Wednesday, June 30, 2010

नागा बाबा मरा नहीं है ........ यादवचंद्र पाण्डेय की बाबा नागार्जुन को समर्पित एक कविता

ज बाबा नागार्जुन का 100 वाँ जन्‍मदिन है। आज से उन का जन्मशती वर्ष आरंभ हो गया है। बाबा के बारे में कुछ भी लिख कर सूरज को दिया नहीं दिखाना चाहता। उन के जीवन, कृतित्व को कौन नहीं जानता? यादवचंद्र पाण्डेय उम्र में उन से मात्र सोलह वर्ष छोटे रहे, लेकिन बाबा के साथ उन के जीवन का एक बड़ा हिस्सा गुजरा। बाबा के शतकीय जन्मदिन पर पाण्डेय जी की कविता 'नागा बाबा' पढ़िए, जिस में बाबा नागार्जुन साकार हो उठते हैं .....

'नागा बाबा'
  • यादवचंद्र पाण्डेय  

संसद और विधान सभा में
प्रगट, गुप्त, सुनसान सभा में
मगरमच्छ लिखता आँसू से 
नागार्जुन हिन्दी के राजा
ज्यों सिलाव का राजा-खाजा
या रसगुल्ला कोलकता का 
या लिलुआ का टनटन भाजा
या मिथिला का भोग चकाचक
चूड़ा - दही - जलेबी ताजा
            पर कोई मरदूद न आता
            लाठी खाने, जेल भोगने 
            ले - देकर बस - नागा बाबा 

तुम जूझे थे -हम पूजेंगे
हमें जूझने को मत कहना
भला हुआ जो खाट पकड़ ली 
बीती बात भुलाए रहना
अखबारों में हम छापेंगे
तेरा क्लोज-अप, तेरी महिमा
इंटरव्यू टीवी पर लेंगे
सब को दी है टॉफी, तुमको
च्यवनप्राश का डब्बा देंगे

कम्युनिस्ट थे या जो कुछ थे
निजी मामला है तुम जानो
किन्तु सेठिया प्रजातंत्र में
कविता को वर्गेतर मानो
तुझे मीडिया चमका देगा
हर महफिल में झमका देगा
पुरस्कार से घर भर देगा
कालिदास, भवभूति, व्यास से 
सौ मीटर आगे कर देगा

कलम न कुछ भी दे पाती है 
जो देते हैं हम हैं देते
तेरे सारे पात्र मर गए
भीख मांगते लेते लेते
मिल-खेतों में धक्के खाते
दफ्तर में धरने पर लेटे
अरे भजो जो हमको प्यारे
भकुआ भारत - श्री हो जाए
गोबर भी बन जाए गेटे

अस्पताल में जो जाते हैं
और नहीं वापस आते हैं
हम मिजाजपुर्सी में उनके
आते हैं अपनत्व जताने
रंथी पर सोना बरसाने
थीसिस लिखने फिल्म बनाने
खुद नागा बाबा बन जाने 
           पर कोई मरदूद न आता
           झंडा ढोने दरी बिछाने
           ले - देकर बस - नागा बाबा

वक्र कलम की पंडितजी पर 
ठेंगा तुझे दिखाया हमने
जेहल तुरत पिठाया हमने
'पेरल' पर तुम आए पटने 
जहाँ शहीदों के हैं सपने
कवि-सम्मेलन हुआ भयंकर
सारे कवि थे, तुम भी तो थे-
तुमको नहीं बुलाया हमने
और नहीं पढ़वाया हमने
              क्या प्रभात जी, गलत कही क्या? 
              रहे न तुम तो गलत-सही क्या !  

'इन्दू जी क्या हुआ आप को ...'
नाच - नाचकर तुमने गाया
'मीसा' में धर तुरत सिपाही
ने, छपरे का जेल दिखाया
तब भी तो तुम कवि थे प्यारे
सब कवियों में धाकड़ न्यारे
पर तेरे मित्रों ने छापा
इसे न कविता का 'क' आता
करे छेद जिस पत्तल खाता
              चुप क्यों हैं, कुछ कहें खगेन्दर
              मैं क्या कहूँ, बंद था अंदर --


शक्ति इन्दिरा जी की दिल्ली में
मैं ने देखी तुम ने देखी
वामवीर साहित्यकार की 
ठकुरसुहाती थी मुहँदेखी
बातें सब ने सुनीं, व्यंग्य से
ऐंठ गया चेहरा तुम्हारा
तुरत तुम्हारा नाम कट गया
मुफ्त रूस के टूर-लिस्ट से
(फिर न जाने कैसे सट गया)


कवि-कोविद सत्ता के जितने 
बेटे जो बनते भूषण के 
सब हैं अंडे खर-दूषण के
जिन के फूटे, फूटा करते 
जाति, धर्म, भाषा के दंगे
जो भी सत्ता में आता है
बन जाते ये उस के झंडे
भाड़े के ये भट्ट-पवँरिए
सारे कर्म-कुकर्म करंते


घोटालों की लगी आग में
चौके - चूल्हे सब के ठंडे
भ्राता रावण,  बहन लंकिनी
बारी - बारी देश लुटंते
जो टोके - खाँसे, 'मीसा' में
या 'पोटा' में बंद करंते
इन के लाग - डाँट मानव क्या,
देव - दनुज तक नहीं बुझंते
ये हैं सौ - सौ रूप धरंते
              रहे न बाबा, कौन बताए
              इन के तिकड़म, गोरखधंधे

कालनेमि - घर बजे बधावा
भले मरा यह बाबा - ताबा
बक्र कैंचिया हँसुआ जैसा
बेलगाम कवि - नागा बाबा
ध्वनि प्रचंड पवि - नागा बाबा
विद्रोही रवि - नागा बाबा
सारे तुक्कड़ - लुक्कड़ का जो
चला रहा था भारी ढाबा
भला हुआ जो गया अभागा

नागा बाबा मरा नहीं है
लामबंद, जीवन - संघर्षों -
को, करने से डरा नहीं है
हर जुलूस, हर मार्च - प्रदर्शन
में चलता, चुप खड़ा नहीं है
जहाँ - जहाँ है जनता लड़ती
वहाँ - वहाँ नागा बाबा का
लड़ने से मन भरा नहीं है
नागा बाबा मरा नहीं है।
यादवचंद्र पाण्डेय

Tuesday, June 29, 2010

ऐसे चिकित्सक को क्या दंड मिलना चाहिए?

आज अखबार में समाचार था-
क महिला रोगी के पैर में ऑपरेशन कर रॉड डालनी थी, जिस से कि टूटी हुई हड्डी को जोड़ा जा सके। रोगी ऑपरेशन टेबल पर थी। डाक्टर ने उस के पैर का एक्स-रे देखा और पैर में ऑपरेशन कर रॉड डाल दी। बाद में पता लगा कि रॉड जिस पैर में डाली जानी थी उस के स्थान पर दूसरे पैर में डाल दी गई। 
डॉक्टर का बयान भी अखबार में था कि एक्स-रे देखने के लिए स्टैंड पर लगा हुआ था। किसी ने उसे उलट दिया जिस के कारण उस से यह गलती हो गई। 
मुझे यह समाचार ही समझ नहीं आया। आखिर एक चिकित्सक कैसे ऐसी गलती कर सकता है कि वह जिस पैर में हड्ड़ी टूटी हो उस के स्थान पर दूसरे पैर में रॉड डाल दे। क्या चिकित्सक ने एक्स-रे देखने के उपरांत पैर को देखा ही नहीं? क्या ऑपरेशन करने के पहले उस ने भौतिक रूप से यह जानना भी उचित नहीं समझा कि वास्तव में किस पैर की हड्डी टूटी है? क्या एक स्वस्थ पैर और हड्डी टूट जाने वाले पैर को एक चिकित्सक पहचान भी नहीं सकता? या चिकित्सक इतने हृदयहीन और यांत्रिक हो गए हैं कि वे यह भी नहीं जानते कि वे एक मनुष्य की चिकित्सा कर रहे हैं किसी आम के पेड़ पर कलम नहीं बांध रहे  हैं?
सुप्रीम कोर्ट ने एक निर्णय में कहा है कि चिकित्सकों के विरुद्ध अपराधिक लापरवाही के लिए कार्यवाही करने के पहले यह आवश्यक है कि उस मामले में किसी चिकित्सक की साक्ष्य उपलब्ध होनी चाहिए कि लापरवाही हुई है। क्या ऐसे मामले में भी किसी चिकित्सक की इस तरह की साक्ष्य की आवश्यकता है? मैं जानता हूँ कि नहीं। इस तरह के मामले में किसी चिकित्सक की इस तरह की साक्ष्य की आवश्यकता नहीं है। इस समाचार को पढ़ने के बाद मेरे सामने अनेक प्रश्न एकत्र हो गए हैं। मसलन....
1. क्या इलाके का पुलिस थाना जिसे समाचार पत्र से इस तथ्य की जानकारी हो गई है उस चिकित्सक के विरुद्ध बिना मरीज से शिकायत प्राप्त किए कोई अपराधिक मुकदमा दर्ज करेगा? 
2. मरीज स्वयं उस चिकित्सक के विरुद्ध पुलिस थाने में रपट लिखाए तब भी क्या पुलिस इस मामले में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर अन्वेषण आरंभ करेगा? 
3. क्या अस्पताल का मुखिया ऐसे चिकित्सक के विरुद्ध कोई अनुशासनिक कार्यवाही करेगा?
मुझे इन सभी प्रश्नों के उत्तर की तलाश है जो शायद आने वाले कुछ दिनों या महिनों में मिल ही जाएँगे। लेकिन दो प्रश्न और है जिस का उत्तर मैं आप पाठकों से चाहता हूँ;
हला यह कि यदि पुलिस ऐसे चिकित्सक के विरुद्ध कार्यवाही करे, न्यायालय में उस के विरुद्ध आरोप पत्र प्रस्तुत कर दे और यह साबित हो जाए कि चिकित्सक ने अपराधिक लापरवाही की है तो न्यायालय को उस चिकित्सक को सजा देना चाहिए या नहीं? यदि हाँ तो कितनी?
दूसरा यह कि यदि अस्पताल का मुखिया चिकित्सक के विरुद्ध अनुशासनिक कार्यवाही करे तो चिकित्सक को क्या दंड मिलना चाहिए?

Sunday, June 27, 2010

गाँव की सामान्य अर्थव्यवस्था - -एक ग्राम यात्रा

पिछली पोस्टों घमौरियों ने तोड़ा अहंकार - एक ग्रामयात्रादेवताओं को लोगों की सामूहिक शक्ति के आगे झुकना पड़ता है और घूंघट में दूरबीन और हेण्डपम्प का शीतल जल से आगे ....... 
 कोई दो सौ कदम चलने पर ही पोस्टमेन जी का घर आ गया। एक कमरा पक्का बना हुआ था, शेष वही कवेलूपोश। घर में आंगन था जिस में नीम का पेड़ लगा था। पास ही एक हेण्डपम्प था।  पेड़ के नीचे दो चारपाइयाँ बिछी थीं। एक बुनी हुई और दूसरी निवार से बुनने की प्रक्रिया में थी। हम बुनी हुई चारपाई पर बैठ गए। पोस्टमेन जी चाय बनाने को कहने लगे। मैं ने इनकार किया कि मैं तो बीस बरस से चाय नहीं पीता। उन्हों ने शरबत का आग्रह किया। मैं ने उस के लिए भी मना कर दिया। उन की पोती जल्दी से शीतल जल ले आई। पोस्टमेन जी बताने लगे कि वे रिटायर होने के बाद गाँव ही आ गए। यहाँ कुछ जमीन है उसे देखते हैं, खेती अच्छी हो जाती है। दो लड़कों ने गाँव में ही अपना स्कूल खोल रखा है, जिस में सैकण्डरी तक पढ़ाई होती है। खुद पढ़ाते हैं और गाँव के ही कुछ नौजवानों को जिन्होंने बी.एड. कर रखा है और सरकारी नौकरी नहीं लगी है स्कूल में अध्यापक रख लिया है। स्कूल अच्छा चल रहा है, यही कोई ढाई सौ विद्यार्थी हैं। दो लड़के कोटा में नौकरी करते हैं। वहाँ उन्हों ने नौकरी के दौरान मकान बना लिया था उस में रहते हैं। मुझे पोस्टमेन जी अपने जीवन से संतुष्ट दिखाई दिए। इस से अच्छी कोई बात नहीं हो सकती थी कि उन के चारों पुत्र रोजगार पर हैं, सब के विवाह हो चुके हैं। उन्हें पेंशन मिल रही है और खेती की जमीन पर खेती हो जाती है। 
चौपाल पर गाँव का एक बालक
मैं ने उन से पूछा -खेती में तो खटना पड़ता होगा?
वे बताने लगे -खेती में आजकल कुछ नहीं करना पड़ता। सभी काम मशीनों से हो जाते हैं जो करवा लिये जाते हैं। बस खाद-बीज-कीटनाशक की व्यवस्था करनी पड़ती है। रखवाली और अन्य कामों के लिए एक हाळी (वार्षिक मजदूरी पर खेती के कामों के लिए रखा मजदूर) रख लेते हैं। हंकाई-जुताई-बिजाई ट्रेक्टर वाला किराए पर कर देता है। फसल पकने पर कंबाइन आ जाता है जो काट कर अनाज निकाल कर बोरों में भर देता है। ट्रेक्टर किराए पर ले कर फसल मंडी में बेच आते हैं। निराई आदि के काम बीच में आ जाते हैं तो मजदूर मिल जाते हैं। उन्हों ने बताया कि गाँव में जितने भी लोगों के पास खुद की भूमि है वे सभी इसी तरह काम करते हैं। किसी के पास ट्रेक्टर और दूसरे साधन हैं तो वे  भी उन से काम करने के लिए मजदूर रख लेते हैं।  गाँव में जिन के पास भूमि है उन सब के पास बहुत समय है, वे केवल खेती का प्रबंधन करते हैं या फिर मौज-मस्ती में जीवन गुजारते हैं। 
-इस हिसाब से गाँव संपन्न दिखाई देना चाहिए, लेकिन वैसी संपन्नता दिखाई नहीं देती। अभी भी गांव के 70-80 प्रतिशत घरों पर पक्की छतें नहीं हैं। मैं ने पूछा।
पोस्टमेन जी बताने लगे। लोग खुद तो कुछ करते नहीं सब मजूरों और मशीनों पर कराते हैं। नतीजे में खेती में खर्चा बहुत हो जाता है बस गुजारे लायक ही बचता है। जो लोग खेती के साथ दूसरे व्यवसाय करने लगते हैं या जिन्हें नौकरियाँ मिल जाती हैं वे अवश्य संपन्न हो चले हैं, पर ऐसे लोग कम ही हैं। हाँ, जिन के पास खेती नहीं है और केवल मजदूरी पर निर्वाह कर रहे हैं उन के पास इसी कारण से काम की कमी नहीं रही है। जो अच्छा काम करते हैं उन्हें हमेशा काम मिल जाता है। वैसे साल भर काम नहीं रहता है। लेकिन जब काम नहीं मिलता है तब वे नरेगा आदि में चले जाते हैं। उन में से जिन में कोई ऐब नहीं है वे धन संग्रह भी कर पाए हैं। गाँव में स्थिति यह है कि किसी जमीन वाले को पैसे की जरूरत पड़ जाए तो ये मजदूरी करने वाले लोग तीन रुपया सैंकड़ा मासिक ब्याज पर उधार दे देते हैं। 
मैं ने अपने मोबाइल पर समय देखा पौने चार हो रहे थे। मुझे उसी दिन रातको जोधपुर के लिए निकलना था। यह तभी हो सकता था जब कि मैं कम से कम छह बजे तक कोटा अपने घर पहुँच सकता। मुझे लगा अब यहाँ से चलना चाहिए। मैं ने पोस्टमेन जी से विदा लेनी चाही लेकिन, वे मुझे मेरे मेजबान के घर तक छोड़ने आए।  मेजबान का घर मेहमानों से भरा था। कुछ सुस्ता रहे थे, कुछ बतियाने में लगे थे। लेकिन घर की महिलाओं और लड़कियाँ काम  में लगी थीं। रसोई में चाय बन रही थी। दो महिलाएँ हेण्डपम्प के पास बर्तन साफ करने में लगी थीं। मेहमानों के लिए चाय आई। मैं ने मना किया तो मेरे लिए तुरंत ही नींबू की शिकंजी बन कर आ गई। अब सब लोगों को भोजन कराने की तैयारी थी। जो कहीं और बन रहा था। मैं भोजन करने के लिए रुकता तो फिर जोधपुर न जा सकता था। मैं निकलने के लिए अपनी कार तक आया। उस की धूल झाड़ ही रहा था कि मेजबान का पुत्र वहाँ आ गया। भोजन बिलकुल तैयार है बस आधे घंटे में आप निपट लेंगे, मैं उस के आग्रह को न टाल सका। 
ह मुझे उस स्थान पर ले गया जहाँ भोजन बन रहा था और खिलाया जाना था। वह एक घर था जिस मेंकेवल दो कच्चे कमरेबने थे, शेष भूमि रिक्त थी। जो जानवरों को बांधने आदि के काम आती थी। वहीं भोजन बन रहा था। खाली भूमि को साफ कर दिया गया था जिस से वहाँ बैठा कर भोजन कराया जा सके। हम पाँच-छह लोग जिन्हें जाने की जल्दी थी बिठा दिए गए। भोजन में आलू-टमाटर की स्वादिष्ट सब्जी थी, कच्चे आम की आँच थी जिस में बेसन की नमकीन बूंदी डाली गई थी, इस के अलावा बेसन के चरपरे सेव थे और मीठी बूंदी थी जिसे हम यहाँ नुकती कहते हैं, गरमागरम पूरियाँ परोसी जा रही थीं। हाड़ौती का ठेठ परंपरागत मीनू था, यह। गर्मी के कारण भोजन स्वादिष्ट होने पर भी ठीक से न कर पाए। भोजन के उपरांत हम गाँव से लौट पड़े।

Saturday, June 26, 2010

घूंघट में दूरबीन और हेण्डपम्प का शीतल जल -एक ग्राम यात्रा

पिछली पोस्टों घमौरियों ने तोड़ा अहंकार - एक ग्रामयात्रा और  देवताओं को लोगों की सामूहिक शक्ति के आगे झुकना पड़ता है  से आगे ....... 
 णेश जी महाराज की जय! जोरों का लगातार उद्घोष सुन कर मेरी झपकी टूट गई। शायद गणेश जी को नीचे से सिंहासन पर बैठाया जा रहा था। मेरी निगाह ऊपर नीम पर गई जिस के पत्तों के बीच से सूरज झाँक-झाँक जाता था। चौपाल पर मर्दों के जाते ही वहाँ बच्चे और युवतियाँ आ खड़े हुए थे। सिंहासन पर बैठते हुए गणेश जी के दर्शन करने की उत्सुकता के साथ। उन के पीछे महिलाएँ घूंघट काढ़े एक हाथ की दो उंगलियों से उस में छेद बना कर एक आँख से दूर से ही सिंहासन पर नजर गड़ाए खड़ी थीं। मुझे मुस्कुराना आ गया। हम दूर की वस्तुएँ को साफ देखने के लिए कभी हथेली को एक नली का रूप दे कर आँख के सामने रख देखते थे तो वे साफ दिखाई देने लगती थीं। कहते हैं कि यदि गहरे कुएँ में नीचे उतर कर आसमान में देखें तो दिन में तारे देखे जा सकते हैं। शायद वही प्रयोग वे घूंघटधारी महिलाएँ कर रही थीं। निश्चित रूप से वे दूर तक अधिक साफ देख पा रही होंगी। मैं ने उधर नजर दौड़ाई तो भीड़ में कुछ न दिखाई दिया। गणेश जी भीड़ से ढके थे।
ब एक एक कर लोग चौपाल पर लौटने लगे थे। हवन फिर से होने लगा। कुछ ही देर में मेहमान और गाँव के लोग हाथों में थैलियाँ लेकर तैयार नजर आए। अब कार्यक्रम का समापन नजदीक था। अंत में पूजा करने वाले मेजबान परिवार के जोड़ों को ये सब कपड़े भेंट करने वाले थे। कुछ ही देर में यह सब भी होने लगा। इतने में नाइन आ गई, सब को ढोबा (दोनों हाथों से बनी अंजुरी)  भर-भर बताशे बांटने लगी। मुझे भी लेने पड़े। मुझे समझ नहीं आया की उन बताशों का मैं क्या करूँ। बच्चों को बुलाया और उन्हें बांटने लगा, कुछ मैं ने भी खाए। मीठे बताशे खा कर पानी पीने से लगा जैसे गर्मी में शरबत की कमी पूरी हो गई है।  एक-एक कर लोग कपड़े पहनाने जाते रहे और वापस लौटते रहे। चौपाल पर फिर बातें होने लगीं। कोई कह रहा था। इन गणेश जी के साथ ही गाँव के सब देवता जमीन से चबूतरों और मंदिरों में आ चुके हैं। किसी दूसरे ने कहा-गणेश जी यूँ तो प्रथम पूज्य हैं लेकिन जिम्मेदार भी हैं। शेष सब देवताओं को चबूतरों पर बिठाने के बाद अपने लिए स्थान बनवाया है। मैं उन ग्रामीणों की समझ पर दंग था। जो सब काम वे खुद कर रहे थे, उस का सारा श्रेय देवताओं को दिए जाते थे। 
भी हनुमान जी के चबूतरे की बात चल निकली। कोई नेता था जो यह श्रेय खुद लेना चाहता था। गाँव वाले कहते थे, हमारे देवता हैं तो हम ही सब कुछ करेंगे। दूसरे की मदद क्यों लें? जब गाँव वाले करने लगे तो उस ने पुलिस का सहारा लिया और गाँव वालों पर मुकदमा बना दिया। सब गाँव वाले मुकदमे में कोटा जाने की बातें ताजा करने लगे। छह माह मुकदमा चला, हर माह कोटा जाना पड़ता था। जब मुकदमा खत्म हुआ तो  आखरी दिन उन में से एक आदमी उदास हो गया। उसे नयापुरा चौराहे पर रतन सेव भंड़ार की कचौड़ियाँ अच्छी लगती थीँ। वह हर पेशी पर जाता तो कचौड़ियाँ जरूर खाता। कहने लगा अब न जाने कब कचौड़ियाँ मिलेंगी। उस की इस आदत का लोग आनंद लेने लगे। जब भी जी चाहता उसे कहते -यार नोटिस आ गए हैं, फिर से तारीखों पर चलना पड़ेगा। वह कहता -जरूर चलेंगे, कचौड़ियाँ तो खाने को मिलेंगी। धीरे-धीरे यह होने लगा कि जब भी कोई बाइक से अकेला कोटा जाने को होता तो उसे साथ चलने को कहता। वह हमेशा तैयार हो जाता, उस की एक ही शर्त होती, रतन सेव वाले की कचौड़ियाँ खिलानी पड़ेंगी।

मुझे लघुशंका हो रही थी। मैं ने एक सज्जन से पूछा किधर जाना होगा। उस ने बिजली के दो खंबों के पीछे निकल जाने को कहा। मैं उधर गया तो वह गणेश जी का पिछवाड़ा निकला। और पीछे गया तो गाँव खत्म हो चला था, खेत आ गए थे। मैं निबट कर लौटा तो एक ने आवाज दे दी -हाथ धोने इधर आ जाओ। वहाँ  बाड़े में हेण्डपंप पर चौपाल पर बैठे लोगों में से एक मौजूद था। मैं वहाँ गया हाथ धोए तो पानी बहुत ठंडा था, जैसे फ्रिज में से निकला हो। मैं ने पानी पिया भी। मैं ने प्रतिक्रिया व्यक्त की, यहाँ तो पानी ठंडा करने की जरूरत ही नहीं। उन सज्जन ने कहा -यहाँ गर्मी में कोई मटकी का पानी नहीं पीता। सीधे हेण्डपंप से ही निकाल कर पीते हैं। मैं चौपाल पर पहुँचा तो वह खाली थी। सब लोग कपड़े पहना कर जा चुके थे। बस एक बचा था जो मेरा पूर्व परिचित निकला था। वह एक पोस्टमेन था जो आठ वर्ष पहले सेवानिवृत्त होने तक लगातार सोलह सत्रह वर्ष तक कोटा में मेरी बीट में डाक बांटता रहा था। अब सेवानिवृत्त हो जाने पर यहाँ अपने गाँव में वापस आ कर रहने लगा था। वह कहने लगा  -लो, आप को घर दिखा दूँ। मैं उस के साथ चल पड़ा।
......... क्रमशः

Friday, June 25, 2010

देवताओं को लोगों की सामूहिक शक्ति के आगे झुकना पड़ता है

पिछली पोस्ट घमौरियों ने तोड़ा अहंकार - एक ग्रामयात्रा से आगे .......
चौपाल पर बैठे लोग आप में बतिया रहे थे। मैं अपरिचित था। इस लिए केवल सुनता रहा। कह रहे थे। जहाँ हम बैठे हैं वहाँ केवल खलिहान हुआ करता था। जहाँ गणेश जी की मूर्ति थी वहीं जागीरदार के कारिंदे अपना मुकाम लगाते।  गाँव नीचे होता था। गाँव जागीरी का था। जागीरदार किसानों से लगान तो वसूलता ही था जरूरत पड़ने पर खाने को अनाज बाढ़ी (यानी जितना अनाज दिया उस से सवाया या ड्योढ़ा फसल पर लौटाना होता)  पर उधार देता था। सारे गाँव की फसल कट कर पहले खलिहान पर आती जहाँ जागीरदार के कारिंदे मौजूद होते थे। फसल से दाने निकालने के बाद पहले लगान और बाढ़ी चुकता होती, उस के बाद ही किसान फसल घर ले जा सकते थे। कुल मिला कर फसल जो आती थी वह साल भर के लिए पर्याप्त नहीं होती थी। और घर चलाने के लिए फिर से कर्जे पर अनाज उधार लेना पड़ता था। कोई किसान न था जो कर्जे में न डूबा रहता हो। कुछ किसान फसल का हिस्सा चुराने की कोशिश भी करते थे। किसी समय कपड़े आदि में अनाज बांध कर कारिंदों की नजर बता कर खलिहान के बाहर डाल देते जहाँ दूसरा साथी मौजूद होता जो अनाज को घऱ पहुँचाता। पकड़े जाने पर जागीरदार सजा देता। लेकिन सजा का भय होते हुए भी लोग भूख से बचने को चोरी करते थे। फिर जागीरें खत्म हो गईं। धीरे-धीरे जागीरदार ने सब जमीनें बेच दीं। हवेली शेष रही उस का क्या करता सो उसे स्कूल को दान कर दिया। इस तरह जागीरी समाप्त हुई।
मैं ने पूछा-फसलें कैसी होती हैं, अब गाँव में? तो कहने लगे फसलें अच्छी होती हैं। मैं ने फिर पूछा -सब स्थानों पर भू-जल स्तर कम हो गया है, यहाँ की क्या स्थिति है। वे बताने लगे यहाँ पानी का तो वरदान है। जहाँ हम बैठे हैं वहाँ तीस-पैंतीस फुट पर पानी निकल आता है। साल भर हेंड पम्प चलते हैं। मैं ने गांव में एक भी  सार्वजनिक हेंड पम्प नहीं देखा था। इस लिए पूछा -मुझे तो एक भी नजर नहीं आया। एक बुजुर्ग बोले-कैसे नजर आएगा। बाहर कोई हेंड पम्प है ही नहीं। हर घर में कम से कम एक हेंड पम्प है। किसी किसी में दो भी हैं। उधर गांव की निचली तरफ तो कुईं खोदो तो इतना पानी है कि हाथ से लोटा-बाल्टी भर लो। उधर ही एक बोर पंचायत ने करवाया था। उस में इतना पानी है कि स्वतः ही बहता रहता है। हमने उस में पाइप लगा कर खेळ में भर रखा है जिस में जानवर पानी पीते हैं। वहीं कुछ जगह ऐसी बना दी है कि लोग पाइप लगा कर सीधे स्नान कर सकते हैं। जब जरूरत नहीं होती तो पानी खाळ (नाला) में बहता रहता है। वह खाळ एक छोटी नदी जैसा बन गया है। 
मुझे बहुत आश्चर्य हुआ। इतना पानी जमीन में कहाँ से आ रहा है? मैं ने पूछा -आस पास कोई तालाब है? 
-नहीं, कोई नहीं।
-नदी कितनी दूर है? 
-नदी कोई दो कोस (लगभग तीन किलोमीटर) दूर है।
-तो जरूर पानी वहीं से आता होगा? 
-नदी तो बहुत नीचे है, वहाँ से पानी कैसे आएगा? यह तो भूमि ही ऐसी है कि बरसात में पानी सोख लेती है और साल भर देती रहती है।
मेरी इच्छा थी कि गाँव के दूसरे छोर पर, जा कर देखा जाए कि नलके से अपने आप पानी कैसे निकल रहा है। लेकिन कड़ी धूप थी। उस समय कोई मेरे साथ सहर्ष जाने को तैयार भी न था। कहने लगे शाम को चलेंगे। इतने में हवन का प्रथम खंड पूरा हो गया। गणेश जी को नीचे से उठा कर ऊपर लाने की तैयारी आरंभ हो गई। चौपाल  की बातें गणेश जी पर केंद्रित  हो गईँ।
लोग किस्सा सुना रहे थे, कैसे मेजबान के परदादा और उन के मित्र नदी से गणेश जी को उठा कर बैलगाड़ी में रख कर गाँव लाए थे? यूँ तो गणेश जी बहुत भारी हैं दो जनों के बस के नहीं है। फिर भी उन की खुद मर्जी थी इस लिए उन के साथ चले आए। इतने बरस नीम की जड़ में नीचे ही बैठे रहे। अब उन की मर्जी हुई तो चबूतरा भी बन गया और सिंहासन भी। 
मैं ने पूछा -अभी गणेश जी को नीचे से उठा कर ऊपर सिंहासन तक कैसे लाएँगे? 
वे कहने लगे -सब ले आएँगे। दो से न उठेंगे तो दस मिल कर उठा लेंगे। 
-और उन की मरजी न हुई तो? 
कुछ ऐसे ही थे वे गणेश
- नहीं कैसे नहीं होगी। उन की मरजी न होती तो चबूतरा-सिंहासन बनता? अब वे कैसे नखरे करेंगे। फिर ये कोई एक की मरजी थोड़े ही है। गाँव के पाँच लोगों ने तय कर के चबूतरा-सिंहासन बनाने की बात की है। गणेश जी को पाँच आदमियों की बात माननी होगी। 
मैं ने फिर कहा- और पाँच आदमियों की बात भी न मानी तो।
-कैसे न मानेंगे? पाँच आदमियों (पंचों) की बात वे टाल नहीं सकते। ऐसा हुआ तो गणेश जी पर से ही विश्वास उठ जाएगा। 
मैं सोचता रह गया, बहुत सारे देवताओं को मानने वाले  ग्रामीणों ने उन्हें खुला नहीं छोड़ रखा है। उन्हें भी लोगों  की सामूहिक शक्ति के आगे झुकना पड़ता है और लोग रोजमर्रा के व्यवहारों को ले कर  पूरी तरह व्यवहारिक हैं। मुझे देवीप्रसाद चटोपाध्याय की 'लोकायत' के विवरण स्मरण आने लगे। तभी चौपाल के  सभी मर्द गणेश  जी को उन के सिंहासन पर बिठाने उधर चले गए। मैं एकांत पा कर लेट गया। नीम के नीचे छाहँ थी और हवा चल रही थी। मुझे  झपकी लग गई।
...... क्रमशः

घमौरियों ने तोड़ा अहंकार - एक ग्रामयात्रा

भी तीन दिन पहले की बात है, हम इतरा रहे थे, कि हमें घमौरियाँ नहीं होतीं। बस आज हो गईं। हमारे अहंकार को इतनी जल्दी झटका इस से पहले कभी न लगा था। हम कहते थे कि पहले हम जब बाराँ में रहते थे तो बहुत होती थी। लेकिन जब से कोटा आए हैं घमौरियाँ विदा ले गई हैं। शायद हमारी बात घमौरियों ने सुन ली। सोचने लगीं। बहुत इतरा रहे हो जनाब! अब चखो मजा। आज घमौरियाँ हो ही गईं। पीठ में सुरसुराहट हो रही है। उस की सोचता हूँ तो झट से छाती पर सुरसुराहट होने लगती है। अब मैं किस किस की सोचूँ, मैं ने सोचना छोड़ दिया ठीक भारत सरकार की तरह। वह एंडरसन की सोचती तो अमरीका नाराज हो जाता। अमरीका की सोचती तो जनता नाराज हो जाती। बस उसने जो चाहा कर लिया, सोचना बंद कर दिया। इसी तरह हमने भी घमौरियों के बारे में सोचना बंद कर दिया।
गाँव का आसमान
ज मुझे श्रीमती जी के साथ एक गांव में जाना पड़ा। यह राष्ट्रीय राजमार्ग सं. 76 पर कोटा से कोई 37 किलोमीटर बाराँ की ओर जाने के बाद उत्तर की ओर सात किलोमीटर अंदर पड़ता है। जैसे ही हम राजमार्ग से हट कर सड़क पर गए तो सड़क एक दम इकहरी हो गई। पर वह गाँव तक डामर की थी। बीच में जितने भी गाँव पड़े वहाँ डामर के स्थान पर हमें पत्थर का खुरंजा मिला। खुरंजे पर कार दूसरे या तीसरे गियर में ही चल सकती थी, अर्थात गति 20-30 किलोमीटर प्र.घं. से अधिक न हो सकती थी। फिर भी उन खुरंजों पर मिट्टी के बनाए स्पीड ब्रेकर मिले। आखिर स्पीड ब्रेकर नगरों में ही थोड़े बन सकते हैं, गाँव इन कामों में पीछे क्यूँ रहें?
गाँव में हमारे जिन रिश्तेदार के यहाँ हमें जाना था वे पिछले जून में उत्तराखंड के तीन धाम की यात्रा कर आए थे। वापस गाँव लौटे तो गणेश जी के दर्शन करने गए। पाया कि गणेश जी एक पेड़ की जड़ पर भूमि पर ही विराजमान  हैं और लगातार धूल-धूसरित होते रहते हैं। कभी कभी जब कोई मानववृन्द पास नहीं होता है तो कुकुर जैसे प्राणी भी उन्हें स्नान करा जाते हैं। ये गणेश जी पास की नदी से उन के परदादा कोई डेढ़ सौ बरस पहले उठा कर लाए थे और गांव के बाहर एक बाड़ी (बगीची) में स्थापित किया था। गाँव की प्रगति इतनी हो गई कि अब स्थापना स्थल गाँव की परिधि में आ चुका था। बगीची बिक चुकी थी, वहाँ मकान बन गए थे। बगीची की बाड़ उन की रक्षा करती थी वह नदारद हो चुकी थी। अब गणेश जी को स्थान की आवश्यकता थी। रिश्तेदार महोदय ने छोटे भाई को आदेश दिया कि गणेश जी के लिए ऊंचा चबूतरा बना दिया जाए खर्च सब भाई मिल कर भुगत लेंगे। चबूतरा बना, उस पर पक्का सिंहासन बन गया। उसी पर गणेश जी को विराजना था। पहले पूजा, हवन आदि हुए, फिर गणेश जी को नए सिंहासन पर बिठाया गया। फिर आगंतुकों और गाँव के लोगों को भोजन-प्रसादी का कार्यक्रम हुआ। 
गाँव की चौपाल पर एक बुजुर्ग
म गाँव पहुँचे तो दिन के ग्यारह बजे थे और अभी गणेश जी की पूजा आरंभ होनी थी। यानी हम कम से कम तीन-चार घंटे फालतू थे। गाँव में बिजली का दिन भर आना जाना लगा रहता है इस कारण से पंखाशऱण तो हो नहीं सकते थे। हम ने देखा पास ही एक चबूतरे पर नीम के पेड़ के नीचे तिरपाल और दरी बिछाई गई है और वहाँ लोग बैठे हैं। हम समझ गए यहीं ग्रामीणों की मेहमानों के साथ चौपाल लगनी है। हम भी वहीँ जा बैठे। पास ही शीतल जल की व्यवस्था थी। एक बीस लीटर की प्लास्टिक के आयल के खाली डिब्बे के आसपास जूट के टाट को सिल दिया गया था। टाट भीगा हुआ था जो पानी को शीतल कर रहा था। प्लास्टिक का डब्बा और जूट की टाट का टुकड़ा खेती के काम में आए वस्तुओँ का कचरा था जिस का उपयोग इस वाटरकूलर को बनाने में किया गया था। हम जैसे ही चौपाल पर बैठे एक ग्रामीण ने हम से पानी के लिए पूछा और एक लोटे में भर कर दिया। वह शीतल था। एक लोटे ने न केवल प्यास बुझाई अपितु रास्ते की थकान को भी दूर कर दिया।  
............क्रमशः

Thursday, June 24, 2010

'काला शुक्ल पक्ष' यादवचंद्र के प्रबंध काव्य "परंपरा और विद्रोह" का दशम् सर्ग

नवरत के पिछले अंकों में आप यादवचंद्र जी के प्रबंध काव्य "परंपरा और विद्रोह" के नौ सर्ग पढ़ चुके हैं। अब तक प्रकाशित सब कड़ियों को यहाँ क्लिक कर के पढ़ा जा सकता है। इस काव्य का प्रत्येक सर्ग एक पृथक युग का प्रतिनिधित्व करता है। युग परिवर्तन के साथ ही यादवचंद्र जी के काव्य का रूप भी परिवर्तित होता जाता है।  इसे  आप इस नए सर्ग को पढ़ते हुए स्वयं अनुभव करेंगे। आज इस काव्य का दशम् सर्ग ' काला शुक्ल पक्ष' प्रस्तुत है ......... 
परंपरा और विद्रोह  
* यादवचंद्र *

दशम् सर्ग

' काला शुक्ल पक्ष'


काव्य-न्याय, अलंकार-रक्षा स्तुत्य है कि,
सब कुछ सुखान्त पूर्ण, वाणी है गेय भी
स्वर्णयुग- भारत का लक्ष्यकाल, व्यास है
वृत्त विशद्, दिव्य पात्र, निष्ठा अजेय भी

अन्तर के तेजस से जगमग मिलिन्द है
ज्योतित कनिष्क का विस्तृत आदर्श देख
प्रखर ध्रुव युगादित्य भासित है विश्व में
शीतल समीर फैल गया हर्ष देख


भास, नाग, कालिदास, कवि बाणभट्ट से
अक्षर कृतिकारों की रचना अमर हुई
रत्नों का तेज जो न छीजता कभी भी
कि जो कुछ अव्यक्त-गेय, वाणी मुखर गई

वीणावर वादिनी किस की अनुगामिनी ?
भूपति के राज दण्ड, विधि-विद्या की। किन्तु 
सत्य शिव सुन्दर की परिणति नैराश्य क्यों
ऊसर पुण्य कुक्षि हाय, सूखा क्यों सिंधु

स्वर्णयुग-साधन सब सुंदरतम हैं
स्वर्णयुग-ब्राह्मण की शक्ति न कम है
स्वर्णयुग-कविगण वृत्ति मिल गई
स्वर्णयुग-राजा को भक्ति न कम है

शाश्वत, वृहत्तम तब साधनों की परिणति
अन्धकार घोर पतन, अनिश्चितता क्यों
स्वर्णयुग कि संकर गुण ऊर्ध्वमुख हो गये
सिंहासन बत्तीसी का ढूह बचा क्यों?


नाम हीन, गोत्र हीन वीर्य बने भूपति
'रक्षां मा चलऽ....'  द्विज सूत्र आबद्ध हो
स्वर्णयुग आज जनगण से कटा कटा है
समीपस्थ, सब प्रमाण दौड़ खड़े हो

बुद्धवाद के विरुद्ध तू चक्रवात है
साम्राज्यवाद के बीज-मंत्र देख !
तेरे अखण्ड जाप चल रहे आज भले
किन्तु रश्मि-हीन रवि होगा द्रुत शेष

देख! भवभूति, भास चीख रहे क्लेश से
 सत् जन गुणवान सुलभ, पारखी नहीं,
लेकिन अवरोधों की गोद पली लली कला
हुई कैद महलों में आज तक कहीं ?

स्वस्ति पाठ- 'द्रोह शांत युग के रहा करें
शास्त्रानुकूल हो मेनका प्रवृत्ति
तुंगऽस्तनी की दुन्दुभी बजा करें'
अपहृता नारियाँ निरीह भला कला कृति!

बोद्ध श्रमण-शीर्ष का उच्छेदन-घोर पाप!
धिक धिक ! रे स्वर्णयुग तू कितना निकृष्ट है
चाटुकार विधि-विधान खड़े क्लीव मुद्रा में
ऐसे में न्याय धर्म - धोखे का पृष्ठ है

बुद्धवाद गंदला है, फिर भी निःसीम है
व, गति औ विस्तार का बन्धन अधर्म है
स्वर्णयुग भारत का - बन्धन की क्रिया है
जो न तो साधन है, साध्य का सुकर्म है

बातें अजंता, ऐलोरा की व्यर्थ हैं
मूल बात दर्शन की व्यापकता, थिरता है
जन जीवन-दर्शन में साम्य नहीं होगा तो
कौतुहल मात्र से क्या बनता, बिगड़ता है

औ, पशु पक्षी पर बाह्य कला हावी है
मानव है सृष्टि का विशेष रत्न चिन्तन से
त्रस्त-दृष्टिकोण जन्य काव्य कला जो भी हो
सुघड़ पर दिशाहीन और हीन जीवन से

चांद क्षीण होता है, फिर भी सैद्धांतिक है
जीवन में प्रतिमाह पूनम ध्रुव, सत्य है
शासन के बनते इकाई-दहाई से 
होता क्या, जब तक जन-जीवन विभक्त है

गतिशील दृष्टिकोण जीवन का और है
देश-राज गौण वहाँ, धरती अविभाज्य है
उस का परिधि-मान पूर्णमुक्त शासक से 
बन्धन है पूर्वाग्रह और रूढ़ि त्याज्य है

शंबूक का शीश राम काटे अन्याय है
चाहे हो गुप्त काल या कि राम राज हो
भ्रम पर भी स्वर्णिम नक्काशी हो सकती है
तर्क भला मानेगा श्रद्धा के जाल को?


कौपणीय कर्म से न जीवन समावृत्त है
वह तो जगाता है मरघट, मसान को 
रूढ़ रीति नीत, बनी विमुख जमाने से 
कैसे उभारेगी उर्ध्वमुख ज्ञान को ?

बुद्ध की बगावत में जनता प्रतिबिंबित है
गुप्तकाल इस के विरुद्ध घोर मट्ठा है
यूनानी फरमा जो मध्य एशियाई को
राजतिलक दे दे कर राजपूत बनाता है

बनती-बिगड़ती चली गईं कलाकृतियाँ
किन्तु वह 'छठांश कर' अन्त तक समान है
ले कर चाणक्य से आवर्तक त्रिमूर्ति तक
एक ही व्यवस्था के भिन्न-भिन्न मान हैं

नश्वर है ! पतित है ! यह समुद्र गुप्त भी 
और राज तन्त्र भी, जनता की वाणी है
पूरब से पश्चिम औ उत्तर से दक्षिण तक
जीता है कौन, बनी किस की कहानी है?

कलियुग व स्वर्णकाल कहने से होता क्या
कहना ही है, तो दो उत्तर इन प्रश्नों का -
धरती की जोतों का हलधर से रिश्ता क्या,
कर विहीन कौन वर्ग वृत्त रहा जोतता ?


हस्तशिल्प जिस का सर्वाधिक महत्व है
वैसे शिल्पकारों की कैसी प्रतिष्ठा है
मूल श्रम, जिस पर युग कोई भी टिकता है
स्वर्णयुग की इस में प्रदर्शित क्या निष्ठा है ?

मूल प्रश्न का जो आधार वर्ग होता है
उस की उपेक्षा-विनाश, घोर पातक है
जिस का श्रम महलों का बनता कंगूरा है
उस की न चर्चा-जघन्य कर्म, घातक है

स्वर्णकाल दासों के शोषण  पर कुण्डलिस्थ
अन्तिम भू-भक्षक है, अन्तिम मणियारा है
रोमन साम्राज्य स्वतः अन्तर्विरोधों में
टिम्-टिम कर बुझता सुबह का सितारा है

दीर्घबाहु सिमटे हैं, मनु का जनाजा है
वर्णों का एकाधिकार देख, जलता है 
कटा-छटा दुनिया से, एक निष्ठ, आत्मसात
सत्ता के सिर पर विशाल विश्व चलता है

* * * * * * * * * *

यादवचन्द्र पाण्डेय

Tuesday, June 22, 2010

जनता के धन से चल रहे राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय केवल 'एंडरसनों' के सेवक तैयार कर रहे हैं

पिछले कुछ वर्षों में भारत के लगभग सभी राज्यों ने अपने यहाँ विधानसभाओं में कानून बना कर अपने-अपने राज्य में  कम से कम एक राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय स्थापित किया है। हालाँ कि ये सभी स्वायत्त निकाय हैं लेकिन इन में धन राज्य सरकारों और अन्य सार्वजनिक संस्थाओं का ही लगा है। ये विश्वविद्यालय क्या कर रहे हैं? इस बात की जानकारी भी जनता को होनी चाहिए। लेकिन जनता इस से लगभग अनभिज्ञ है।  नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी जोधपुर ने अपनी वेबसाइट पर जो वक्तव्य दे रखा है वह निम्न  प्रकार है-
The National Law University, Jodhpur is an institution of national prominence established under the National Law University, Jodhpur, Act, 1999 (Act No. 22 of 1999) enacted by the Rajasthan State Legislature. The University is established for the advancement of learning, teaching, research and diffusion of knowledge in the field of law. It caters to the needs of the society by developing professional skills of persons intending to make a career in advocacy, judicial service, law officer / managers and legislative drafting as their profession.
ह वक्तव्य बताता है कि 'राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त यह संस्थान राजस्थान विधान सभा द्वारा पारित 1999 के कानून सं.22 से स्थापित किया गया है। इसे विधि क्षेत्र में शिक्षा, शिक्षण, शोध और ज्ञान के प्रसार की उन्नति के लिए स्थापित किया गया है। यह वकालत, न्यायिक सेवा, विधि प्रबंधन और विधायी प्रारूपण के क्षेत्र में कैरियर बनाने के इच्छुक व्यक्तियों की पेशेवर कुशलता को विकसित कर के समाज की आवश्यकताओं की पूर्ति करता है'। 
स संस्थान में शिक्षा का माध्यम केवल अंग्रेजी है। हिन्दी का वहाँ कोई महत्व नहीं। यहाँ तक कि  राज्य की राजभाषा हिन्दी और स्थानीय राजस्थानी भाषाओं की विद्यार्थियों की योग्यता पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जब कि राजस्थान के सभी अधीनस्थ न्यायालयों की कामकाज की भाषा हि्न्दी है। अब जो विद्यार्थी इस संस्थान से निकलेंगे वे कैसे राजस्थान की जनता की समस्याओं को समझेंगे और किस तरह उन की मदद कर सकेंगे? यह समझ में आने वाली बात नहीं है। 
न संस्थानों में सर्वाधिक जोर प्लेसमेंट पर है। लगभग सभी विद्यार्थी उन का अध्ययन पूरा होने के पहले ही किसी न किसी निजि कंपनी द्वारा नियोजित कर लिए जाते हैं, उन के वेतन भी अच्छे होते हैं। इस विश्वविद्यालय का कोई भी स्नातक शायद ही अभी तक वकालत के व्यवसाय में आया हो, न्यायिक सेवा में भी अभी तक कोई नहीं आया है। न ही किसी सरकार के विधायी विभाग में किसी को नियोजन हासिल हुआ है। वे वहाँ आएँगे भी कैसे? उन्हें कारपोरेट सैक्टर में पहले ही अच्छे वेतनों पर नौकरियाँ जो मिल रही हैं। 
स तरह  इन विश्वविद्यालयों के जो उद्देश्य नियत किए गए थे उन में से वकालत, न्यायिक सेवा और विधायी प्रारूपण के लिए अच्छे कर्मी तैयार करने के उद्देश्य की पूर्ति बिलकुल नहीं हो रही है। केवल कॉरपोरेट सैक्टर की मदद के लिए विधिज्ञान से युक्त कर्मचारी तैयार करने के एक मात्र उद्देश्य की पूर्ति ये विधि विश्वविद्यालय कर रहे हैं। इस तरह जनता के धन से केवल देशी और बहुराष्ट्रीय कंपनियों की सेवा के लिए कार्यकर्ता तैयार किए जा रहे हैं। हमारी सरकारें किस तरह से इन देशी विदेशी धनकुबेरों की सेवा के लिए संस्थान स्थापित करती है यह इसी से स्पष्ट है। इन विश्वविद्यालयों से निकलने वाले विधि विशेषज्ञ अपने कैरियर में यूनियन कार्बाइड जैसी कंपनियों को कानून के शिकंजे से बचाने, उन से पीड़ित जनता के हकों को प्राप्त करने के मार्ग में काँटे बिछाने और एंडरसन जैसे देश की जनता और संपूर्ण मानवता के अपराधियों को बचा कर निकालने का काम ही करेंगे, देश की जनता को उन के हक दिलाने, और जनता व मानवता के अपराधियों को दंडित कराने का काम नहीं।

Monday, June 21, 2010

गरमी की भीषणता के बीच एक रात और दिन

र्मी का भीषण प्रकोप चल रहा है। सोचा था इस बार बरसात जल्दी आ जाएगी। पर मौसम का अनुमान है कि अभी एक सप्ताह और लगेगा। पारा फिर से 48 के नजदीक पहुँच रहा है। कल रात सोने के भी लाले पड़ गए। कूलर बिलकुल असफल हो चुका था। एक बजे तक फुटबॉल मैच देखता रहा। आँखें बन्द होने लगीं, तो टीवी बंद कर सोने की कोशिश की, लेकिन गर्मी सोने दे तब न। पन्द्रह मिनट इंतजार कर फिर से टीवी चला दिया। पूरा मैच देख कर सोने गया। फिर कब नींद आई पता नहीं। कोई पच्चीस-तीस बरस पहले कोटा इतना गरम न हुआ करता था। लेकिन जब से थर्मल पॉवर प्लांट शहर की छाती पर खड़ा हुआ है तब से गर्मी बढ़ती गई। अभी सात यूनिटें चल रही हैं। दो से तीन ट्रेन कोयला रोज फुँक जाता है। बैराज में बॉयलर का पानी आता है, तो बैराज का पानी भी चालीस डिग्री सैल्सियस से कम नहीं रहता। कोई तैरता हुआ दस फुट अंदर चला जाए तो ताप से रक्तचाप बढ़े और चक्कर खा कर वहीं डूब ले। इस भय से लोगों ने बैराज में नहाना भी बंद कर दिया। विशाल जलराशि सिर्फ देखने भर को रह गई।

 शायद ऐसे ही मिल जाए कुछ राहत
सुबह अदालत निकलने के पहले नाश्ता करने बैठा तो पूरा नहीं कर पाया। कुछ अंदर जा ही नहीं रहा था। मैं अपनी प्लेट या थाली में कभी कुछ नहीं छोड़ता, पर आज छोड़ना पड़ा। अन्न का निरादर करने का अफसोस तो बहुत हुआ। पर अब इन चीजों की परवाह कौन करता है? एक जमाना था, तब शास्त्री जी के आव्हान पर कम से कम आधे देश ने सोमवार को एक समय भोजन करने का नियम बना लिया था। अब वैसी जरूरत तो नहीं है। लेकिन फिर भी लाखों टन खाद्य प्रतिदिन देश में इसी तरह बरबाद कर दिया जाता है। हम होटलों में जा कर देखें, या फिर शादी विवाह की पार्टियों में जहाँ के कचरा-डब्बे इस बेकार हुई खाद्य सामग्री से भरे पड़े रहते हैं। यदि इस बेकार होने वाली खाद्य सामग्री को बचा लिया जाए तो भी बहुत हद तक हम खाद्य सामग्री की मांग को घटा सकते हैं जो निश्चित ही उस की कीमतों में कमी भी लाएगी। 

सूरज ही क्या कम था, जलाने को
स साल कूलरों के पैड नहीं बदले गए थे। शायद एक कारण यह भी था कि कूलर अपनी पूरी क्षमता से काम नहीं कर रहे हैं। मैं अपने मिस्त्री से कह चुका हूँ लेकिन उसे फुरसत नहीं मिली शायद। बिटिया दो दिन का अवकाश ले कर आई है। सप्ताहांत के दो दिन मिला कर कुल चार दिन के लिए। कल रात की गर्मी की तड़पन से आज मिस्त्री को बुला लाने की बात हुई, लेकिन उस के बरामद होने में आज भी शंका हुई, तो कहने लगी, मैं बदल दूंगी। और सच में एक कूलर के पैड घर में पड़े थे वे बदल दिए। मैं शंका करता ही रह गया कि वह कर पाएगी या नहीं। कहने लगी, मैं सब कुछ कर लेती हूँ। वह पिछले छह वर्ष से घऱ से बाहर रह रही है। तीन वर्ष छात्रावसों में निकले फिर डेढ़ वर्ष अपनी सहकर्मियों के साथ रही, डेढ़ वर्ष से अकेली रहती है। सुबह उठ कर नाश्ता और दोपहर का टिफिन बनाना, तैयार हो कर अपने काम पर जाना, शाम को वापस लौट कर अपना खाना बनाना। इस के अतिरिक्त अपने आवास की सफाई, कपड़ों की धुलाई वगैरा सारे घर के काम वह स्वयं कर रही है। कितनी ऊर्जा होती है लड़कियों में कि वे घर और दफ्तर को पूरी कुशलता के साथ संभाल लेती हैं। कोई कमी रहती है तो शायद समय की जो इन सब कामों के लिए कम पड़ जाता है। इन सब के बाद, लगातार अपनी प्रोफेशनल योग्यता का विकास करते हुए नया ज्ञान और कुशलता अर्जित करते जाना। सच में उन्हें 'देवी' कहा जाना कदापि मिथ्या नहीं। आखिर मुझे बाजार जा कर दूसरे कूलर के लिए भी पैड लाने पड़े। अब वे बदले जा रहे हैं।