Tuesday, January 26, 2010

वो राहतों के ख़्वाब दोस्तो सलीब हो गये


णतंत्र दिवस की पूर्व संध्या है। हमारे गणतंत्र ने जहाँ से अपना सफर आरंभ किया था वहाँ से अब वह बहुत दूर निकल आया है। क्या थे हालात और क्या हैं हालात। देखिए पुरुषोत्तम ‘यक़ीन’ की इस नज़्म के आईने में ........

नज़्म
                    - पुरुषोत्तम ‘यक़ीन’

वो राहतों के ख़्वाब दोस्तो सलीब हो गये
यहाँ तो अब हवाओं के ही रुख़ अजीब हो गये


हुई सहर तो कैसा सुर्ख़-सुर्ख़ आफ़्ताब था
कि पत्ता-पत्ता, बूटा-बूटा शादमाँ गुलाब था
चहक उठीं थीं बुलबुलें, महक उठी थी नस्तरन
कि शबनमी फ़ज़ाओं में लहक उठा चमन-चमन
खुली जो आँख धूप में तो सब ग़रीब हो गये
यहाँ तो अब .......................।

सितारे तोड़ लाऐंगे घरों से सब निकल पड़े
तरक्क़ियों के दश्त में सफ़र पे हम भी चल पड़े
मुहब्बतों के काफ़िले मगर बिखर-बिखर गये
रिफ़ाक़तों की मंज़िलों की राह तक बिसर गये
जो हमसफ़र थे कूच पर वही रक़ीब हो गये
यहाँ तो अब .......................।

लो काली-पीली आँधियों में आस्माँ ही खो गया
उजाला हर दिशा में तीरगी के बीज बो गया
ज़मीने-दिल से ख़्वाहिशों की रुत नज़र चुरा गई
लो वक्फ़े-फ़स्ले-ज़ुल्म वो शबे-सियह भी आ गई
‘यक़ीन’ अज़ाबों, लानतों के दिन क़रीब हो गये
यहाँ तो अब .......................।


--- भारत के जन-गण को गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाएँ --- 






Post a Comment