Tuesday, July 21, 2009

वर्जनाएँ अब नहीं -गीत * महेन्द्र 'नेह'

तनाव तो था काम का,  पर जुकाम होने की गाज गिरी आइस्क्रीम पर जो रविवार एक मित्र के सम्मान समारोह में खाई गई थी।  उसी जुकाम में कल काम करना पड़ा और आज भी अदालत जाना ही पड़ेगा, और कोई चारा नहीं है। रात को पंखे की हवा में सर्दी सी महसूस हो रही है। पंखा बंद करूंगा तो पत्नी जाग लेगी। मैं अपने ऑफिस में आ बैठा हूँ।  कुछ करने की स्थिति में नहीं। चलिए आप को महेन्द्र 'नेह' का का एक गीत पढ़ाते हैं........

वर्जनाएँ अब नहीं
  • महेन्द्र 'नेह'


आसमानों
अर्चनाएँ, वंदनाएँ अब नहीं

जिन्दगी अपनी
किसी की मेहरबानी भर नहीं
मौत से बढ़ कर 
कोई आतंक कोई डर नहीं

मेहरबानों याचनाएँ, दासताएँ अब नहीं

ये हवा पानी 
जमीने ये हमारे ख़्वाब हैं
ये गणित कैसी 
ये सब के सब तुम्हारे पास हैं

देवताओं 
ताड़नाएँ, वर्जनाएँ अब नहीं

जन्म से पहले
लकीरें हाथ की तय हो गईँ
इक सिरे से 
न्याय की संभावना गुम हो गई

पीठिकाओं 
न्यायिकाएँ, संहिताएँ अब नहीं।

************************                        
इस वृक्ष का नाम 'अब नहीं' (not now) है।

Post a Comment