Friday, December 26, 2008

मृग-तृष्णा ही मृग तृष्णाऐं !

 आज के आम मनुष्य को अपनी रोटी कमाने से ले कर जीवन स्तर पर टिके रहने के लिए जिस कदर व्यस्त रहना पड़ रहा है उस में कई सवाल खड़े होते हैं। क्या मनुष्य ने इतना ही व्यस्त रहने के लिए इतनी प्रगति की थी? इन्हीं प्रश्नों से जूझता है, महेन्द्र 'नेह' का यह गीत ....





'गीत'       
मृग-तृष्णा ही मृग तृष्णाऐं !    

दौड़, भोर से        
शुरू हो गई                       
हॉफ रहीं                           
बोझिल संध्याऐं !                        
मृग-तृष्णा ही मृग तृष्णाऐं !                   

तंत्र मंत्रों से तिलिस्मों से                   
बिंधा वातावरण                       
प्रश्न कर्ता मौन हैं    
हर ओर            
अंधा अनुकरण    
वेगवती है                           
भ्रम की आँधी                           
कांप रहीं                            
अभिशप्त दिशाऐं !                       
मृग-तृष्णा ही मृग तृष्णाऐं !                   

सेठ, साधु, लम्पटों के                    
एक से परिधान                       
फर्क करना कठिन है                    
मिट गई है इस कदर पहचान                
नग्न नृत्य                           
करती सच्चाई                           
नाच रहीं                           
अनुरक्त ऋचाऐं                       
मृग-तृष्णा ही मृग तृष्णाऐं !                   
Post a Comment