Sunday, January 13, 2008

खतरा ! किस किस को ? किस किस से?

जी हाँ। यह खतरा है। सावधान हो जाइये। जब भी कोई प्रस्ताव करे कि आप को सम्मानित किया जाए, तो तुरन्त सावधान हो जाइए। सम्मान की मांग करने वाला समझता है कि आप उस के लिए खतरा हैं। आप ने संन्यास ले लिया, फिर भी आप खतरा हैं। कब माया आप को खींच ले और आप संन्यास से वापस लौट आएं? संन्यास को पक्का करने के लिए, ज़रूरी है, आप का सम्मान होना। इस से संन्यास पक्का होता है। उसी तरह जैसे रंगे हुए कपड़े को नमक के घोल में खौला कर सुखा लेने के बाद उस का रंग पक्का हो जाता है।

आडवाणी ने कहा मैं नहीं मानता, वाजपेयी (अन्न से बना पेय पदार्थ सेवन करने का आदी) तब पुनः प्रधानमंत्री बनने के लिए तैयार नहीं हो जाएगा, जब लोग कहेंगे कि हम वाजपेयी के प्रधानामंत्रित्व को ही समर्थन दे सकते हैं। इसे नमक के घोल में
खौला कर सुखाओ।

नमक का घोल कहाँ है? भारत सरकार के गृह मंत्रालय के पास? वह कान में रुई दिए बैठा है।

इधर काँग्रेस में हल्ला हो गया। काँग्रेसी सोचने लगे सोनिया जी से किसे खतरा है? किसी को लगा, अभी सीपीएम से। वहाँ कौन? बुद्धदेव? वह पिट गया नन्दीग्राम में, उस ने अभी सन्यास भी नहीं लिया। उस का क्या खौलाएं नमक घोल में। तो फिर कौन? ज्योति बाबू? यह सही है। वे संन्यास के बाद भी खूब बोलते हैं। पुरानी गलती कभी भी सुधार सकते हैं। इन के संन्यास को डुबोना आवश्यक। मीडिया में स्टेटमेण्ट आ गया- ज्योति बाबू हमारी तरफ से लाइन में। लालू ने हाथ खड़ा कर समर्थन कर दिया। खौला ही दो। हम तो पहिले ही
खौला देना चाहते थे। अब कंधा लगाने वालों में नम्बर वन हो लूँ, बाकी देखा जाएगा।

माया ने अपना अवसर देखा। लोगों का ध्यान उन की ओर जा ही नहीं रहा है, आडवाणी,लालू नम्बर लगा चुके, मैं पीछे कैसे? रात को शमशान जगाया, गुरू का भूत हाजिर। जय गुरवैः नमः।

उत्तर। उत्तर। उत्तर। ये उत्तर वाले बड़े बदमाश हैं। दक्षिण की ओर झांकते ही नहीं,पक्का रंग तो दक्षिण में है। नमक घोल की कोई जरूरत ही नहीं। करुणानिधि को भूल गए। हल्ला शुरू। किसी और का नम्बर आया तो पाँच-दस अग्निदाह करवा देंगे।

अभी लिस्ट अधूरी है, और नाम आने बाकी हैं, नमक घोल में
खौलाने के लिए।
इस बीच सीपीएम ने लेनिन का पाठ पढ़ा ' एक कदम पीछे, दो कदम आगे' और पीछे हट गयी।
औरों के पास कोई लेनिन नहीं। पीछे कैसे हटें?

Post a Comment