Saturday, January 2, 2010

चांदनी चौक से इंडिया गेट

राठा गली में प्रवेश के पहले हम चांदनी चौक की मुख्य सड़क से गुजरे तो वह ट्रेफिक विहीन थी, और अधिकांश दुकानें बंद थीं। वह सोमवार का दिन था, दुकानें खुली हुई होनी चाहिए थीं। गौर किया तो पता लगा कि जितनी भी ज्वेलरी और सोने-चांदी के व्यवसाय से संबद्ध दुकानें थीं वे सब बंद थीं। बहुत सारे लोग सड़क पर एकत्र थे, जो दुकानदार लग रहे थे। उन में से एक के हाथ में माइक और गले में लटका हुआ पोर्टेबल लाउडस्पीकर था। वे नारे लगा रहे थे। उन के आसपास कुछ पुलिस वाले भी थे। लगता था किसी बात को ले कर दुकानदारों ने दुकानें बंद की थीं और वे इकट्ठा हो कर किसी पुलिस अधिकारी या प्रशासनिक अधिकारी से मिलने जा रहे थे। तभी भीड़ में से कुछ लोगों ने एक दुकान को बंद कराने की कोशिश में हल्ला किया तो दुकानदार ने तुरंत शटर गिरा दिया, शायद वह इस के लिए तैयार था। पुलिस वाले बीच में दखल देने के लिए दौड़े तो भीड़ में से ही कोई आगे आया और हल्ला करने वालों को चुप कराया कि वे शांति पूर्वक प्रदर्शन करें और अपनी बात अफसरों को कहने के लिए चलें। पता लगा वे किसी के हत्यारे को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। हत्या का शिकार जरूर कोई व्यवसायी रहा होगा।


म पराठा गली से बाहर आए तब तक प्रदर्शन निपट चुका था। दुकानें खुलने लगी थीं, मुख्य सड़क पर ट्रेफिक चलने लगा था। चांदनी चौक की सड़क पर फिर से रेलमपेल हो चली थी। हम लाल किला दूर से देख पाए। वहीँ से अजय झा को फोन लगाया तो वे गांव से वापसी की यात्रा के लिए ट्रेन में सफर कर रहे थे।  हम मेट्रो से सीधे सैंट्रल सेक्रेट्रियट पहुँचे। अब इंडिया गेट हमारा गंतव्य था ।  हम ने चाहा कि वहाँ से इंडिया गेट तक पहुँचने तक कोई साधन मिल जाए। लेकिन कोई रिक्षा या आटो रिक्षा दिखाई नहीं दिया, जो भी थे सब भरे हुए। पूछने पर पता लगा पैदल ही जाना होगा। हम पैदल चल दिए। कोई पचास कदम बाद हम राजपथ पर थे। एक और राष्ट्रपति भवन और दूसरी ओर इंडिया गेट दिखाई दे रहा था। हम इंडिया गेट की ओर बढ़ चले। पैदल चलते चलते थकान तो हो गई थी, पर कदम नहीं रुके। शोभा कह रही थी -हम कम से कम दो किलोमीटर तो चल ही लिए होंगे।


दम रुके तो सीधे इंडिया गेट जा कर। हम नजदीक जाते उस से पहले ही फोटोग्राफरों ने हमें घेर लिया और चित्रों के लिए अनुरोध करने लगे। हमने उन्हें अनदेखा किया और खुद चित्र लेने लगे। इंडिया गेट को ठीक से निहार कर पीछे बनी छतरी तक गए जिस के आसपास बने पार्क में खूबसूरत फूल खिले थे। एक लड़का जो शायद माली रहा होगा। तभी छतरी पर चढ़ा और वहाँ कुछ देखने लगा। मुझे बुरा लगा कि वह वहाँ था और बीच-बीच में बीड़ी के कश ले रहा था। यूँ तो ऐसे सार्वजनिक स्थल पर धुम्रपान वर्जित ही होना चाहिए। कानून कुछ भी क्यों न कहता हो। लेकिन ऐसे राष्ट्रीय स्मारक पर उस की देखभाल के लिए ही सही चढ़े होने पर तो धुम्रपान करने जैसी यह हरकत बहुत ही नागवार लग रही थी।  मुझे लगा वह पूरे देश का अपमान कर रहा था। मैं वापस पिछली ओर जहाँ ज्योति जल रही थी आ कर खड़ा हो गया। वहाँ एक अभिभावक बच्चे को समझा रहा था। ज्योति के सामने निश्चल खड़ा सैनिक कोई प्रतिमा नहीं अपितु जीता जागता जवान है। वह लगातार निश्चल खड़ा था। हम वहाँ घंटे भर रहे लेकिन इस बीच हम ने उसे हिलते हुए न देखा।


म पैरों को आराम देने के लिए पास ही पार्क में बैठ गए, वहाँ से वातावरण को निहारते रहे। हम ने वहीँ कॉफी पी और  पूर्वा व शोभा के कुछ चित्र लिए जो मोबाइल से लिए जाने के बावजूद बहुत अच्छे निकले। सूरज इंडिया गेट के पीछे डूब रहा था। हम चल दिए। एम्स जाने वाली बस के लिए पूछताछ की जो पास ही यूपीएससी स्टॉप पर मिल गई। एम्स से फरीदाबाद  के लिए सीधी बस मिल गई। हम रात को नौ बजे के पहले पूर्वा के आवास पर थे।






Post a Comment