवित रखेगा, किन्तु ऐसा उन्होंने कभी सोचा भी न होगा कि एक पीढ़ी बाद ही वह बंद हो जाएगा। 

कॉफी बन कर आ गई। पहला घूँट स्वादिष्ट था। पर दूसरे ही घूँट में एक अजीब सी महक और स्वाद ने सारा आनंद किरकिरा कर दिया। यह लहसुन था। इस इलाके में लहसुन बहुत होता है। गाय और भैंसैं चराई के दौरान लहसुन के कचरे को खाती हैं। लहसुन की गंद और स्वाद इतना तेज होता है कि वह उन के दूध में आने लगता है। हम लोग लहसुन बिलकुल नहीं खाते, इस लिए इस तरह के स्वाद के दूध से बचते हैं। खैर, जैसे-तैसे मैं ने कॉफी को गले से नीचे उतारा। यदि पत्नी जी को इस दूध की चाय पिला दी जाती तो दो घूँट के बाद वे तो उलटी ही कर देतीं। मैं पान लेकर लौटा तब तक पत्नी जी खरीददारी कर चुकी थीं। हम चल पड़े। मार्ग में बाईं ओर संस्कृत विद्यालय की इमारत और मंदिर दिखाई पड़ा। पर वहाँ रुकने का मन न हुआ। अंधेरा होते होते हम कोटा पहुँच चुके थे। 
कार की पिछली सीट से बच्चों का लिया चित्र
गली सुबह जैसे ही मैं अदालत जाने को तैयार हुआ। पत्नी जी कहने लगी कि आज अष्टमी है, मंदिर जा कर माताजी को नए कपड़े पहना आओ। मैं तो पहना नहीं सकती, वहाँ स्त्रियों का चबूतरे पर चढ़ना वर्जित है।  अब जिस गली में मैं रहता हूँ उस के अंत में एक मंदिर है, जहाँ एक हनुमान जी और एक माताजी की मूर्ति है। पत्नी जी जानतीं हैं कि मेरा पूजा-पाठ, ईश्वर से कोई लेना देना नहीं। लेकिन वह तो विश्वासी है। उसे लगता है कि मेरे अविश्वासी होने के कारण, कहीं ऐसा न हो कोई विपत्ति परिवार को देखनी पड़े, तो वह ऐसे अवसर तलाशती रहती है। मैं ने पूछा ये वस्त्र तो आप इंद्रगढ़ के लिए लाई थीं? तो पत्नी ने बताया कि वे दो लाई हैं। ये कैसे होता कि इंद्रगढ़ की माताजी को तो नए वस्त्र पहना दिए जाएँ और यहाँ गली के माता जी पुराने ही वस्त्रों से नवरात्र  कर लें? मैं ने मना करना उचित न समझा। हम दोनों मंदिर गए। अखंड रामायण पाठ जारी था। वहाँ एक बुजुर्ग मौजूद थे जो नवरात्र के इस अखंड रामायण पाठ के संचालक थे। मैं ने उन से माता जी को नए वस्त्र पहनाने की अनुमति चाही, तो वे कहने लगे आप ने पेंट पहन रखी है, आप कैसे पहनाएंगे, मैं ही पहना देता हूँ। उन्हों ने खुद ने भी पेंट पहनी हुई थी। उन्हों ने उसे उतार कर एक पंजा लपेटा और नए वस्त्र ले कर माताजी तक गए। मैं भी पीछे-पीछे वहाँ पहुँच गया। मुझे देख कहने लगे -अब आप आ गए हैं तो आप ही पहना दीजिए। मैं ने देखा कि माता जी को जो कपड़े पहनाए हुए थे उन पर धूल जमी थी। शायद पिछले नवरात्र के बाद किसी ने उन्हें बदला ही न था। मैं ने माता जी की मूर्ति के पुराने वस्त्र हटा कर उन्हें नए पहना दिए। नए वस्त्र पहनाते ही माता जी की मूर्ति दमकने लगी। बुजुर्ग सज्जन ने बताया कि उन्हों ने मंदिर के भोपा को माताजी के नए वस्त्रों के लिए पहले नवरात्र के दिन ही रुपए दे दिए थे, लेकिन वह आज तक नहीं लाया। अब आप ले आए तो अब उसे मना कर दूंगा। पत्नी ने एक नारियल के साथ ग्यारह रुपए भी वहाँ भेंट किए। हम वापस घर लौट चले। पत्नी के चेहरे पर संतोष के चिन्ह देख मुझे भी अच्छा लगा। 

रात को मैं जब देर तक अपने ऑफिस में बैठा रहा तो पत्नी ने आ कर हिदायत दी कि अब सो जाओ सुबह जल्दी निकलना है, देर हो गई तो इंद्रगढ़ में माता जी की चढ़ाई में परेशानी होगी। मैं ने हिदायत का पालन किया और थोड़ी देर में ही ऑफिस का काम निपटा कर सोने चला गया।

(अगली पोस्ट इंद्रगढ़ की यात्रा पर) 
Post a Comment