Sunday, October 10, 2010

शेर और भैंस

शिवराम की एक कविता .................


शेर और भैंस

  • शिवराम

जिस जंगल में शेर होता है
वहाँ भैंसे झुण्ड में रहती हैं
जब विश्राम करती हैं तो 
गोल घेरा बना कर बैठती हैं
चौकस और चौकन्नी रहती हैं
मुहँ बाहर की ओर

भैंसे शेर से नहीं डरतीं
शेर भैंसों को सुरक्षा व्यूह से 
डरता है
दुस्साहस करता है
तो अक्सर मारा जाता है

हम भैंस का दूध पीते हैं
और गली के कुत्तों से डरते हैं।

Post a Comment